पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राहुल का पहला इंटरव्यू: बोले- पार्टी जो जिम्‍मेदारी देगी, वो निभाऊंगा

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

नई दिल्ली. 43 साल की उम्र के राहुल गांधी मानते हैं कि देश की बहुत बड़ी युवा आबादी को उनके सपने पूरे करने के लिए रोजगार मुहैया कराना, उसके लिए पर्याप्त इन्फ्रास्ट्रक्चर के साथ विकास की दर को बढ़ाना तो जरूरी है ही लेकिन इसके साथ-साथ यह और भी जरूरी है कि देश के हर व्यक्ति के सिर पर छत हो, खाने के लिए पर्याप्त भोजन हो, सुरक्षा हो और समाज में आपसी सामंजस्य हो। वे बताते हैं- इसी सपने को लेकर मैं राजनीति में उतरा और इसी सपने को पूरा करने के लिए मैं पार्टी में एक व्यवस्था कायम करना चाहता हूं। जिसके तहत हर व्यक्ति को उसकी काबिलियत के आधार पर मौका मिले और उसे अपनी जिम्मेदारियों का अहसास रहे।

मेरा फोकस देश के लिये एक लॉन्ग टर्म विज़न पर है। जहां सभी भारतीयों को बराबर आजादी, सम्मान और अवसर मिलें। ऐसा भारत जहां लड़कियों के साथ भेदभाव न हो। इसके लिए हमें अपने गवर्नेंस सिस्टम को सुधारना होगा। सरकार को गरीबों के दरवाजे पर जाना होगा। सिविल सर्विस और कानूनी व्यवस्था में परिवर्तन जरूरी हैं। सरकार को ईमानदार होना होगा। भ्रष्टाचार के लिए जीरो टॉलरेंस होना चाहिए।

देश के किसी भी समाचार-पत्र को दिया गया उनका यह पहला इंटरव्यू है। दैनिक भास्कर समूह के नेशनल एडिटर कल्पेश याग्निक से हुई उनकी विशेष बातचीत के अंश...

सवाल : क्या प्रधानमंत्री पद की जिम्मेदारी लेंगे?

जवाब : हम एक लोकतांत्रिक संगठन हैं। हमें लोकतंत्र में विश्वास है। भारत की जनता अपने चुने हुये प्रतिनिधियों के द्वारा ये तय करेगी कि इस देश का प्रधानमंत्री कौन होगा। देश के हित में कांग्रेस का सत्ता में आना जरूरी है। और उसके लिए संगठन ने जो जिम्मेदारी दी है या जो भविष्य में देगी, उसे मैं पूरी निष्ठा के साथ निर्वाह करूंगा।

सवाल : माना जा रहा है कि कांग्रेस से अब मैदानी संघर्ष नहीं हो रहा है। सांसद-विधायक मैदान में नहीं जाते?

जवाब : नहीं, ऐसा नहीं है। यह बहुत बड़ा जनरलाइजेशन है। कांग्रेस में बहुत योग्य लोग हैं। जमीन से जुड़े लोग हैं। सांसद-विधायक फील्ड में नहीं जाते, इस बात से भी मैं सहमत नहीं हूं। पार्टी से युवाओं को जोडऩे की जरूरत है। हमने पिछले सालों में इसमें काम किया है। और आगे भी करेंगे।

सवाल : आप कह रहे हैं कि आम आदमी पार्टी से सीखेगी कांग्रेस?

जवाब : कांग्रेस पार्टी एक मजबूत और गतिशील संगठन है। कांग्रेस ने पहले भी देश की राजनीति के स्वरूप को बदला है और आगे भी बदलेगी। जबसे मैं राजनीति में आया हूं तबसे हम यह सब बातें उठाते रहे हैं। इसमें से कुछ चीजें आम आदमी पार्टी ने अमल की हैं। पर हमारा और उनका रवैया अलग-अलग है। मैं उनके कई तरीकों से सहमत नहीं हूं। हमारे निर्णय लोगों के हित में शार्ट टर्म गेन के बजाए उनके सुरक्षित भविष्य को देखकर होने चाहिए।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें -राहुल का पूरा इंटरव्यू