बालू घाट पर धर्मकांटा को लेकर संचालकों में तनातनी / बालू घाट पर धर्मकांटा को लेकर संचालकों में तनातनी

Ara News - स्थानीय सहार प्रखंड में बालू घाटों पर नियमों की एकरूपता नहीं है। इस कारण घाट संचालकों में आपस में टकराहट हो रही...

Bhaskar News Network

Dec 09, 2018, 04:56 AM IST
Sahar News - threats in operators about dharmakanta on balu ghat
स्थानीय सहार प्रखंड में बालू घाटों पर नियमों की एकरूपता नहीं है। इस कारण घाट संचालकों में आपस में टकराहट हो रही है। शुक्रवार की रात भी इस तरह का मामला सामने आया। कुछ घाट संचालकों ने दूसरे घाट की तरफ जाने वाले रास्ते पर पोकलेन खड़ा कर रास्ता रोकने का प्रयास किया। इसके बाद विवाद उत्पन्न हो गया। स्थिति यह है कि कभी भी इस विवाद में बड़ी घटना काे अंजाम दिया जा सकता है। जानकारी के अनुसार जिलाधिकारी के आदेशों पर प्रशासन की ओर से प्रखंड क्षेत्र के पेउरचक गांव में पांच घाटों पर धर्मकांटा लगाया गया है। जबकि, लगभग दो दर्जन बालू घाट बिना धर्मकांटा के संचालित हो रहे हैं। इस पर पूरी रात ओवरलोड करके बालू दिया जाता है। जिसके कारण धर्मकांटा लगे पांच घाटों पर ट्रकों का संचालन कम होता है। लगातार ऐसी स्थिति देख धर्मकांटा वाले घाट संचालकों ने प्रशासन के खिलाफ नाराजगी जताई है। आक्रोशित घाट संचालकों ने अपना नुकसान होते देख शुक्रवार की रात पेउरचक में घाट नंबर- 3 एवं 4 के सामने पोकलेन लगाकर रास्ते को अवरुद्ध कर दिया। जिससे लगभग आठ बालू घाटों के वाहनों के संचालन अवरुद्ध हो गया। अपने तरफ वाहनों को नहीं आता देख दूसरा गुट मौके पर पहुंचा। जिसके बाद दोनों गुटों में तनाव उत्पन्न हो गया। धर्मकांटा वाले घाट संचालकों ने बताया कि बिना धर्मकांटा वाले घाट पर 300 से 400 रुपए प्रति बकेट लेकर मानक से डेढ़ गुना से दोगुना तक बालू दिया जाता है। इसमें बारह चक्का पर छह एवं चौदह चक्का ट्रक पर आठ बोकेट बालू ज्यादा दिया जाता है। धर्मकांटा वाले बालू घाट पर कम लोडिंग होती है। बिना धर्मकांटा वाले घाट संचालक अधिकारियों को पैसे देकर मनमाने तरीके से बालू लोड करते हैं।

सहार में ओवरलोडेड बालू लदा ट्रैक्टर।

28 बालू घाटों का हो रहा संचालन

जानकार सूत्रों की माने तो सहार प्रखंड क्षेत्र में लगभग 28 घाटों से बालू का उठाव किया जा रहा है। जिसमें ज्यादातर घाट इस एरिया से बाहर संचालित हो रहे हैं। वहीं, लगभग एक से डेढ़ हजार ट्रकों पर बालू के ओवरलोडिंग के खेल चल रहा है। जिसमें हर ट्रक पर 100 से 150 सीएफटी बालू अवैध ढंग से लोड किया जा रहा है। जिससे बिहार सरकार व बालू कंपनी को प्रति माह तीन से चार करोड़ के राजस्व की हानि स्थानीय प्रशासन व जिला खनन पदाधिकारी के उदासीनता के कारण हो रही है।

सड़क जाम के बाद भी अधिकारी सजग नहीं

बता दें कि शुक्रवार के दिन भी बालू घाटों के अवैध संचालन सहित दस मुद्दों को लेकर किसानों के द्वारा बरूही गांव में नासरीगंज-सकड्डी स्टेट हाइवे को चार घंटा जाम करके यातायात को अवरुद्ध किया गया था। लेकिन, प्रशासन कोई भी कदम नहीं उठा रहा है।

विभाग के निर्देश का हो रहा पालन : पदाधिकारी

जिला खनन पदाधिकारी विजय कुमार ने दूरभाष पर बताया कि खनन विभाग के निर्देशानुसार धर्मकांटा लगा दिया गया है। सभी घाटों पर शीघ्र ही धर्मकांटा लगाने का आदेश दिया जा रहा है। क्षेत्र में ओवरलोडिंग की समस्या नहीं है। ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए लगातार अभियान चलाया जा रहा है। इधर भाजपा नेता घनश्याम राय, पूर्व प्रमुख मदन सिंह, उपेंद्र भारती ने जिला प्रशासन से ओवरलोडिंग करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने और सभी जगह धर्मकांटा व सीसीटीवी लगाने की मांग की है ।

X
Sahar News - threats in operators about dharmakanta on balu ghat
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना