पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आई खुशखबरी, अब नहीं करना होगा ग्रेजुएशन का इंतजार

10 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
इंदौर। सब कुछ ठीक रहा तो अगले शैक्षणिक सत्र (जुलाई 2012 - जून 2013) से 12वीं के बाद भी बीएड हो सकेगा। हालांकि यह नया इंटीग्रेटेड कोर्स चार साल का रहेगा और इसका नाम बीए एड और बीएससी एड होगा। बीएड कोर्स संचालित करने वाली एपेक्स बॉडी एनसीटीई (नेशनल काउंसिल फॉर टीचर्स एजुकेशन) इस पर काम कर रही है। अभी बीएड कोर्स (एक वर्षीय) में प्रवेश के लिए कम से कम स्नातक होना जरूरी है। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने यह जानकारी संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान लोकसभा में दी। मिशिगन यूनिवर्सिटी से था समझौता- विदेशों में टीजीटी की मांग को देखते हुए स्कूल ऑफ एजुकेशन ने वर्ष 2003-04 में अमेरिका की मिशिगन यूनिवर्सिटी से एक्सचेंज प्रोग्राम का समझौता किया था। दो साल तक मिशिगन यूनिवर्सिटी के छात्र इसके तहत इंदौर आते रहे। बाद में आर्थिक तंगी के चलते समझौता खत्म हो गया। ऐसे होगा कोर्स - 12वीं के बाद सीधे प्रवेश। - 3 प्लस 1 के आधार पर चार वर्षीय होगा। - प्रवेश नीति राज्य शासन तय करेगा। यह होगा लाभ - 12वीं के बाद चार वर्षीय कोर्स होने से गुणवत्तापूर्ण स्कूली टीचर तैयार होंगे। - यूएसए व कनाडा जैसे देशों में भी गणित व भौतिकी विषय के टीजीटी (ट्रेंड ग्रेज्युएट टीचर) की मांग की पूर्ति होगी। फैक्ट फाइल प्रदेश में बीएड कॉलेज- 360 सीट्स- करीब 35 हजार संभाग में बीएड कॉलेज- करीब 50 सीट्स- करीब ४५00