• Hindi News
  • Six Thousand Teachers Will Be Difficult For State

प्रदेश के दुर्गम स्कूलों में रखे जाएंगे छह हजार शिक्षक

11 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शिमला। प्रदेश सरकार ने दुर्गम एवं कठिन क्षेत्रों में करीब 6 हजार शिक्षक रखने के लिए नीति तैयार कर ली है। इसके तहत पीरियड आधार पर देय राशि तय कर ली गई है। मासिक आधार पर शिक्षकों को उनकी श्रेणी के अनुसार 3500 रुपए से 6000 रुपए की ग्रांट-इन-एड देय होगी। इस नीति के आधार पर अब प्रदेश में पीटीए की बजाए स्कूल मैनेजमेंट कमेटी (एसएमसी) के माध्यम से स्कूलों में शिक्षकों को रखा जाएगा। यह पीटीए का ही दूसरा रूप होगा। शिक्षकों ने किया विरोध : शिक्षक संगठनों ने पीरियड आधार पर शिक्षक रखे जाने का विरोध किया है। हिमाचल प्रदेश राजकीय अध्यापक संघ के प्रदेशाध्यक्ष पीआर सांख्यान ने इस निर्णय को शिक्षक विरोधी करार दिया। शिक्षा मंत्री आईडी धीमान का कहना है कि सरकार शिक्षकों के खाली पदों को भरेगा। उन्होंने कहा कि इसके लिए सरकार ने नीति बनाई है। ऐसे होगी भर्ती भर्ती प्रक्रिया के लिए कमेटी का गठन किया गया है। इसके तहत स्कूल मैनेजमेंट कमेटी (एसएमसी) का प्रधान कमेटी का अध्यक्ष होगा। स्कूल का मुखिया एवं एसएमसी सदस्य सचिव, स्कूल से बाहर का विषय विशेषज्ञ एवं ऐसा वरिष्ठ शिक्षक जो नियमित आधार पर लगा हो कमेटी सदस्य होगा। शिक्षक नियमित नहीं है, तो साथ लगते स्कूल से शिक्षक को बुलाया जाएगा। कहां कितने पद श्रेणी संख्या पीजीटी 2000 टीजीटी 1500 सीएंडडी 2000 जेबीटी 500 मासिक ग्रांट-इन-एड श्रेणी राशि पीजीटी 6000 टीजीटी 6000 एलटी 4500 शास्त्री 4500 जेबीटी 3500 कितनी राशि देय श्रेणी राशि पीजीटी 100-150 टीजीटी 100 एलटी 75 शास्त्री 75 जेबीटी 75