खेतों में जमा हो रहा घरों से निकलने वाली नालियों का पानी, फैल रहीं बीमारियां

Aurangabad News - मदनपुर प्रखंड मुख्यालय स्थित सैंकड़ों घरों से निकलने वाला नालियों का पानी एनएच दो के किनारे घोरहत मोड़ समीप...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:15 AM IST
Madanpur News - drains draining from the accumulating houses spreading diseases
मदनपुर प्रखंड मुख्यालय स्थित सैंकड़ों घरों से निकलने वाला नालियों का पानी एनएच दो के किनारे घोरहत मोड़ समीप खेतों में जमा हो रहा है। जिसके कारण बीमारियां फैल रही है। पानी जमा होने से उसमें रोगाणुयुक्त मच्छर पैदा हो रहे हैं और पानी के सड़ने से दुर्गंध भी फैल रही है। इससे आसपास रहने वाले लोगों को काफी परेशानी हो रही है। यहां वर्षों से नालियों का गंदा पानी जमा हो रहा है। वहीं उक्त पानी घरों के चापाकलों के पानी को भी प्रदूषित कर रहा है। क्योंकि नाली का गंदा पानी धरती के अंदर पानी के जलस्तर तक पहुंच गया है जिससे चापाकल का शुद्ध पानी भी अशुद्ध व प्रदूषित हो गया है। यह पानी लोगों के स्वास्थ्य पर काफी प्रभाव डाल रहा है। इससे लोग टाइफाइड, पीलिया रोग, मलेरिया रोग समेत अन्य संक्रमित रोग का शिकार हो रहे हैं।

सालों से जमा गंदा पानी चापाकल से पानी को भी कर रहा दूषित

मदनपुर प्रखंड मुख्यालय में नालियों का जमा गंदा पानी।

एनएचएआई की है लापरवाही

जब एनएच दो का चौड़ीकरण व सौन्दर्यीकरण का निर्माण कार्य हो रहा था। तब फोरलेन निर्माण संवेदक कंपन्नी के द्वारा नाला का निर्माण किया गया था। लेकिन नाला के पानी की निकासी के लिए समुचित व्यवस्था नहीं की गई और उसे लापरवाही स्वरुप छोड़ दिया। जिसके कारण आज लोगों को परेशानी हो रही है। गर्मी के दिनों में जलजमाव की समस्या से तो परेशानी थोड़ी कम हो रही है लेकिन सबसे ज्यादा परेशानी बरसात के दिनों में होती है। जिस खेत में पानी जमा हो रहा है उसका असर आसपास के खेतों में भी हो जाता है। जमे पानी के कारण खेत दलदल की तरह हो गया है और इससे खेत जोतने के समय वाहन खेत में नहीं जा पाता है। जिसका खामियाजा किसानों को उठाना पड़ता हैं।

ग्रामीणों ने अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को दे रखा है आवदेन

ग्रामीणों ने नालियों के जमा पानी की समस्या का जल्द निराकरण करने के लिए मुखिया, सरपंच, वार्ड सदस्य व डाॅ सुल्तान अंसारी समेत सैकड़ों लोगों का हस्ताक्षरित आवेदन कई अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को दिया है। इनमें सांसद सुशील कुमार सिंह, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, मगध प्रमंडल आयुक्त गया, डीएम, विधायक व बीडीओ शामिल हैं। ग्रामीणों ने कहा कि जलजमाव से सबसे बड़ी समस्या पीने के पानी की है। पीने के लिए पानी दूर स्थित किसी के घर से लाते हैं। पीड़ित मनोज कुमार गुप्ता ने बताया कि चापाकल के प्रदूषित पानी पीने से पूरा परिवार संक्रमण बीमारी का शिकार हो गया है। इससे संबंधित आवेदन दिए हुए भी करीब एक माह होने को है लेकिन नाली के पानी की निकास की व्यवस्था अभी तक नहीं हो सका है।

X
Madanpur News - drains draining from the accumulating houses spreading diseases
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना