विधानसभा सीट

  • कॉपी लिंक

हायाघाट, दरभंगा

मतदान की तारीख:

7 नवंबर, शनिवार

प्रमंडलः दरभंगा

जिलाः दरभंगा

मौजूदा विधायकः अमरनाथ गामी, जदयू

कुल वोटरः 2.34 लाख

  • पुरुष वोटरः 1.24 लाख (52.8%)
  • महिला वोटरः 1.10 लाख (46.9%)
  • ट्रांसजेंडर वोटरः 4 (0.001%)

सीट का इतिहास

  • 2015 में यहां से जदयू के अमरनाथ गमी दूसरी बार जीते थे। उन्होंने लोजपा के रमेश चौधरी को 33,231 वोटों से हराया था। अमरनाथ पहली बार 2010 में भाजपा के टिकट पर जीतकर आए थे।
  • 2005 (फरवरी और अक्टूबर दोनों) में राजद के हरिनंदन यादव यहां से जीते थे। हरिनंदन यादव 1995 में जनता दल के टिकट पर पहली बार चुनाव जीता था।
  • 2000 में निर्दलीय उमाधर प्रसाद सिंह जीते। उमाधर 1985 में भी निर्दलीय यहां से जीते हैं। 1990 में जनता दल के काफिल अहमद जीते। 1980 में कांग्रेस के मदन मोहन चौधरी और 1977 में जनता पार्टी के अनिरुद्ध प्रसाद यहां से जीते।
  • 1967, 1969 और 1972 के चुनाव में लगातार तीन बार कांग्रेस के बलेश्वर राम ने यहां से जीत दर्ज की थी।

पार्टी के लिहाज से

  • इस सीट पर अब तक कुल 13 चुनाव हुए हैं। इनमें चार बार कांग्रेस, दो-दो बार राजद, जनता दल और निर्दलीय, जबकि एक-एक बार जदयू, भाजपा और जनता पार्टी जीती है।
  • यहां कांग्रेस आखिरी बार 1980 में जीती थी। भाजपा भी यहां से सिर्फ एक ही बार जीत सकी है।

जातीय समीकरण

  • इस सीट पर मुस्लिम, पासवान, यादव, ब्राह्मण निर्णायक भूमिका में हैं। राजपूत, कुर्मी, रविदास अच्छी संख्या में हैं।

वोटिंग पैटर्न

  • इस सीट पर पहली बार चुनाव 1967 में हुए थे। इस समय यहां 49.1% वोटिंग हुई थी। यहां सबसे ज्यादा 72.3% वोटिंग 1972 में हुई थी।

साल

वोट%

पुरुष%

महिला%

2015

56.2

47.7

65.0

2010

49.3

43.8

55.9

2005 (अक्टूबर)

45.5

43.4

48.0

2005 (फरवरी)

42.7

43.6

41.7

2000

66.4

71.8

60.3

1995

58.5

61.6

55.1

1990

69.8

75.4

63.7

1985

55.4

71.8

37.7

1980

71.3

74.1

68.4

1977

70.4

83.4

56.4

1972

72.3

83.7

60.8

1969

46.2

69.1

23.2

1967

49.1

-

-

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें