ऑटो / इलेक्ट्रिक कारों की एंट्री से पहले जानिए उनकी बैटरी से जुड़ीं ये बातें

Know these things related to their batteries before the entry of electric cars
X
Know these things related to their batteries before the entry of electric cars

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2019, 11:33 AM IST

संचित टंडन, नई दिल्ली. इसमें कोई शक नहीं कि आने वाला वक्त इलेक्ट्रिक कारों का है। 2020 में भारत में होने वाले आटो 'एक्सपो' में ही करीब एक दर्जन इलेक्ट्रिक कारें पेश की जाने वाली हैं। ऐसे में इनकी बैटरी से जुड़ी कुछ बातें अगर आप आज ही जान लेते हैं तो इन आधुनिक कारों को बेहतर ढंग से समझ पाएंगे।

1. ये बैटरीज बेहद महंगी होती हैं। इन कारों की कीमत का करीब 40 फीसद तो इन बैटरीज के खाते में चला जाता है। अच्छा यह है कि विश्व बाजार में लीथियम ऑयन बैटरीज की कीमत 2010 से लगातार गिर रही हैं। 2010 के मुकाबले आज यह 85 प्रतिशत कम कीमत पर मिल रही हैं। यह गिरावट आगे भी बनी रहेगी और जब तक कार आपके पास आएगी तो यह आज के मुकाबले काफी सस्ती हो चुकी होगी।

2. विदेश में लोग इन कारों का इस्तेमाल कर रहे हैं और उन पर हुए सर्वे बताते हैं कि इन बैटरीज की लाइफ से जुड़ी चिंताएं उन्हें काफी हैं। रिपोर्ट्स बताती हैं कि बैटरी की उम्र 30 प्रतिशत तब कम होती है, जब वो करीब तीन लाख किलोमीटर चल लेती है।

3. बैटरी को अगर 1000 चार्ज साइकिल्स के लिए रेट किया गया है तो इसका मतलब है फुल चार्ज से फुल डिस्चार्ज साइकिल्स से है। अगर कुछ डिस्चार्ज होने पर कुछ देर के लिए इन्हें चार्ज किया जाता है तो उसी अनुपात में इनकी चार्ज साइकिल्स बढ़ जाती हैं।

4. इन बैटरीज पर वारंटी दी जाती है। हर कंपनी अलग-अलग मियाद की वारंटी फिलहाल दे रही है। कुछ कंपनियां तो 7 साल तक की वारंटी भी अपनी कारों में लगी इन बैटरीज के लिए ऑफर कर रही हैं। जैसे माना जा रहा है कि एमजी भी भारत में अपनी पहली इलेक्ट्रिक कार की बैटरी के लिए इतनी ही वारंटी ऑफर कर सकती है।

5. इन कारों में लगी कुछ बैटरीज को रीसाइकल किया जा सकता है। लीथियम के लिए आम धारणा है कि यह तत्व धरती पर बड़ी मुश्किल से मिलता है लेकिन ऐसा है नहीं। बहरहाल, इन बैटरीज में लीथियम खर्च नहीं हो जाता है, इसे आसानी से फिर हासिल किया जा सकता है और नई बैटरी बनाने में उपयोग लाया जा सकता है।

6. इन कारों की पुरानी बैटरीज को घरों के पॉवर बैकअप-सिस्टम में आसानी से उपयोग में लिया जा सकता है। इनका उपयोग इंस्ट्रीज में भी संभव है और इंवर्टर्स में भी। सोलर फील्ड से इसे जोड़कर इनमें एनर्जी स्टोरेज की अस्थाई व्यवस्था की जा सकती है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना