पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वाह रे उप्र की सरकार, प्रेम विवाह के‍ खिलाफ आजम खान !

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

बागपत/चंडीगढ़/नई दिल्ली।बागपत की एक ग्राम पंचायत ने एक फरमान जारी कर प्रेम विवाह पर प्रतिबंध लगा दिया। महिलाओं के लिए कुछ शर्तें तय कर दीं। केंद्रीय गृहमंत्री पी. चिदंबरम ने कहा कि यह 'फरमान' गैरकानूनी है। लोकतांत्रिक समाज में फतवों, फरमानों और ड्रेस कोड के लिए कोई जगह नहीं है। बागपत के रमाला इलाके की असरा ग्राम पंचायत ने बुधवार को विवादित फैसले लिए थे।

ग्रामीणों का दावा है कि सभी समुदायों ने सर्वसम्मति से यह फैसले लिए हैं। लेकिन उत्तरप्रदेश के मंत्री मोहम्मद आजम खान को इस फैसले में कुछ गलत नहीं दिखता। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में सभी को अपनी बात कहने का हक है। पुलिस ने पंचायत के फैसले के सिलसिले में दो ग्रामीणों मुजाहिद और मोकिम को बुलाया था। इससे आक्रोशित गांव वालों ने रास्ता बंद कर दिया। जिसे खाली कराने गए दो पुलिसकर्मियों को पीटा। उनकी मोटरसाइकिलों में आग लगा दी।

राज्य महिला आयोग ने जिला प्रशासन से पंचायत के फरमान पर रिपोर्ट तलब की है।

यह है फरमान


प्रेम विवाह करने वालों को गांव से निकाल दिया जाएगा।

40 साल से कम उम्र की औरतें खरीदारी करने घर से बाहर नहीं निकलेंगी।

घर से बाहर मोबाइल पर बात नहीं करेंगी। यदि निकलना पड़ा तो उनका सिर ढंका होना चाहिए।


Related Articles:

मैं मोबाइल कंपनी का एजेंट नहीं: आजम खां, तालिबानी फरमान को बताया घरेलू मामला
'तब आजम थे चैंपियन और मैं राजनीति में रेंगता था'
'लड़की के कपड़े फाड़ने वालों में पत्रकार और कांग्रेसी नेता का हाथ'



छात्रा को पेशाब पिलाने के मामले में मनमोहन सिंह को नोटिस !



तलाशी के नाम पर सबके सामने छात्रा के कपड़े उतारे