• Hindi News
  • Diplomat Raped Three year Old Innocent Daughter

तीन साल की मासूम बेटी से दुष्कर्म करता था राजनयिक!

10 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बेंगलुरू. फ्रांसीसी वाणिज्य दूतावास के अधिकारी पास्कल मजूरियर पर अपनी तीन साल की बेटी से दुष्कर्म का आरोप लगा है। उसकी पत्नी सुजा जोंस ने शुक्रवार को बेंगलुरू के एक पुलिस स्टेशन में इसकी शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस ने मामले में धारा-376 के तहत एफआईआर दर्ज की है। पास्कल को हिरासत में लेकर मेडिकल परीक्षण के लिए शहर के बॉवरिंग हॉस्पिटल भेजा गया है। सुजा की शिकायत के मुताबिक उनकी बच्ची दो साल की उम्र से पिता की हरकतों के संबंध में संकेत दे रही थी। शुरू में उन्होंने इस पर ध्यान नहीं दिया। लेकिन बाद में उसने मल-मूत्र त्याग करते हुए तकलीफ होने की शिकायत की। आशंकाओं के आधार पर उन्होंने ऐसे मामलों में काउंसलिंग करने वाले 'परिवर्तन' नामक संगठन से मशविरा किया। उनके मुताबिक संगठन के काउंसलर ने उन्हें बच्ची का मेडिकल परीक्षण कराने की सलाह दी। इसके बाद डॉक्टर शैब्या सलदान्हा से परीक्षण कराया। उन्होंने छह जून 2012 को दी रिपोर्ट में बच्ची से दुष्कर्म की पुष्टि की। शहर के बैपटिस्ट हॉस्पिटल की डॉ. माधुरी और डॉ. नलिनी ने भी परीक्षण किया। उन्होंने भी अपनी रिपोर्ट में बच्ची से प्राकृतिक-अप्राकृतिक दुष्कर्म की पुष्टि की। सुजा ने बच्ची के मेडिकल परीक्षणों की रिपोर्ट भी पुलिस को दी है। उन्होंने अपनी शिकायत में खुद के साथ ही बच्चों की जान को खतरा भी बताया है। बेंगलुरू सेंट्रल के पुलिस उपायुक्त बीआर रविकांत गौड़ा ने बताया कि पुलिस ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है। उनके मुताबिक पास्कल को राजनयिक संरक्षण प्राप्त है। इसलिए उसे गिरफ्तार नहीं किया जा सकता। राजनयिक संरक्षण गिरफ्तारी में बाधा फ्रांस के वाणिज्य दूतावास के अधिकारी पास्कल को राजनयिक संरक्षण हासिल है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मंजूर विएना कन्वेंशन ऑन डिप्लोमेटिक इम्युनिटी (1961) के तहत दूतावासों/उच्चायोगों के अधिकारियों को यह सुविधा मिलती है। इसके तहत जिस देश में वे अधिकारी पदस्थ हैं वहां उन पर किसी भी अपराध के लिए मुकदमा नहीं चल सकता। उन्हें गिरफ्तार भी नहीं किया जा सकता। संबंधित देश की सरकार आरोपी राजनयिक को निष्कासित कर उसे उसके मूल देश वापस जरूर भेज सकती है। बारह साल पहले हुई थी शादी फ्रांसीसी नागरिक सुजा और पास्कल की शादी 2001 में हुई थी। उनके तीन बच्चे हैं। वे 2008 से भारत में रह रहे हैं। जिस बच्ची से दुष्कर्म की शिकायत सुजा ने की है वह इनकी दूसरे नंबर की बेटी है। संरक्षण हटाए फ्रांस सरकार: सुजा सुजा ने अपनी शिकायत में फ्रांस सरकार से अपील की है कि वह पास्कल को दिया गया राजनयिक संरक्षण हटा ले। जिससे कि इस जघन्य अपराध के लिए उसे कठोर सजा दी जा सके। कर्नाटक महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष प्रमिला नेसरगी ने भी ऐसी ही अपील की है। सुजा की वकील गीता मेनन ने बताया कि वाणिज्य दूतावास के अधिकारियों ने उन्हें इस केस में पूरी मदद का आश्वासन दिया है।