--Advertisement--

कमबैक /1974 में बंद हुई जावा मोटरसाइकिल 44 साल बाद महिंद्रा मोटर्स के साथ करेगी वापसी



legendry jawa motorcycles and his legendry history know how it came to indi
X
legendry jawa motorcycles and his legendry history know how it came to indi

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 06:45 PM IST

ऑटो डेस्क। भारत में जल्द ही जावा मोटरसाइकिल दोबारा सड़कों पर दौड़ती नजर आने वाली है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस आईकॉनिक मोटरसाइकिल को 2018 के अंत तक भारत में लॉन्च किया जाएगा। भारत में इस मोटरसाइकिल का प्रोडक्शन 1960 में शुरू किया गया था जिसे 44 साल पहले यानी 1974 में बंद कर दिया गया। उस समय इस मोटरसाइकिल में 2 स्ट्रोक और 2 सिलेंडर वाला इंजन यूज किया जाता था। 1974 से 1996 तक इस मोटरसाइकिल का Yezdi नाम से बेचा जाना लगा। जावा मोटरसाइकिल का निर्माण बोहीमिया के एक छोटे से गांव में 23 जनवरी 1878 में जन्में Frantisek Janecek ने किया था।

 

हाल ही में कंपनी ने भारत में लॉन्च होने वाली नई जावा मोटरसाइकिल के इंजन से पर्दा उठाया है जिसे इटली में डिजाइन किया गया है जो दिखने में बिल्कुल पुरानी मोटरसाइकिल की तरह ही है साथ ही इसके साउंड को भी ओरिजनालिटी देने की कोशिश की गई है। 6 स्पीड गियरबॉक्स से लैस सिंगल सिलेंडर, लिक्विड कूल्ड 293 सीसी के इस नए इंजन में 27 हॉर्स पावर और 28Nm टॉर्क प्रोड्यूस करने की क्षमता होगी।
 

आइए जानते हैं 1929 से लेकर दोबारा भारत में आने तक कैसा रहा जावा का सफर...

  • 1929

    1929

    जावा मोटरसाइकिल की शुरूआत 1929 में हुई। उन्होंने सबसे पहले जर्मन मोटरसाइकिल बिजनेस  Wanderer के मोटरसाइकिल डिविजन को खरीदा। जावा नाम Janecek और Wanderer के पहले दो शब्दों को जोड़कर बनाया गया है। सबसे पहले कंपनी ने जावा 500 सीसी की 4 साइकिल इंजन वाली मोटरसाइकिल बनाई जो 18 हॉर्स पावर की ताकत प्रोड्यूस करता था। इसे जावा 500 OHV नाम दिया गया।

  • 1930

    1930

    इस समय मंदी का दौर था जिसके लिए सस्ती और सिंपल मोटरसलाइकिल की अवश्यकता थी। तब कंपनी ने जावा 175 बनाई जिसमें 3.6kW का इंजन था। इसकी टॉप स्पीड 80 km/h थी जो 3.5 लीटर फ्यूल में 100 किलोमीटर का सफर तय करती थी। कंपनी ने इसकी 3000 से ज्यादा यूनिट्स को सेल किया जोकि 500 सीसी से लगभग तीन गुना ज्यादा थी। यह मॉडल 1946 में बंद कर दिया गया।

  • 1939

    1939

    जेनेसेक में जावा 350SV 4 स्ट्रोक मोटरसाइकिल को बनाया जिसमें उनके पार्टनर Patchett थे। इसी साल जावा ने Isle of Man events में भाग लिया।

  • 1939-45

    1939-45

    वर्ल्ड वॉर 2 के शुरू होने के बाद जावा मोटरसाइकिल का प्रोडक्शन बंद हो गया लेकिन इसके डेवलपमेंट पर वॉर का कोई असर नहीं हुआ। जावा ने अपनी मोटरसाइकिल में SS स्टीकर देना शुरू किया जिसे ग्रीन कलर से पेंट किया जाने लगा जो की जर्मन व्हीकल में किया जाता था।

  • 1946

    1946

    1946 में कंपनी ने पहली बार जावा Perak को दुनिया के सबसे पुराने ऑटो शो में शुमार पेरिस ऑटो शो में पेश किया गया। यह पहला मौका था जब Perak को पब्लिक के सामने प्रदर्शित किया गया। इस शो में Perak में गोल्ड मेडल भी जीता।

  • 1952

    1952

    सन् 1952 में जावा ने 4 स्ट्रोक मोटरसाइकिल की मैन्युफैक्चरिंग शुरू की।

  • 60's and 70's

    60's and 70's

    1948 में जावा ने दूसरे देशों में अपनी मोटरसाइकिलों को एक्सपोर्ट करना शुरू किया। जिसकी बाद जावा और CZ ब्रांड एक होकर एक सिंगल ब्रांड बन गया जिसे Jawa-CZ नाम दिया गया। 60's और 70's में Jawa-CZ ने कई रेसिंग इवेंट्स में भाग लिया और जीते भी। इस लेजेंड्री मोटरसाइकिल के रेसिंग चैंपियनशिप जीतने के बाद जावा मोटरसाइकिल को 120 देशों में एक्सपोर्ट किया जाने लगा।
     

  • 1960-71

    1960-71

    रुस्तम और फारुख ईरानी द्वारा बनाए गए फर्म Ideal Jawa ने जावा मोटरसाइकिल को भारत में इंपोर्ट करना शुरू किया। जिसकी बढ़ती डिमांड को देखते हुए सन् 1961 में  मैसूर में इसकी फैक्ट्री स्थापित की गई। 1961 से 1971 के बीच Ideal Jawa ने 250 Type 353/04 का मैन्युफैक्चर किया।

     

    सन् 1971 में आइडियल जावा फर्म के द्वारा बनाई गई नई मोटरसाइकिल को "Yezdi" नाम से बेचा जाने लगा जिसमें जावा के ही टेक्निकल असिस्टेंस यूज किए जाते थे। भारत में Yezdi का प्रोडक्शन सन् 1996 में बंद कर दिया गया।

  • 2018

    2018

    भारत में जावा का अस्तित्व पूरी तरह खत्म हो चुका था। लेकिन महिंद्रा मोटर्स के आनंद महिंद्रा ने इस लेजेंड्री मोटरसाइकिल को फिर से भारत लाने के लिए इसे खरीद लिया। अब भारत में इस मोटरसाइकिल की मैन्युफैक्चरिंग और ब्रांडिग के सारे राइट्स महिंद्रा मोटर्स के पास है। महिंद्रा जल्द ही जावा की नई मोटरसाइकिल को भारत में लॉन्च करने जा रहा है।

     

    इन नई मोटरसाइकिल्स में लगने वाले इंजन को भी डिजाइन कर लिया गया है जिसे हाल ही में पेश भी किया गया। महिंद्रा जावा मोटरसाइकिल को 2018 के अंत तक भारत में लॉन्च कर सकता है। जिसका मुकाबला रॉयल एनफील्ड से होगा।


    अब देखना यह कि क्या इस लेजेंड्री मोटरसाइकिल को लोग पहले की तरह पसंद करेंगे?

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..