देखें 150 साल पहले उज्जैन नगरी की दुर्लभ तस्वीरें...

10 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक








भोपाल। उज्जैन मध्य प्रदेश का एक प्रमुख धर्मस्थल है। क्षिप्रा नदी के किनारे बसा यह अत्यंत प्राचीन शहर है। विक्रमादित्य ने इसे राजधानी भी बनाया था। मौर्य साम्राज्य, गुप्त साम्राज्य और दिल्ली सल्तनत के बाद इस शहर पर मराठों का अधिकार हुआ।










1737 ई. में उज्जैन सिंधिया वंश के अधिकार में आया और 1880 ई. तक इनका एकछत्र राज रहा। इस दरम्यान उज्जैन का काफी विकास हुआ। वर्तमान में इस शहर में अनेक धार्मिक, पौराणिक एवं ऐतिहासिक स्थल हैं, जिसे देखने पर्यटक सालभर आते हैं। आज यह शहर पूरी तरह बदल चुका है। लेकिन क्या आपको पता है, लगभग 150 साल पहले यह शहर कैसा दिखता था?














हम आपके लिए लाए हैं 150 साल पुरानी उज्जैन नगरी की दुर्लभ तस्वीरें, तो वर्तमान में कहीं और देखने को नहीं मिलेंगी। उस समय इस शहर में क्षिप्रा नदी की महत्ता ही सबकुछ थी। आज भी ऐसी मान्यता है कि इस नदी में स्नान करने से सारे पाप धुल जाते हैं और रोग-व्याधियां भी पास नहीं फटकतीं।