पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Board Exam: 9 Languages ​​may Not Allow A Third Language As A Candidate

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बोर्ड परीक्षा: 9 भाषाओं को तृतीय भाषा के रूप में नहीं ले सकेंगे परीक्षार्थी

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अजमेर.राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षाओं से दक्षिण और उत्तर-पूर्वी राज्यों की भाषाएं बाहर कर दी गई हैं। इन राज्यों की भाषाएं परीक्षार्थी तृतीय भाषा के रूप में नहीं ले सकेंगे। बोर्ड की 2013 की परीक्षा से तमिल और मलयालम भाषाओं के पेपर भी हटा दिए गए हैं। अब केवल उत्तर भारत के राज्यों में बोली जाने वाली भाषाएं ही तृतीय भाषा के रूप में ली जा सकेंगी।
तमिलनाडु, केरल, पश्चिम बंगाल, असम और उड़ीसा आदि राज्यों में बोली जाने वाली भाषाएं किसी जमाने में बोर्ड की परीक्षाओं में तृतीय भाषा के रूप में चलती थीं। लेकिन अब बोर्ड ने इन्हें अपने पाठ्यक्रम से हटा दिया है। इनकी परीक्षाएं भी आयोजित नहीं होंगी। ताजा निर्णय बोर्ड ने तमिल और मलयालम भाषाओं को पाठ्यक्रम से बाहर करने का लिया है।
केवल पांच भाषाओं के ही होंगे पेपरबोर्ड की 2013 की परीक्षाओं में तृतीय भाषा के रूप में परीक्षार्थियों से केवल पांच भाषाओं के लिए आवेदन मांगे गए हैं। इनमें संस्कृत, उर्दू, गुजराती, सिंधी और पंजाबी भाषा शामिल हैं। ये वे भाषाएं हैं जो उत्तरी राज्यों में बोली व पढ़ी जाती हैं। बोर्ड ने तमिल और मलयालम समेत 9 भाषाओं के लिए आवेदन नहीं मांगे हैं।
पिछले अधिवेशन में लिया था फैसला
बोर्ड सूत्रों के मुताबिक बोर्ड प्रबंध मंडल के पिछले अधिवेशन में 2013 की परीक्षाओं से तमिल और मलयालम भाषाओं को हटाने का निर्णय कर लिया है। इसे देखते हुए ही इस बार बोर्ड की ओर से 2013 की परीक्षाओं के लिए भरवाए गए ऑन लाइन आवेदन में इन भाषाओं को भी तृतीय भाषा के विकल्प के रूप में नहीं दिया गया।
यह है तर्क
बोर्ड ने इन भाषाओं के पाठ्यक्रम से बाहर करने के पीछे तर्क दिया है कि गत 3 साल से इन पाठ्यक्रमों में एक भी परीक्षार्थी का आवेदन पत्र नहीं मिल रहा था। बेवजह ही पाठ्यक्रम में शामिल करने से कोई फायदा भी नहीं। बोर्ड की 10 वीं कक्षा में एक पेपर तृतीय भाषा का भी होता है। इस पेपर के लिए परीक्षार्थी अपनी पसंद के मुताबिक इनमें से किसी एक भाषा का चयन करता है।
घट रही थी संख्या
'प्रबंध मंडल ने 10 वीं कक्षा में तृतीय भाषा की परीक्षा के लिए तमिल व मलयालम विषयों की परीक्षा में परीक्षार्थियों की न्यून संख्या होने के कारण इनके आयोजन को वर्ष 2013 से समाप्त कर दिया है।'
डॉ. सुभाष गर्ग अध्यक्ष
राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड
पहले ये सात भाषाएं भी थीं
बोर्ड की वेबसाइट पर जारी पाठ्यक्रम में वर्तमान में परीक्षा संचालित नहीं होने वाले विषयों में बंगला, असमिया, कश्मीरी, मराठी, कन्नड़, उड़िया और तेलुगू भाषाओं की परीक्षा संचालित नहीं करने की जानकारी दी गई है। ।बोर्ड सूत्रों का कहना है कि ये भाषाएं बोर्ड पहले ही पाठयक्रम से बाहर कर चुका है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- ग्रह स्थिति अनुकूल है। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और हौसले को और अधिक बढ़ाएगा। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी काबू पाने में सक्षम रहेंगे। बातचीत के माध्यम से आप अपना काम भी निकलवा लेंगे। ...

और पढ़ें