पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Regular Service Will Not Be Two Years, Those Grade

दो साल रेग्युलर सर्विस नहीं करने वालों को नहीं मिलेगा ग्रेड-पे

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शिमला. प्रदेश के 85 हजार शिक्षकों को ग्रेड-पे लेने के लिए दो साल की रेग्यूलर सर्विस होना जरुरी है। यानी नियमित शिक्षक के पदोन्नत होने पर भी उसे ग्रेड-पे के लिए दो साल का इंतजार करना होगा। कांट्रेक्ट शिक्षक जब छह साल बाद नियमित होंगे, तो उनको ग्रेड-पे के लिए दो साल नियमित सेवा देने के बाद यह लाभ मिलेगा। इस तरह कॉन्ट्रेक्ट शिक्षकों को ग्रेड-पे आठ साल बाद ही मिल पाएगी। हिमाचल प्रदेश राजकीय अध्यापक संघ के प्रदेशाध्यक्ष पीआर सांख्यान ने आरोप लगाया कि अधिकारी इच्छा के अनुसार काम कर सरकार को गुमराह कर रहे हैं। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि ग्रेड-पे देने के निर्णय पर संशोधन नहीं किया गया, तो शिक्षक आंदोलन करेंगे। हिमाचल प्रदेश कॉलेज प्रवक्ता संघ के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. जोगिंद्र सकलानी ने कहा कि सरकार कॉन्ट्रेक्ट शिक्षकों की मांगों को गंभीरता से नहीं ले रही है। सरकार कॉन्ट्रेक्ट पर लगे शिक्षकों एवं कर्मचारियों से सौतेला व्यवहार कर रही है। ग्रेड-पे से किसे होगा कितना लाभ ग्रेड-पे से शिक्षकों को करीब 1000 रुपए से 1400 रुपए का मासिक लाभ मिलेगा। इसमें जेबीटी को 1200 रुपए, सीएंडवी को 1200 रुपए, टीजीटी को 1400 रुपए, लेक्चरर को 1200 रुपए और हेडमास्टर को 1000 रुपए का मासिक लाभ होगा। इसके लिए रेग्यूलर शिक्षक की दो साल की नियमित सेवा और कॉन्ट्रेक्ट शिक्षकों को छह साल बाद नियमित होने के बाद दो साल यह लाभ मिलेगा। संघों ने आंखें दिखाई हिमाचल प्रदेश स्कूल प्रवक्ता संघ के प्रदेशाध्यक्ष नरोत्तम ठाकुर ने ग्रेड-पे के लिए दो साल की शर्त लगाए जाने पर आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा कि इसी तरह कॉन्ट्रेक्ट शिक्षकों को भी इससे घाटा हुआ है। उन्होंने सरकार से ग्रेड-पे देने में दो साल की नियमित सेवा वाली शर्त को हटाने की मांग की है। शिक्षक संघों ने जल्द रणनीति बनाने की बात कही है। वे सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल सकते हैं। किस श्रेणी में कितने श्रेणी संख्या जेबीटी 30,000 सीएंडवी 16,000 टीजीटी 20,000 लेक्चरर 18,000 हेडमास्टर 850