• Hindi News
  • Bihar
  • Araria
  • Bhargama News superstition and miracle have no place in saint kabir39s tradition only with satsang good faith jayaswaroop

संत कबीर की परंपरा में अंधविश्वास और चमत्कार का स्थान नहीं, सत्संग से ही सद््विवेक: जयस्वरुप

Araria News - भास्कर न्यूज | भरगामा/ अररिया संत रविदास सेवाश्रम सुकेला में रविवार को दो दिवसीय सत्संग आयोजित हुआ। मौके पर...

Nov 11, 2019, 06:51 AM IST
भास्कर न्यूज | भरगामा/ अररिया

संत रविदास सेवाश्रम सुकेला में रविवार को दो दिवसीय सत्संग आयोजित हुआ। मौके पर आचार्य जयस्वरूप साहेब व अन्य साधु महात्मा ने मानव जीवन के बारे में लोगों को बताया। सत्संग में आचार्य जयस्वरूप साहेब ने बताया कि मानव जीवन में ज्ञान की परिणति कर्म में होनी चाहिए। मनुष्य जीवन कर्म में परिणत नहीं हो पा रहा है। जिस कारण मनुष्य के जीवन में काेलाहल है। हम एक दूसरे का आदर नहीं करते हैं। आपसी सहयोग का अभाव निरंतर बढ़ता जा रहा है। इन्हीं सब कारणों से जीवन में अशांति है। इसके लिए जीवन को सुधारना होगा। नित्य सत्संग से सद् विवेक जागृत होगा। सद विवेक जागृत होने से मनुष्य जीवन अच्छा होगा। जिससे सभ्य समाज की संरचना होगी। उन्होंने कहा कि संत कबीर परंपरा में अंधविश्वास व चमत्कार का विरोध किया जाता रहा है। मगर लोग चमत्कार और अंधविश्वास के पीछे भागते जा रहे हैं। संत कबीर, संत रविदास, गुरुनानक देव आदि संत महापुरुषों ने भी कहा है कि बिना कर्म एवं पुरुषार्थ किए अच्छे एवं स्वस्थ समाज की संरचना नहीं हो सकती है। मौके पर हरिद्वार से आए नारायणस्वामी योगाचार्य, देव स्वरूप साहेव, सुरेंद्र दास व अन्य साधु ने जीवन कल्याण में कबीर के रहस्य का अमृत पान कराया ।इस अवसर पर महेंद्र दास, भुवनेश्वर साहब ,परमेश्वर साहब, जेपी विचार मंच के अध्यक्ष अजय अकेला, पूर्व जिला पार्षद सत्यनारायण यादव, समाजसेवी राजेंद्र मंडल, योगानंद दास, कुशेश्वर दास, ब्रह्मदेव दास, वार्ड सदस्य ललन पासवान, हरि लाल दास आदि सत्संगी श्रद्धालु उपस्थिति थे।

सत्संग में प्रवचन करते संत, प्रवचन सुनते सत्संग प्रेमी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना