• Hindi News
  • Bihar
  • Ara
  • Ara News wherever you used to study former deputy prime minister and former railway minister the condition of the same school is now in peril

जहां कभी पढ़ते थे पूर्व उप प्रधानमंत्री व पूर्व रेलमंत्री, उसी स्कूल का हाल है अब बेहाल

Ara News - शहर के अति व्यस्ततम सड़कें के किनारे टाउन प्लस टू हाई स्कूल है। यह वही स्कूल है जहां से पूर्व उपप्रधानमंत्री...

Dec 06, 2019, 06:11 AM IST
Ara News - wherever you used to study former deputy prime minister and former railway minister the condition of the same school is now in peril
शहर के अति व्यस्ततम सड़कें के किनारे टाउन प्लस टू हाई स्कूल है। यह वही स्कूल है जहां से पूर्व उपप्रधानमंत्री जगजीवन राम व पूर्व केन्द्रीय रेल मंत्री स्वर्गीय डा रामसुभग सिंह ने भी इस स्कूल से शिक्षा ली थी। आज इस विद्यालय की स्थिति खराब है। विद्यालय के 20 कमरों में 7 के खिड़की व दरवाजे नहीं है। दीवारें भी जर्जर हो गई है। इस विद्यालय के 1500 विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण करते है। इस विद्यालय के सभागार में कई कार्यक्रम सरकारी व गैर सरकारी भी होते है जो जर्जर है। विद्यालय के कमरों में कई प्रायोगिक परीक्षाएं भी होती है। इस विद्यालय के प्रधानाध्यापक जर्जर भवन की स्थिति देखकर खुद दुखी है। वे फंड नहीं मिलने की बात कहते है। कई जगह दीवार की परत झड़ चुकी है।

मुख्य गेट पर ही है अतिक्रमण, विद्यार्थियों को होती है परेशानी

मुख्य गेट के मुहाने पर ही दुकान ठेले वाले लगाते है, जिससे विद्यार्थियों को स्कूल में जाने में परेशानी झेलनी पड़ती है। कई बार तो विद्यार्थियों के साथ दुकानदार नोकझोंक भी करते है।

1500 विद्यार्थी करते हैं स्कूल में पढ़ाई, मगर शिक्षकों की कमी

वर्गकक्ष के बाहर दरवाजा भी नहीं।

नहीं लग सकी विद्यालय परिसर में उपप्रधानमंत्री जगजीवन राम की प्रतिमा

सबसे बड़ी दुर्भाग्य की बात यह है कि उपप्रधानमंत्री जगजीवन राम की प्रतिमा के लगाने का शिलान्यास उनकी पुत्री मीरा कुमार ने 30 अगस्त 2002 को विद्यालय परिसर में किया था, जो आज तक प्रतिमा लग नहीं सकी।

बारिश के दिनों में रिसता है भवन

बारिश के दिनों में यह भवन रिसता है। जब तेज बारिश होती है तो विद्यार्थी बरामदे में शरण लेते है। कई बार तो वे स्कूल ही नहीं आते है। विद्यार्थी भी शिक्षा विभाग को ही दोषी ठहराते है।

प्रधानाध्यापक बोले- स्कूल के कमरे बिना दरवाजे के है, विद्यार्थियों को पढ़ने में होती है परेशानी

प्रधानाध्यापक किस्मत राय ने बताया कि हमारी कोशिश रहती है कि टूटे दरवाजों व खिड़कियों को दुरूस्त किया जाए। इसके लिए डीएम व डीईओ तक आवेदन दिया गया है।

Ara News - wherever you used to study former deputy prime minister and former railway minister the condition of the same school is now in peril
X
Ara News - wherever you used to study former deputy prime minister and former railway minister the condition of the same school is now in peril
Ara News - wherever you used to study former deputy prime minister and former railway minister the condition of the same school is now in peril
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना