सरकार का नया कानून: 24 घंटे में कभी भी देख सकेंगे फिल्म, कर पाएंगे शॉपिंग

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नई दिल्ली. मोदी सरकार जल्द ही एक नया कानून ला रही है। जिसके बाद दिन हो या रात आप फुल इंटरटेंमेंट और शॉपिंग कर पाएंगे। प्रस्ताविक कानून के मुताबिक, देश के सभी मॉल, थियेटर और रेस्त्रां को 24*7 खोला जा सकेगा। कानून पास होने के बाद राज्य सरकारें चाहें तो इसे लागू कर सकती हैं। लेवर सेक्रेटरी ने कानून पर ये कहा...
- आदर्श कानून पर लेवर सेक्रेटरी शंकर अग्रवाल ने कहा, ''हम आदर्श कानून तैयार कर रहे हैं। इसके लिए लेवर मिनिस्ट्री की तरफ से कोई पाबंदी नहीं होनी चाहिए। इसे लागू करने या न करने की छूट राज्यों को होगी।''
- उन्होंने कहा- ''हम प्रस्तावित आदर्श कानून 2 हफ्ते में कानून मंत्रालय के पास भेजेंगे। इसके बाद ये मंत्रिमंडल तक पहुंचेगा। एक से डेढ़ महीने में कानून राज्यों तक पहुंच जाएगा।''
क्यों बनाया जा रहा है कानून?
- इसके लिए संसद में कानून पारित करने की जरूरत नहीं है। केंद्र सरकार आदर्श विधेयक का एक मसौदा बनाना चाहती है।
- ये मोदी सरकार की पूरे देश को एक बाजार बनाने की योजना का हिस्सा है। जिससे कानूनी प्रावधानों में समानता आएगी।
ऐसे कम होगी बेरोजगारी?
- अफसरों की मानें तो इससे रोजगार बढ़ेगा और महिलाओं का भी सशक्तिकरण होगा।
- आदर्श कानून से देश के 10,200 सिंगल-स्क्रीन सिनेमा हॉल, 600 से ज्यादा मॉल्स और दो लाख रेस्त्रां को लाभ मिलेगा।
- इसके साथ ही 24 घंटे खुले मॉल्स और थियेटर खुलने से लाखों लोगों के लिए रोजगार के मौके भी बढ़ेंगे।
महिलाओं को नाइट शिफ्ट की आजादी
- अधिकारियों की मानें तो फिलहाल मॉल्स, थियेटर और रेस्त्रां खुलने की टाइमिंग सभी राज्यों में अलग-अलग है।
- कई राज्यों में वीकली ऑफ और पब्लिक हॉलीडे भी अलग-अलग होते हैं। नए कानून में इसकी आजादी होगी।
- आदर्श कानून में महिलाओं को भी नाइट शिफ्ट में काम करने की छूट होगी। साथ ही प्रमोशन, ट्रांसफर और लैंगिक भेदभाव खत्म होंगे।
खबरें और भी हैं...