पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Bihar election
  • Nitish Kumar : Upendra Kushwaha Jitan Ram Manjhi Update | RLSP And Hindustani Awam Morcha Party Contest Bihar Elections On Nitish Kumar Party JDU Symbol

भास्कर एक्सक्लूसिव:बिहार में नहीं घूमेगा रालोसपा का पंखा और न चढ़ेगी हम की कढ़ाई, जदयू के सिंबल पर चुनाव लड़ सकती हैं मांझी और कुशवाहा की पार्टियां

पटनाएक महीने पहलेलेखक: शालिनी सिंह
  • कॉपी लिंक
  • एनडीए में रालोसपा को 5 सीटें मिल सकती हैं, मांझी की हम (सेक्युलर) 4 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है
  • पार्टियों को जदयू के चुनाव चिह्न पर इसलिए लड़वाए जाने की तैयारी है, ताकि चुनाव बाद ये पाला न बदल सकें

बिहार के चुनावी महासमर में उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी रालोसपा (राष्ट्रीय लोक समता पार्टी) का चुनाव चिह्न पंखा इस बार शायद ही दिखाई दे। यही नहीं, जीतन राम मांझी की पार्टी हम (सेक्युलर) का चुनाव चिह्न कढ़ाई का भी नजर आना मुश्किल है। सूत्रों की मानें तो उपेंद्र कुशवाहा का एनडीए का हिस्सा बनना लगभग तय है। लेकिन, उनकी पार्टी और उनका चुनाव चिह्न एनडीए का हिस्सा नहीं होगा। कुछ ऐसा ही हाल जीतन राम मांझी की पार्टी का होगा।

एनडीए में वापस लौटीं दोनों ही पार्टियां जदयू के चुनाव चिह्न तीर पर अपने उम्मीदवार उतार सकती हैं। रालोसपा को पांच सीटें मिल सकती हैं। इसके अलावा, उसे वाल्मीकि नगर लोकसभा उपचुनाव की भी सीट मिलेगी, जिस पर खुद रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा चुनाव लड़ेंगे। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के बीच इस बारे में बातचीत हो चुकी है।

जीतन राम मांझी की पार्टी हम (सेक्युलर) को चार सीटें मिल सकती हैं। नीतीश हम के उम्मीदवारों को भी जदयू के चुनाव चिह्न तीर पर ही लड़वाना चाहते हैं। इस बारे में उनकी जीतन राम मांझी से बातचीत चल रही है।

नीतीश नहीं लेना चाहते रिस्क
कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इन पार्टियों पर आंख मूंद कर भरोसा नहीं करना चाहते हैं। डर इस बात का है कि चुनाव के बाद ये पाला बदल सकती हैं। ऐसे में एनडीए की मुसीबत बढ़ सकती है। लिहाजा इन पार्टियों के एनडीए में बने रहने की संभावनाओं को पुख्ता करने के लिए जदयू की तरफ से यह फैसला लिया गया है।

पहले भी पाला बदल चुके हैं कुशवाहा और मांझी
उपेंद्र कुशवाहा और जीतन राम मांझी पिछले विधानसभा चुनाव में एनडीए का हिस्सा थे। 2019 के लोकसभा चुनाव में दोनों महा गठबंधन के साथ चले गए। अब एक बार फिर मांझी एनडीए में आ चुके हैं। वहीं, कुशवाहा की वापसी भी लगभग तय हो गई है। एनडीए चाहता है कि अब इन पार्टियों के लिए ऐसा कोई रास्ता न बचे जिससे ये फिर से पाला बदल सकें।

भाजपा ने इन पार्टियों की विश्वसनीयता पर उठाए थे सवाल
भाजपा ने इन पार्टियों को एनडीए में जदयू द्वारा शामिल किए जाने पर सवाल खड़े किए थे। उसने इन पार्टियों के पुराने रिकॉर्ड को देखते हुए जदयू से यह सवाल किया था कि कैसे इन पार्टियों पर फिर से भरोसा किया जाए। भाजपा के इन सवालों को जदयू ने भी सही माना और उसके बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहल पर इन दोनों पार्टियों से बातचीत की गई और उसके बाद इस मामले पर सहमति बनती दिख रही है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज समय बेहतरीन रहेगा। दूरदराज रह रहे लोगों से संपर्क बनेंगे। तथा मान प्रतिष्ठा में भी बढ़ोतरी होगी। अप्रत्याशित लाभ की संभावना है, इसलिए हाथ में आए मौके को नजरअंदाज ना करें। नजदीकी रिश्तेदारों...

और पढ़ें