• Hindi News
  • The Teachers Were Found Absent During Inspection

117 स्कूलों में छापे, तीस अध्यापक गैर हाजिर

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

होशियारपुर. डायरेक्टर जनरल आफ स्कूल एजुकेशन काहन सिंह पन्नू व 12 मुख्य दफ्तर सर्कल व जिला स्तर की निरीक्षण टीमों की छापामारी में शनिवार को होशियारपुर जिले की शिक्षा व्यवस्था की पूरी तरह पोल खुल गई है। जिले के कुल 117 स्कूलों में शनिवार को टीमों की ओर से की गई छापेमारी में 30 अध्यापक गैरहाजिर पाए गए, वहीं 60 अध्यापक स्कूल समय से लेट मिले।

इतना ही नहीं जिले के 6 अध्यापक लंबे समय से छुट्टी पर होने के कारण उनका कोई अता पता नहीं मिला। डीजीएसई के दौरे की खबर से अध्यापकों में दिन भर हड़कंप की स्थिति बनी रही। जिले में दिनभर छापेमारी अभियान के बाद दोपहर बाद साढ़े तीन बजे डीजीएसई काहन सिंह पन्नू ने होशियारपुर के स्थानीय होटल में जिला शिक्षा अफसर, ब्लाक शिक्षा अफसर व जिले के सभी सरकारी स्कूलों के हैडमास्टरों व प्रिंसिपलों की मीटिंग ली।

इस मौके पर डीजीएसई के साथ स्टेट अस्सिटेंट, स्टेट प्रोजेक्ट डायरेक्टर (निरीक्षण) सतपाल शर्मा के अलावा अमृतसर की डीईओ संदीप कौर, होशियारपुर की डीईओ सुखविंदर कौर व रामपाल सिंह, इंद्रजीत सिंह, अंकुर शर्मा, बलजिंदर सिंह, प्रवीण कुमार, लोकेश शर्मा, राजेश्वर सिंह, जिला साइंस सुपरवाइजर हरकंवल सिंह आदि भी मौजूद थे। डीजीएसई केएस पन्नू ने बताया कि होशियारपुर के सरकारी सीसे स्कूल घंटाघर, रेलवे मंडी, कमालपुर, चौहाल, ढड्डेफतेह सिंह व टांडा के सरकारी सीसे स्कूल(लड़के) की कार्यगुजारी बेहतर पाई गई है।

अकालगढ़ के स्कूल को मिलेगा प्रशंसा-पत्र
डीजीएसई काहन सिंह पन्नू ने बताया कि जिले के पांच स्कूलों में उसने स्वयं निरीक्षण किया है। निरीक्षण के दौरान अकालगढ़ के स्कूल का काम सबसे बढिय़ा पाया गया, वहीं सबसे खराब हाल हाजीपुर के सीनियर सेकेंडरी स्कूल का पाया गया, जहां 10 अध्यापक ऐबसेंट पाए गए। डीजीएसई ने बताया कि अकालगढ़ स्कूल को विभाग की तरफ से जल्द ही प्रशंसा पत्र दिया जाएगा।

जवाबतलबी की हिदायत
डीजीएसई ने जो अध्यापक गैर हाजिर पाए है,ं उनसे जवाब तलबी करने की हिदायत दी है, वहीं जो अध्यापक लेट मिले उन्हें चेतावनी पत्र और जो अध्यापक लंबे समय
से गैर हाजिर पाए गए उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई आरंभ करने की हिदायत भी दी है।

कई स्कूलों में कमियां तो कई में मिली खूबियां
छापामारी के दौरान डीजीएसई टीम को कई स्कूलों में कमियां मिलीं, जैसे विद्यार्थियों की हाजिरी कम होना, सफाई प्रबंध ठीक न होना, शौचालय बुरे हालत में पाए गए व विद्यार्थियों में विषयों की पढ़ाई का स्तर काफी नीचे पाया गया। डीजीएसई ने स्कूल मुखियों व अधिकारियों को हिदायत दी कि वह स्कूलों में पेश आ रही कमियों को तुरंत दूर करें।

20 को वार्षिक उत्सव मनाएं

डीजीएसई ने कहा कि 20 फरवरी को राज्य के सभी प्राइमरी स्कूलों में वार्षिक उत्सव मनाया जाए। समय पर स्कूल मैगजीन निकालें व नजदीक यदि कोई धार्मिक स्थल है, तो उन्हें प्यार से समझाएं कि लाउडस्पीकर न बजाएं। स्कूल में मिड डे मील में कोई कोताही बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।