पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • The Board Postponed More Than 300 Experimental Tes

बोर्ड की 300 से अधिक प्रायोगिक परीक्षाएं स्थगित

10 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अजमेर.राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की सीनियर सेकंडरी की अब तक 300 से अधिक प्रायोगिक परीक्षाएं स्थगित हो चुकी हैं। इनमें से 100 से अधिक प्रेक्टिकल भूगोल विषय के हैं। बोर्ड अब सैद्धांतिक परीक्षा के बाद इन स्थगित प्रायोगिक परीक्षाओं को कराने पर विचार कर रहा है। बोर्ड की ओर से सीनियर सेकंडरी के नियमित परीक्षार्थियों की प्रायोगिक परीक्षाएं 20 जनवरी से शुरू हो गई थीं। प्रदेश में करीब 10 हजार स्कूलोंे में ये प्रायोगिक परीक्षाएं कराई जा रही हैं। बोर्ड की ओर से पूर्व में 21 फरवरी तक ये प्रायोगिक परीक्षाएं संपन्न कराई जानी थीं, लेकिन अब इनकी तिथि 29 फरवरी तक बढ़ा दी है। बोर्ड को सबसे अधिक परेशानी भूगोल विषय की प्रायोगिक परीक्षा में आ रही है। प्रदेश भर में इस विषय के गिने-चुने ही अध्यापक बताए जा रहे हैं। संबंधित स्कूलों में बोर्ड और जिला शिक्षा अधिकारियों ने प्रायोगिक परीक्षा की तिथि तय कर ली। लेकिन बिना एक्जामिनर के प्रेक्टिकल कैसे कराएं। मामले की गंभीरता को देखते हुए बोर्ड अब तक 100 से अधिक प्रायोगिक परीक्षाएं स्थगित करा चुका है। अन्य समस्याएं भी कम नहीं झुंझुनूं में एक रिटायर्ड प्राध्यापक को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो द्वारा प्रायोगिक परीक्षा में अच्छे अंक देने के मामले में रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया जा चुका है। इसके चलते यहां की प्रायोगिक परीक्षा स्थगित करनी पड़ी। अजमेर के सेंट जोसफ स्कूल में भी परीक्षक ने रिश्वत मांगी। यहां भी बोर्ड ने प्रायोगिक परीक्षा स्थगित की। कुछ मामले टोंक, सीकर, जोधपुर समेत विभिन्न जिलों के भी आए। बोर्ड की गोपनीय शाखा पहुंचे आंकड़ों के मुताबिक अब तक 300 से अधिक प्रायोगिक परीक्षाएं स्थगित हो चुकी हैं। सैद्धांतिक परीक्षा से पूर्व मुश्किल बोर्ड सूत्रों के मुताबिक बोर्ड यह प्रयास कर रहा है कि इनमें से कुछ प्रायोगिक परीक्षाएं सैद्धांतिक परीक्षा से पूर्व करा लें। लेकिन यह संभव लग नहीं पा रहा है। विद्यार्थियों की बढ़ी मुश्किलें इधर जिन विद्यार्थियों की प्रायोगिक परीक्षाएं स्थगित हो गई हैं, उनकी परेशानी बढ़ गई है। वे मानसिक दबाव का शिकार हो गए हैं। प्रायोगिक परीक्षाएं हो चुकी होतीं, तो विद्यार्थियों का पूरा फोकस सैद्धांतिक परीक्षा की तैयारी पर होता। अब दोनों ही दिशा में विद्यार्थियों को अपना ध्यान बंटाना पड़ रहा है। "प्रदेश के विभिन्न जिलों में अनेक प्रायोगिक परीक्षाएं विभिन्न कारणों से स्थगित करनी पड़ी हैं। अभी इनके पुन: कराने के संबंध में तिथि तय नहीं हुई है, लेकिन सैद्धांतिक परीक्षाओं के बाद ही कराने पर विचार किया जा रहा है।" मिरजूराम शर्मा, सचिव, राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड