‘कभी हमने उड़ान भरी थी यहां से, 44 वर्ष बाद वापस आए तो लगा एक पल में जहां पा लिया’

Ara News - कभी हमने यहीं से शुरू किया था जिंदगी में उड़ान भरना, कभी गिरे फिर संभले पर रुके नहीं। उड़ान भले ही छोटी थी पर सपना था...

Bhaskar News Network

Jun 15, 2019, 06:15 AM IST
Ara News - 39never did we fly back from here 44 years later when we came back in a moment39
कभी हमने यहीं से शुरू किया था जिंदगी में उड़ान भरना, कभी गिरे फिर संभले पर रुके नहीं। उड़ान भले ही छोटी थी पर सपना था पूरा जहां पाने का। कदम-कदम पर शिक्षकों के आशीर्वचन, कभी फटकारा तो कभी हौसला आफजाई किया, गिरते- संभलते ही सही पर हमने सपना देखना नहीं छोड़ा। कुछ इसी अंदाज में शुक्रवार को डाॅ. नेमीचन्द शास्त्री प्लस टू विद्यालय में आयोजित प्रथम पूर्ववर्ती छात्रा समागम के दौरान छात्राओं ने स्कूल लाइफ से जुड़ी हर खट्‌टी मीठी यादें साझा की। कार्यक्रम की शुरुआत में छात्राओं ने स्कूल के समय होने वाले प्रार्थना वर दे वीणा वादिणी वर दे गाया। इसके बाद साइंस एग्जीबिशन और ग्रुप सांग पर पूर्ववर्ती छात्राएं एक साथ थिड़कीं।

कार्यक्रम में दूसरे राज्य और विदेश से भी पहुंचीं पूर्ववर्ती छात्राएं और शिक्षिकाएं

44 वर्ष बाद डॉ.नेमीचन्द शास्त्री प्लस टू विद्यालय में आयोजित इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए पूर्ववर्ती छात्राओं की उत्सुकता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि दूसरे राज्यों के अलावे विदेश से भी छात्राएं पहुंची थीं। कार्यक्रम में कैलिफोर्निया से शालिनी सिंह, रांची से मेघा वर्मा, लखनऊ से श्वेता सिंह पहुंची थी। वहीं बिहार में ही सब इंस्पैक्टर के रूप में पोस्टेड विजया लक्ष्मी, प्रो.अर्चना सिंह, डॉ.रचना प्रियदर्शी के अलावे कई जगहों पर निजी व्यवसाय और प्राइवेट सेक्टर में अच्छे पदों पर पोस्टेड पूर्ववर्ती छात्राएं अपनी यादों को साझा करने और इस पल को समेटने के लिए पहुंची थीं। उस समय की शिक्षिकाओं को भी इस आयोजन में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया था। शिक्षिका कंचन सिंह, अपनी बहू के साथ बैंगलौर से पहुंचीं थीं। छात्राओं ने उस समय कक्षा में शरारत के बाद शिक्षिकाओं की ओर से बेंच पर खड़ा कर देना और टास्क पूरा करके नहीं आने पर डांट पड़ने जैसी कई यादों को एक दूसरे से साझा कर घंटों इसपर ठहाके लगातीं रहीं। सबने कहा काश वो दिन लौट आते। शिक्षिकाओं ने भी बीती बातों को याद कर इस पल को सहेजने में कोई कसर नहीं छोड़ीं।

छात्राएं एक-दूजे से मिलकर हुईं गदगद, ऐसा लगा जैसे लौट आया हो बचपन

डाॅ.नेमचंद शास्त्री प्लस टू विद्यालय में मस्ती के मूड में पूर्ववर्ती छात्राएं।

बगीचे में पुराने पुष्पों को देख अाहलादित हो गईं शिक्षिकाएं, बोलीं-छात्रा नहीं विभुतियों से मिली

संचालन ईटीवी की मिसेज भाग्यशाली यानि रूपम किशोर ने की। विद्यालय की संस्थापिका डाॅ. जया जैन व कैलाश सहाय, प्राचार्या इन्दु कुमारी, कावेरी मोहन, निधि सिंह, सीपी जैन ने उद्घाटन स्मृति शेष सावित्री अस्थाना के चित्र पर माल्यार्पण कर किया। डाॅ.जया जैन ने कहा कि इस विद्यालय के नाम इस नगर के सबसे विद्धान डाॅ. नेमीचन्द शास्त्री के नाम पर रखा गया। उन्होंने 25-30 वर्ष पूर्व शिक्षा ग्रहण की थी। पूर्ववर्ती छात्रा समागम ने एक नया इतिहास रचा है। संस्थापक सदस्या कैलाश सहाय ने कहा कि आज अपने बागीचा के पुराने पुष्पों को देखकर दिल अहलादित है। इस प्रकार के कार्यक्रमों से विद्यालय के वर्तमान छात्राओं के आत्मविश्वास में वृद्धि होती है। वहीं वर्तमान प्राचार्या इन्दु कुमारी ने कहा कि मैं अपने विद्यालय के सिर्फ छात्राओं ही नहीं कई विभूतियों से भी मिली। भविष्य में भी इस प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन करने के लिए खुला निमंत्रण पूर्ववर्ती छात्राओं को दिया।

शुरू से चलता रहा गीत-संगीत, विदाई में सभी हुईं भावुक

कावेरी मोहन ने ओ शहरी बाबू, दिल लहरी बाबू, बदरी बाबूल के अंगना जईओ गीत गाकर सबको झुमाने पर मजबूर कर दिया। वहीं कई पूर्ववर्ती छात्राओं ने जा हट नटखट, राधा कैसे न जले व चलते-चलते मेरे ए गीत याद रखना, कभी अलविदा न कहना, कभी अलविदा न कहना गीत को गाकर सभी छात्राओं को भाव-विभोर कर दिया। मौके पर पूर्व व वर्तमान के मौजूद शिक्षक व शिक्षिकाओं को शॉल व पौधा देकर सम्मानित किया गया। जैसे ही सम्मान दिया गया तो मौजूद सभी पूर्ववर्ती छात्राओं ने जमकर तालियां बजायी। सभी ने पौधा व शॉल को ग्रहण कर काफी खुश दिखी।

अरसे बाद मिलीं सखियां तो स्कूल की यादें हुईं ताजा

स्वागत करते हुए पूर्व छात्रा सीपी जैन ने कहा कि हम छात्राएं तो विद्यालयी शिक्षापूर्ण करने ंके बाद सुदूर प्रांतों में अपनी उच्च शिक्षा या जीवन के दायित्वों को निभाने के लिए चली जाती हैं। हम सभी देश के विभिन्न कोनों से ही नहीं विदेशों से भी अपनी पुरानी यादें ताजा करने के साथ- साथ अपनी शिक्षक-शिक्षिकाओं का अभार प्रकट करने यहां एकत्रित हुए। मौके पर सुमिता सिंह, विभा कुमारी, तब्बसुम, स्वाति, सुजाता, शालिका, व अंजली, आदित्य बिजय जैन, अरिहंत जैन समेत कई पूर्ववर्ती छात्राएं मौजूद थी।

X
Ara News - 39never did we fly back from here 44 years later when we came back in a moment39
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना