• Hindi News
  • Did Not Stop The Offensive On The CD Will Be At Ri

सिंघवी की आपत्तिजनक सीडी, प्रसारण पर रोक

10 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

जयपुर/नई दिल्ली.राजस्थान से राज्यसभा के लिए हाल ही निर्वाचित कांग्रेस नेता और वकील अभिषेक मनु सिंघवी की कथित सीडी बाजार में आई है। दिल्ली हाईकोर्ट ने इस सीडी के प्रसारण पर रोक लगा दी है। इस मामले में कोर्ट ने एक प्रमुख मीडिया हाउस को पाबंद किया है। अगली सुनवाई 21 मई को होगी। जस्टिस रेवा खेत्रपाल के मुताबिक अगली सुनवाई तक मीडिया हाउस, उनके एजेंट व मीडिया हाउस से जुड़े अन्य लोग इस सीडी के बारे में न छाप सकते हैं और न ही उसे प्रसारित कर सकते हैं। इसके अलावा कथित सीडी के अंश भी ट्रांसफर नहीं किए जा सकते।

सीडी कांड में ड्राइवर की भूमिका

सिंघवी और उनके मित्र अभिमन्यु भंडारी ने सीडी पर रोक के लिए याचिका दायर की थी। इस कथित सीडी कांड में सिंघवी के पूर्व ड्राइवर की भूमिका बताई जा रही है। कोर्ट के मुताबिक यदि इस सीडी के कंटेट पर इस तरह की रोक न लगाई गई तो सिंघवी की प्रतिष्ठा और साख को खतरा है। 21 मई को इसकी सुनवाई होगी जिसके लिए मीडिया हाउस और सिंघवी के पूर्व ड्राइवर को नोटिस भेजा गया है।

छेड़छाड़ करके बनाई गई है सीडी : सिंघवी

याचिका में सिंघवी ने कहा है कि उन्हें कुछ राजनेताओं से पता चला है कि एक मीडिया हाउस के पास उनकी कथित सीडी है। यह सीडी जाली है। इसे मॉर्फ व फेब्रिकेट किया गया है। इसे टेलीकास्ट या ब्राडकास्ट करने का कोई भी कदम सिंघवी के प्रतिष्ठा के अधिकार का हनन होगा।

जोधपुर के रहने वाले हैं अभिषेक सिंघवी

सिंघवी पहली बार 4 अप्रैल 06 से 3 अप्रैल 2012 तक राज्यसभा सदस्य रहे। हाल ही दोबारा निर्वाचित हुए हैं। बीते दिनों वे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बदलाव को लेकर दिए गए बयान से चर्चा में आए थे। सिंघवी मशहूर संविधानविद लक्ष्मीमल सिंघवी के बेटे हैं और मूल रूप से जोधपुर के हैं। वे राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर की दसियों समितियों के सदस्य हैं।