क्यों होती है डायबिटीज, इसके कई कारण हैं जनाब?

10 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक



इंदौर। जन्म से मृत्यु तक हम आहार लेते हैं। यह आहार दिखने में अलग-अलग डिशेस है लेकिन पेट में पहुंच जाने के बाद यही आहार काबरेहाइड्रेट, फैट एवं प्रोटीन का मिश्रण है।




इसके पाचन से ग्लूकोज बनता है एवं यह ग्लूकोज रक्त में पहुंचता है। यह ग्लूकोज शरीर का ईंधन है लेकिन इस ईंधन का इस्तेमाल तब ही हो सकता है जब यह रक्त में से शरीर की सेल्स में पहुंचे।





ग्लूकोज रक्त से सेल्स में इंसुलिन हार्मोन की मदद से ही पहुंच सकता है। इंसुलिन पेनक्रियाज में मौजूद बीटा सेल्स द्वारा बनाया जाता है। एक व्यक्ति में लगभग 15 करोड़ बीटा सेल्स होती हैं। जैसे ही भोजन आंतों में पहुंचता है, बीटा सेल्स को यह पता चल जाता है कि आंतों में कितना भोजन पहुंचा और इसके लिए कितने इंसुलिन की जरूरत पड़ेगी।







अब जैसे-जैसे ग्लूकोज रक्त में आता है, बीटा सेल्स जरूरत अनुसार इंसुलिन स्रावित करती रहती है। यह इंसुलिन ग्लूकोज को शरीर की सेल्स के भीतर पहुंचा देता है। इस तरह बीटा सेल्स जन्म से मृत्यु तक सतत कार्य करती है जिसके फलस्वरूप भोजन की मात्रा कितनी भी हो, शुगर का लेवल जीवनभर 60 से 140 मि.ग्रा. के बीच बना रहता है।





यदि बीटा सेल्स आवश्यक मात्रा में इंसुलिन नहीं बना पाए या इंसुलिन सेल्स पर ठीक से कार्य नहीं कर पाए तो ग्लूकोज रक्त में इकट्ठा होने लगता है और यही डायबिटीज है।





मैं शकर नहीं खाता, मिठाई छोड़ रखी है। फिर भी शुगर ज्यादा क्यों रहती है? - यदि हमारे शरीर में इंसुलिन कम बन रहा होता है तो मीठा न खाने पर भी ग्लूकोज बढ़ जाता है। हर भोजन में ग्लूकोज है एवं हर प्रकार के भोजन को इंसुलिन की जरूरत होती है। यदि इंसुलिन की कमी होगी तो शुगर ज्यादा रहेगी।





क्या नीम, करेले जैसी कड़वी चीजों से शुगर को बैलेंस किया जा सकता है? - जब तक यह ज्ञात नहीं था कि शुगर क्यों हो जाती है, तब तक यह मानव की स्वाभाविक सोच से उपजी धारणा थी। शुगर को बैलेंस करने के लिए कड़वी चीजों के स्थान पर शरीर को इंसुलिन बनाने की जरूरत होती है।





काम की बात - इंसुलिन हार्मोन शुगर के लेवल को तय करता है। - इंसुलिन को बीटा सेल्स बनाती है एवं हमारे शरीर में लगभग 15 करोड़ बीटा सेल्स होती हैं। - इंसुलिन की कमी या इंसुलिन की सक्रियता में कमी से डायबिटीज होती है। - प्रतिदिन हमारे शरीर में लगभग 40 से 80 यूनिट इंसुलिन बनता है।