--Advertisement--

रिपोर्ट /कंपनियों के लिए खास नहीं रहा फेस्टिव सीजन, सुजुकी की सेल्स सिर्फ 0.5% बढ़ी तो फोर्ड की सेल्स में आई 26.3% की गिरावट



automobile company over sales report maruti got hike by only 0.5%
X
automobile company over sales report maruti got hike by only 0.5%

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2018, 03:17 PM IST

ऑटो डेस्क. फेस्टिव सीजन के आते है ऑटो कंपनियों में रौनक आ जाती है लेकिन यह फेस्टिव सीजन ऑटोमोबाइल कंपनियों के लिए ज्यादा खास नहीं रहा। नवंबर 2017 के मुकाबले नवंबर 2018 में कई कंपनियों की सेल्स में भारी कमी देखने को मिली। फोर्ड जैसे इंटरनेशनल कंपनी की सेल्स में 26% से ज्यादा गिरावट देखने को मिली वहीं मारुति सुजुकी की ओवरऑल सेल्स सिर्फ 0.7%  की दर से बढ़ी।

 

फेस्टिव सीजन को कैश करने के लिए कई ऑटो कंपनियों ने अपनी व्हीकल्स पर भारी डिस्काउंट ऑफर तक किया तो कई कंपनियों ने डिस्काउंट के साथ फ्री सर्विस जैसे स्कीम भी पेश की फिर भी सेल्स में इजाफा देखने को नहीं मिला। कई कंपनियों ने तेल की बढ़ती कीमतों को जिम्मेदार माना तो कई ने हाई इंश्योरेंस कॉस्ट को सेल्स में आई कमी का बड़ा कारण माना।

 

नवंबर 2018 की सेल्स रिपोर्ट

 

मॉडल यूनिट
मारुति सुजुकी 1,43,890 
हुंडई 43,709 
टाटा मोटर्स 16,982
महिंद्रा 15,155
होंडा 13,006
टोयोटा 10,721 
फोर्ड 6,375 
रेनो 6,134
फॉक्सवैगन 2,501 
डटसन 2,246
स्कोडा 1,305
जीप 1,164
निसान 202 
फिएट 65

 

सुजुकी, हुंडई, होंडा, टाटा और महिंद्रा जैसे कंपनियों के लिए कैसा रहा यह फेस्टिव सीजन...

  • मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड

    मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड

    • नवंबर 2018 में कंपनी की ओवरऑल सेल्स में 0.7% की कमी देखने को मिली, वहीं डोमेस्टिक मार्केट में मामूली बढ़ोतरी आई है। नवंबर 2018 में कंपनी ने कुल 1,53,539 यूनिट बेचे जिसमें डोमेस्टिक और एक्सपोर्ट सेल्स दोनों शामिल है। वहीं नवंबर 2017 के सेल्स आंकड़ो पर नजर डाली जाए तो कुल 1,54,600 यूनिट सेल हुई थी।
    • डोमेस्टिक सेल्स 0.5%  बढ़ी है जबकि एक्सपोर्ट में 19.1% की कमी दर्ज की गई। नवंबर 2017 की तुलना में डोमेस्टिक सेल 1,45,300 यूनिट से बढ़कर 1,46,018 यूनिट हो गई वहीं एक्सपोर्ट 9,300 से घटकर सिर्फ 7,521 यूनिट ही रहा गई।
    • मारुति सुजुकी में सेल्स में कमी सिर्फ एंट्री लेवल सेगमेंट में दर्ज की गई जैसे अल्टो, वैगन-आर लेकिन स्विफ्ट, डिजायर और बलेनो की सेल्स में 10.8% का इजाफा देखने को मिला। 
    • यूटिलिटी सेगमेंट व्हीकल जैसे विटारा ब्रेजा, अर्टिगा और S-cross की सेल्स में 1.2% की बढ़ोतरी हुई वहीं, ओमिनी और इको की सेल्स में 3.6% बढ़ोतरी हुई। हाल में कंपनी ने नई अर्टिगा को लॉन्च किया है।

  • हुंडई इंडिया

    हुंडई इंडिया

    • हुंडई मोटर्स की भारत की सबसे बड़ी कार कंपनी है जिसकी नवंबर 2018 की सेल्स में भी 0.7% कमी देखने को मिली।
    • पिछले साल नवंबर 2017 में कंपनी ने 43,709 बेचे वहीं इस साल नवंबर 2018 में सिर्फ 33,008 यूनिट्स ही बिके।
    • हाल ही में कंपनी ने नई सेंट्रो को लॉन्च किया जिसने कंपनी की सेल्स को बढ़ाने में काफी मदद की। सेंट्रो की लॉन्चिंग सें लेकर अबतक इसे 40 हजार बुकिंग मिल चुकी है।

  • महिंद्रा एंड महिंद्रा

    महिंद्रा एंड महिंद्रा

    • इस महीने महिंद्रा एंड महिंद्रा ने भी अपनी सेल्स में इजाफा देखने को मिला है। पिछले साल नवंबर 2017 में जहां महिंद्रा ने सिर्फ 38,570 यूनिट ही बेचे वहीं इस साल नवंबर 2018 में कंपनी ने 45,101 यूनिट बेचे कर पूरे सेल्स में 17%  की बढ़ोतरी दर्ज की।
    • डोमेस्टिक सेल्स की बात करें तो पिछले साल नवंबर 2017 की तुलना में 36,039 यूनिट बेचे वहीं नवंबर 2018 में 41,564 यूनिट बिके यानी 15% की बढ़ोतरी देखी गई। जबकि पैसेंजर्स व्हीक्ल की बात करें तो नवंबर 2018 में 16,188 यूनिट बेचे गए जबकि नवंबर 2017 में सिर्फ 16,030 यूनिट ही बेचे गए थे।
    • कमर्शियल व्हीकल सेल्स में 26% का इजाफा हुआ है नवंबर 2018 में 19,673 यूनिट्स बेचे गए। वहीं मीडियम एंड हैवी कमर्शियल व्हीकल सेगमेंट की बात करें तो नवंबर 2018 में 637 यूनिट बेचे जबकि 3,535 यूनिट एक्सपोर्ट किए गए जिसमें 40% की बढ़त देखने को मिली।

  • टाटा मोटर्स

    टाटा मोटर्स

    • टाटा मोटर्स की सेल्स में 3.8% की कमी देखने को मिली। नवंबर 2018 में कंपनी ने सिर्फ 50,470 ही बेचे जबकि नवंबर 2017 में कंपनी ने 52,464 बेचे थे। पैसेंजर्स व्हीकल सेगमेंट में भी कंपनी ने 1.01%  गिरावट दर्ज की क्योंकि पिछले साल नवंबर 2017 में टाटा ने 17,157 यूनिट बेचे थे जो नवंबर 2018 में 16,982 यूनिट में ही सिमट गई।
    • टाटा ने कमर्शियल व्हीकल की डोमेस्टिक सेल्स में पूरे 5.15% की कमी दर्ज की। कंपनी ने नवंबर 2017 में 35,307 यूनिट सेल की जबकि नवंबर 2018 में सिर्फ 33,488 यूनिट ही बिक पाए।
    • कुल एक्सपोर्ट में भी कंपनी ने 6.55% की गिरावट दर्ज, नवंबर 2017 में जहां कंपनी का कुल एक्सपोर्ट 4,927 यूनिट था जो नवंबर 2018 में 4,604 यूनिट ही रहा। 
    • टाटा मोटर्स ने हाल ही में टाटा नेक्सन NRG,नेक्सन Kraz और JTP रेंज में व्हीकल लॉन्च किए हैं वहीं कंपनी जल्द ही  नई टाटा हैरियर को भी लॉन्च करने की तैयारी में है।

  • होंडा कार इंडिया

    होंडा कार इंडिया

    • अपने दमदार और स्मूद इंजन के लिए पहचानी जाने वाली होंडा मोटर्स के लिए इस साल का फेस्टिव सीजन सबसे खास रहा। नवंबर 2018 में कंपनी की सेल्स में 10.67% का इजाफा देखने को मिला है। 
    • पिछले साल नवंबर 2017 में जहां कंपनी ने सिर्फ 12,102 यूनिट्स ही बेचे थे वहीं नवंबर 2018 में कंपनी ने 13,549 बेचे। 
    • डोमेस्टिक सेल्स के मामले में भी कंपनी ने बेहतरीन सेल्स की, नवंबर 2017 में 11,819 यूनिट बिके थे जो नवंबर 2018 में बढ़कर 13,003 यूनिट्स हो गए। 
    • एक्सपोर्ट में मामले में होंडा इंडिया पिछले साल के मुकाबले आगे रही, नवंबर 2017 में जहां 283 यूनिट ही एक्सपोर्ट की थी वहीं नवंबर 2018 में 543 एक्सपोर्ट की गई। 
    • हाल ही में कंपनी ने नई अमेज को लॉन्च किया है जिसने होंडा की सेल्स बढ़ाने में खासा योगदान दिया है।

  • टोयाटा किर्लोस्कर मोटर्स

    टोयाटा किर्लोस्कर मोटर्स

    • टोयोटा की सेल्स में नवंबर 2017 की तुलना में इस साल 16% की कमी देखने को मिली।
    • कंपनी ने नवंबर 2017 में 12,347 यूनिट बेचे वहीं 686 यूनिट एक्सपोर्ट किए वहीं नवंबर 2018 में कुल 11,390 बेचे गए जिसमें 10,721 यूनिट डोमेस्टिक  मार्केट में बेचे गए और 669 यूनिट एक्सपोर्ट की गई।
    • कंपनी ने तेल की बढ़ती कीमतें, बढ़ती ब्याज दर को सेल्स में आई कमी का कारण माना। वहीं कंपनी जनवरी 2019 से अपनी कारों की कीमतों में बढ़ोतरी करने जा रही है।

  • फोर्ड इंडिया

    फोर्ड इंडिया

    • फोर्ड इंडिया की सेल्स में भारी कमी दर्ज की गई। नवंबर 2017 में जहां कंपनी ने 29,019 यूनिट सेल किए थे वहीं नवंबर 2018 में सिर्फ 19,905 यूनिट ही बेचे गए यानी पूरे 26.3% की कमी दर्ज की गई।
    • डोमेस्टिक मार्केट में भी कंपनी ने नवंबर 2017 (7,777 यूनिट) के मुकाबले सिर्फ 6,375 यूनिट बेचे। वहीं नवंबर 2018 में कंपनी ने सिर्फ 13,530 यूनिट ही एक्सपोर्ट किए जबकि नवंबर 2017 में 19,242 यूनिट सेल किए थे। 
    • कंपनी के प्रेसिडेंट और मैनेजिंग डायरेक्टर अनुराग मल्होत्रा ने सेल्स में आई कमी के लिए बढ़ती तेल कीमतों के जिम्मेदार ठहराया।

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..