पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एक-दूसरे से 30 सालों से दूर हैं सोनिया और मेनका

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नई दिल्ली. विधानसभा चुनाव के दौरान नई दिल्ली क्षेत्र में मतदान के लिए बुधवार को नेहरू-गांधी परिवार की दो बहुएं-सोनिया गांधी और मेनका गांधी निर्माण भवन पोलिंग बूथ पर दिखीं। सोनिया वोट डालने के लिए मेनका से पहले आ गई थीं। उनके साथ शीला दीक्षित भी थीं। दोनों आते ही लाइन में खड़ी हो गईं। बाद में एसपीजी ने सुरक्षा के नजरिए से सोनिया को लाइन से अलग हटकर सीधे बूथ के अंदर जाकर वोट डालने की गुजारिश की। इसके बाद सोनिया शीला को लेकर अंदर चली गईं
इसी बीच, सोनिया की देवरानी और संजय गांधी की विधवा मेनका गांधी भी वोट डालने आ गईं। उत्तर प्रदेश की आंवला लोकसभा क्षेत्र से सांसद मेनका वोट डालने के लिए लाइन में खड़ी हो गईं। थोड़ी देर बाद सोनिया शीला के साथ बूथ से बाहर आईं। इस दौरान मेनका और सोनिया के बीच कुछ कदमों का फासला था। सोनिया शीला के साथ अपनी उंगली पर लगी स्याही को मुस्कुराते हुए दिखाने लगीं। सोनिया कुछ सेकेंड वहां रुकीं और फिर चली गईं। लेकिन इस दौरान न तो सोनिया ने मेनका की तरफ देखा और न ही मेनका ने सोनिया की तरफ। साफ था कि दोनों के बीच दशकों पहले बनी दूरियां अब तक कम नहीं हुई हैं।
आगे की स्लाइड में पढ़िए, देश के सबसे ताकतवर राजनीतिक परिवार की दो बहुएं आखिर क्यों हुईं दूर: