बक्सर, रोहतास व कैमूर के तीन प्राचार्यों पर गिरेगी गाज

Ara News - वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के तीन अंगभूत कॉलेज के प्राचार्यों का नैक के लिए डाटा अपलोड करने में खराब प्रदर्शन...

Bhaskar News Network

Jun 15, 2019, 06:15 AM IST
Ara News - three principals of buxar rohtas and kaimur will fall on
वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के तीन अंगभूत कॉलेज के प्राचार्यों का नैक के लिए डाटा अपलोड करने में खराब प्रदर्शन रहा है। इनमें डीके कॉलेज डुमरांव, जीवी कॉलेज रामगढ़ और एसपी जैन कॉलेज सासाराम के प्राचार्य शामिल हैं। इन तीनों प्राचार्यों के खिलाफ राजभवन कार्रवाई कर सकता है। इसकी जानकारी सीसीडीसी प्रोफेसर डाॅ. नीरज कुमार सिन्हा ने दी। उन्होंने बताया कि राजभवन सचिवालय में नैक के मुद्दे को लेकर बैठक हुई थी। जिसमें सेल्फ स्टडी रिपोर्ट (एसएसआर) डाटा अपलोड करना था। इसके लिए कॉलेज ने राजभवन सचिवालय से कई बार समय भी मांगा था। लेकिन, कॉलेज के प्राचार्य ने समय पर एसएसआर डाटा अपलोड नहीं किया था। कॉलेज के प्राचार्य राजभवन सचिवालय के आदेशों का लगातार अवहेलना कर रहे हैं। जिसके वजह से राजभवन सचिवालय ने सीसीडीसी को आदेश दिया है कि जिन कॉलेज का नैक में प्रदर्शन सही नहीं है, उस कॉलेज के प्राचार्य पर कार्रवाई कर राजभवन को सूचना दें। गौरतलब हो कि राजभवन सचिवालय ने इन तीनों कॉलेजों को एसएसआर अपलोड करने के लिए 12 जून को अंतिम तिथि दिया था। राजभवन में पिछले बैठक में इन तीनाें के काॅलेज खराब प्रदर्शन पर विश्वविद्यालय के सीसीडीसी को फटकार लगाया था। अब देखना यह है कि काॅलेज के प्राचार्य पर कार्रवाई के बाद दूसरे कॉलेज के प्राचार्य क्या काम करने में गति लाते हैं या नही।

राजभवन को इन बातों की देनी है जानकारी

राजभवन सचिवालय ने वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के अंतर्गत आने वाले अंगभूत कॉलेज के पिछले 6 महीने से एसएसआर अपलोड करने का आदेश दिया था। जिसमें कॉलेज के प्राचार्य आदेश को सही तरीके से नहीं कर रहे थे। एसएसआर मंे शिक्षक, संसाधन, पुस्तकालय, कम्प्यूटर, खेल मैदान, कॉलेज और प्राचार्य की जानकारी, शिक्षक का प्रोफाइल, कर्मचारियों का प्रोफाइल, विषय वार शिक्षकों का पद, छात्र-छात्राओं की स्थिति की जानकारी देनी थी।

सिंडिकेट की बैठक में निर्णय, बीसीए में काॅमर्स के छात्रों का नहीं होगा नामांकन

एजुकेशन रिपाेर्टर|आरा

वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के सभागार में शुक्रवार को सिंडिकेट की बैठक हुई। बैठक में वाइस चांसलर ने कहा कि बीसीए के सत्र 2019-22 में कामर्स का नामांकन नहीं लिया जाएगा। बीसीए के इस सत्र में कॉमर्स में नामांकन ले लिया है, उस पर विचार किया जाएगा। पता लगाइए कि जिस कॉलेज में बीसीए की पढ़ाई होती है, उसमें नियम के विरुद्ध नामांकन कैसे ले लिया गया। उस कॉलेज के प्राचार्य से शो-कॉज किया जाएगा। सही जबाव नहीं मिलने पर प्राचार्य पर कार्रवाई की जाएगी। बीसीए के अगले सत्र में कॉमर्स के छात्रों का नामांकन के लिए राजभवन सचिवालय से आदेश लिया जाएगा। कुलपति ने कहा कि जो शिक्षक लंबे समय से डिप्टेशन में हैं, उनकी पोंस्टिग किया जाएगा। पोस्टिंग के 6 महीने के बाद शिक्षकों का ट्रांसफर कर दिया जाएगा।

X
Ara News - three principals of buxar rohtas and kaimur will fall on
COMMENT