वीडियो: 'प्रेम' के इस 'नग्न' रूप को देख बंद कर लेंगे आंखें!

10 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
निस्वार्थ भाव से चाहत को प्रेम की संज्ञा दी गई है। कहा गया है कि "प्रेम प्रेम सब कोई कहे, प्रेम ना जाने कोय, ढाई अक्षर प्रेम को पढे से पंडित होय"। पर आज प्रेम की परिभाषा बदल चुकी है। प्रेम का रूप बदल चुका है। कम से कम इस वीडियो को देख कर ऐसा ही लगता है। इस वीडियो में प्रेम के ऐसे रूप को दर्शाया गया है जो कि वीभत्स है। इसमें लोकलाज को परे रख कर अपनी वासना की पूर्ति की कोशिश की गई है। क्या कुछ लोगों ने समाज में प्रेम के निच्छल और पवित्र रूप को बिगाड़ नहीं दिया है। इस दृश्य को देख कर तो कुछ ऐसा ही लगता है। प्रसिद्ध धार्मिक गुरू ओशो कहते हैं कि कामवासना प्रेम का ही एक अंश है। प्रेम उसे सौंदर्य देता है। लोग अंधकार में कामवासना की तरफ बढ़ते हैं। पशु दिन में कामवासना में लिप्त दिखते हैं। पर आज इस सिद्धान की भी तिलांजलि दी जा चुकी है। प्रेमी जोड़े सार्वजनिक स्थलों पर पशुओं की तरह वासना सहित कुछ यूं प्रेम क्रीडा करते हुए दिख जाते हैं।