• Hindi News
  • Protection Of Children From Sexual Offence Act Applied In Uttar Pradesh

यूपी में नाबालि‍ग बच्‍चों का प्राइवेट पार्ट भी छुआ, तो होगी जेल

10 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ. बलात्‍कार करने पर तो सजा तय ही है, पर अब यूपी में बच्‍चे बच्‍चि‍यों के प्राइवेट पार्ट छूने पर जेल होगी। प्रदेश में 'प्रोटक्‍शन ऑफ चिल्‍ड्रन फ्राम सेक्‍सुअल ओफेंस एक्‍ट-2012' लागू कर दिया गया है। शासन ने इसका सर्कुलर सभी पुलि‍स अधीक्षकों को भेज दि‍या है। साथ ही उन्‍हें हि‍दायत दी है कि नाबालिगों के साथ यौन उत्‍पीड़न के मामलों में आईपीसी की धारा के साथ ही साथ इस एक्‍ट को भी लगाया जाये साथ ही कार्यशाला कर अधिनस्थों को इसकी जानकारी दी जाए। (पढ़िए, शाहजहां को कोई हक नहीं था ताजमहल बनवाने का: आजम खान)
दिल्‍ली में दामि‍नी के साथ हुए गैंगरेप केस के बाद से ही यूपी सरकार लगातार कड़ी कार्रवाई करने की बात कर रही थी। इसकी तैयारी पूरी हो गई है। अब प्रदेश में नाबालि‍ग के प्राइवेट पार्ट्स भी छुए तो जेल भेज दि‍या जाएगा। इस कानून के तहत 18 साल से कम उम्र के लोग नाबालिग माने जायेंगे। नाबालिग से बलात्‍कार की सजा 7 साल से लेकर आजीवन कारावास तक होगी। अगर गैंगरेप, हथियार दिखाकर या फिर पोर्न फिल्‍म दिखाकर रेप होता है तो 10 साल की सजा या फिर उम्रकैद का प्रावधान होगा। नाबालिग लड़कियों से पुरुष पुलि‍सकर्मी पूछताछ नहीं कर पाएंगे, उनके लि‍ए अलग से महि‍ला पुलि‍सकर्मी होंगी।
नए सर्कुलर में कहा गया है कि‍ बलात्‍कार के बाद पीडि़ता से ऐसा कोई सवाल नहीं पूछा जायेगा जिससे उसे शर्मिंदगी महसूस हो। मामले की सुनवाई बंद कमरे में होगी और ट्रायल के दौरान दोनो पक्ष के वकील मौजूद रहेंगे।

सोमवार (28 जनवरी) की कुछ प्रमुख खबरें -

कसाब को फांसी के खिलाफ थे सोनिया की टीम के दो सदस्‍य!

सचिन की मुंबई 40वीं बार रणजी चैंपियन, सौराष्ट्र को पारी से रौंदा

मायावती के भाई को किसने दिए 760 करोड़ कैश?

कुत्‍तों के साथ खेल रहे हैं रतन टाटा, रिटायरमेंट के बाद की जिंदगी के बारे में बताया

कॉलेज के बुजुर्ग प्रिंसिपल को छात्रा से हुआ प्‍यार, रचाई शादी तो हुआ बवाल

हैवानों ने किया 4 साल की बच्‍ची का गैंगरेप, हत्‍या कर तालाब में फेंका

करगिल पर बेनकाब हुए पाकिस्‍तान ने हुर्रियत को दी थी 'नापाक' सलाह

PHOTOS: नाइट क्लब में आग, 245 की मौत

उत्‍तर प्रदेश की 28 जनवरी की प्रमुख खबरें