• Hindi News
  • Bihar
  • Araria
  • Forbesganj News physical teacher made cs and maternity leave teacher static magistrate in inter examination

इंटर परीक्षा में शारीरिक शिक्षक को सीएस व मातृत्व अवकाश की शिक्षिका को स्टेटिक दंडाधिकारी बनाया

Araria News - शिक्षकों ने कर्मियों पर पैसे लेकर ड्यूटी लगाने का लगाया आरोप इंटर परीक्षा में शारीरिक शिक्षक को...

Feb 15, 2020, 07:36 AM IST
Forbesganj News - physical teacher made cs and maternity leave teacher static magistrate in inter examination
शिक्षकों ने कर्मियों पर पैसे लेकर ड्यूटी लगाने का लगाया आरोप

इंटर परीक्षा में शारीरिक शिक्षक को केंद्राधीक्षक तो कहीं बीमार रहने वाली एलएस रीना कुमारी को ली अकादमी में स्टेटिक मजिस्ट्रेट की ड्यूटी लगा दी गई। इस कारण दोनों परीक्षा के अंत तक ड्यूटी नहीं कर पाए। उनके स्थान पर भी किसी की ड्यूटी नहीं लगाई गई।

छुट्टी में रहने वाले व रिटायर्ड शिक्षक को भी को भी आंख बंदकर ड्यूटी में लगा दिया गया। हालांकि पत्र जारी होने के एक दिन बाद इस भूल को पुनः सुधार किया गया। डीईओ कार्यालय से ऐसे वीक्षकों को ड्यूटी पत्र जारी कर दिया, जो शारीरिक शिक्षक होते हुए भी फारबिसगंज कॉलेज के केंद्राधीक्षक बने। शारीरिक शिक्षक को केंद्र अधीक्षक बनाने के मामले में डीईओ कार्यालय के एक लिपिक और मदरसे के एक शिक्षक की भूमिका मानी जा रही है। ज्ञात हो कि तत्कालीन डीएम हिमांशु शर्मा के कार्यकाल में 2018 में अजय सिंह को केंद्राधीक्षक बनाया गया था। नियम विरुद्ध सीएस बनाने पर डीएम ने उस मदरसे के शिक्षक को कार्यालय में बुलाकर फटकार लगाई थी। बाद में अजय को हटाकर दूसरे को सीएस बनाया गया था। बता दें कि अजय माध्यमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष भी हैं। 31 जनवरी को सिमरबन्नी हाईस्कूल के प्रधानाध्यापक रिटायर्ड होने के बाद एचएम के प्रभार में हैं। जबकि शारीरिक शिक्षक प्रधानाध्यापक नहीं हो सकते हैं। डीईओ अशोक मिश्र ने कहा कि जिन्हें केंद्राधीक्षक बनाया गया, उनके पिता काे ब्रेन हेमरेज होने के कारण परिस्थिति के अनुकूल निर्णय लिया गया था।

सेवानिवृत्त शिक्षक की भी लगा दी गई थी ड्यूटी

रिटायर्ड व मातृत्व अवकाश की छुट्टी पर रही एलएस जयंती विश्वास को भी आदर्श मध्य विद्यालय अररिया में स्टेटिक मजिस्ट्रेट की ड्यूटी पर लगा दी गई। हालांकि दूसरे दिन सेंटर में अनुपस्थिति की सूचना मिलते ही पत्र जारी कर उनके स्थान पर मेनका कुमारी को प्रतिनियुक्त किया। कार्यवाही पर शिक्षकों का आरोप है कि कर्मी अवैध उगाही के चक्कर में आंख बंदकर बिना संबंधित कार्यालय से जानकारी लिए ही पुराने ही नाम को कई सालों से दोहरा रहे हैं। इस कारण रिटायर्ड व अवकाश लोगों का नाम जारी किया गया। इधर, केंद्राधीक्षक वीक्षकों के योगदान के लिए परेशान हैं। ऐसे कदाचार परीक्षा पर ही प्रश्नचिह्न लग रहे हैं। महिला पर्यवेक्षिका जो मातृत्व अवकाश में हैं, लेकिन बिना जानकारी लिये आंख मूंदकर ड्यूटी पत्र जारी करा दिया है। ऐसे में प्रशासन कर्मियों द्वारा इतनी बड़ी भूल कई अनुत्तरित सवालों को जन्म देता।

डीईओ की ओर से जारी पत्र।

X
Forbesganj News - physical teacher made cs and maternity leave teacher static magistrate in inter examination

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना