विधानसभा सीट

  • कॉपी लिंक

बेनीपट्टी, मधुबनी

मतदान की तारीख:

7 नवंबर, शनिवार

प्रमंडलः दरभंगा

जिलाः मधुबनी

मौजूदा विधायकः भावना झा, कांग्रेस

कुल वोटरः 2.86 लाख

  • पुरुष वोटरः 1.51 लाख (52.7%)
  • महिला वोटरः 1.35 लाख (47.2%)
  • ट्रांसजेंडर वोटरः 12 (0.004%)

सीट का इतिहास

  • 2015 में कांग्रेस की भावना झा ने भाजपा प्रत्याशी और मौजूदा विधायक विनोद नारायण झा को 4,734 वोट से हराया।
  • भावना के पिता युगेश्वर झा 1980, 1985, 1990 और फरवरी 2005 में कांग्रेस के टिकट पर यहां से जीते थे। अक्टूबर 2005 में उन्हें जदयू के सालिग राम यादव ने हराया था।
  • सालिग राम 1995 में भी यहां से निर्दलीय विधायक रहे थे। 2000 में जदयू के रामाशीष यादव यहां से जीते।
  • 1967, 1972 और 1977 में सीपीआई के तेज नारायण झा यहां से जीते। वहीं, 1969 में संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के बद्रीनाथ झा चुने गए।

पार्टी के लिहाज से ये क्षेत्र

  • 1967 में अस्तित्व में आई इस सीट पर अब तक 13 चुनाव हुए हैं। इनमें पांच बार कांग्रेस, तीन बार सीपीआई, दो बार जदयू, एक-एक बार भाजपा, संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी और निर्दलीय जीते।

जातीय समीकरण

  • इस सीट पर करीब एक चौथाई वोटर ब्राह्मण हैं। करीब 10 फीसदी यादव वोटर हैं। जबकि, पासवान और रविदास निर्णायक भूमिका में हैं।

वोटिंग पैटर्न

  • 2010 की तुलना में 2015 में यहां वोटिंग पर्सेंटेज 8% से ज्यादा बढ़ा था। 2010 में इस सीट पर 41.7% वोट पड़े थे और 2015 में 49.6% वोटिंग हुई थी।
  • पिछले चार चुनावों से यहां महिलाओं का वोटिंग पर्सेंटेज पुरुषों के मुकाबले ज्यादा रहा है। पिछले चुनाव में कुल पुरुष वोटरों में से 41.8% ने वोट डाले थे, जबकि कुल महिला वोटरों में से 58% ने वोटिंग की थी।

साल

वोट%

पुरुष%

महिला%

2015

49.6

41.8

58.0

2010

41.7

37.5

46.8

2005 (अक्टूबर)

43.0

40.6

45.9

2005 (फरवरी)

43.9

43.8

44.0

2000

59.7

64.2

54.5

1995

57.3

56.5

58.3

1990

67.3

70.0

64.4

1985

59.0

70.5

47.1

1980

64.9

71.2

58.3

1977

58.2

73.6

43.4

1972

61.4

77.0

46.6

1969

61.8

65.9

57.7

1967

54.2

-

-

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर-परिवार से संबंधित कार्यों में व्यस्तता बनी रहेगी। तथा आप अपने बुद्धि चातुर्य द्वारा महत्वपूर्ण कार्यों को संपन्न करने में सक्षम भी रहेंगे। आध्यात्मिक तथा ज्ञानवर्धक साहित्य को पढ़ने में भी ...

और पढ़ें