• Hindi News
  • Bihar
  • Aurangabad
  • Aurangabad(Bihar) News due to the strike of the employed teacher tola servants will be considered in the matriculation examination

नियोजित शिक्षक की हड़ताल के कारण टोला सेवक मैट्रिक परीक्षा में बनेंगे वीक्षक

Aurangabad News - 6 दिन बाद से शुरू होने वाला मैट्रिक परीक्षा में मैट्रिक पास टोला सेवक वीक्षक बनेंगे। क्योंकि नियोजित शिक्षक उसी...

Feb 12, 2020, 06:16 AM IST
Aurangabad(Bihar) News - due to the strike of the employed teacher tola servants will be considered in the matriculation examination

6 दिन बाद से शुरू होने वाला मैट्रिक परीक्षा में मैट्रिक पास टोला सेवक वीक्षक बनेंगे। क्योंकि नियोजित शिक्षक उसी दिन से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जा रहे हैं। लिहाजा शिक्षा विभाग टोला सेवकों को परीक्षा में ड्यूटी लगाने की तैयारी शुरू कर दी है। शहर के शाहपुर स्थित टीचर ट्रेनिंग कॉलेज में टोला सेवकों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। मंगलवार को औरंगाबाद सदर, बारूण, नवीनगर, देव, रफीगंज, कुटुम्बा प्रखंड के टोला सेवक व तालिमी मरकज शिक्षा सेवी को प्रशिक्षण दिया गया। अन्य प्रखंडों के टोला सेवकों को दूसरे दिन प्रशिक्षण दिया जाएगा। इन्हें ट्रेनर के रूप में उमा शंकर बैठा, रूपेश रंजन सिन्हा, साजिद गुफरान थे। वहीं जिला शिक्षा पदाधिकारी मो. अलीम ने टोला सेवकों को परीक्षा में वीक्षक के ड्यूटी करने का टिप्स दिया। शहर के शाहपुर स्थित टीचर ट्रेनिंग कॉलेज में मैट्रिक परीक्षा में वीक्षक की ड्यूटी के लिए ट्रेनिंग टोला सेवकों को दिया गया। परीक्षा प्रभारी अजय कुमार चक्रवर्ती, ट्रेनर उमा शंकर बैठा, रूपेश रंजन सिन्हा ने टोला सेवकों से कहा कि आप सभी वीक्षक की ड्यूटी को बड़ा काम की नजरों से नहीं देखे। किसी भी ड्यूटी को करने से पहले खुद में आत्मविश्वास लाएं। उस कुर्सी के काबिल खुद को समझें।

आंदोलन के बल पर 1500 से 25000 तक पहुंच चुके हैं नियोजित शिक्षक

नियोजित शिक्षक आंदोलन के बल पर ही 1500 के वेतन से 25 से 26 हजार तक का सफर कर चुके हैं। एक बार फिर वेतन बढ़ोतरी समेत कई मुद्दों को लेकर नियोजित शिक्षक 17 फरवरी से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जा रहे हैं। 2003 से ही नियोजित शिक्षक अपने मुद्दों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। अब तक दर्जनाें बार आंदोलन कर चुके हैं। जिसके कारण ही समय-समय पर सरकार ने उनके वेतन में इजाफा किया। लिहाजा एक बार फिर चुनाव से पहले अपनी मांग मनवाने के लिए नियोजित शिक्षक हड़ताल पर जा रहे हैं। ताकि सरकार उनकी मांग मान लें। शिक्षक सुनील कुमार बॉबी ने बताया कि सेवाशर्त, पूर्ण वेतनमान, ऐच्छिक तबादला, राज्य कर्मियों जैसा सीएल और ईएल समेत कई मुद्दों पर यह हड़ताल किया जा रहा है।

मैट्रिक परीक्षा में 2200 से ज्यादा वीक्षक व 200 मजिस्ट्रेट की है जरूरत

मैट्रिक परीक्षा शांतिपूर्ण कराने के लिए 2200 से ज्यादा वीक्षक की जरूरत है। जबकि 200 से ज्यादा मजिस्ट्रेट चाहिए। इसके लिए शिक्षकों को लगाया जाता है। लेकिन 17 से राज्य संगठन के आह्वान पर नियोजित शिक्षक हड़ताल पर जा रहे हैं। जिसके कारण मैट्रिक परीक्षा में परेशानी उत्पन्न हो गई है। लिहाजा शिक्षा विभाग ने निदेशालय के निर्देश पर आनन-फानन में टोला सेवक, तालिमी मरकज व हाई स्कूल के शिक्षकों को ड्यूटी पर लगाने का निर्देश दिया है। जिसके बाद 1369 टोला सेवक और तालिमी मरकज व 1200 हाई स्कूल के शिक्षकों को मैट्रिक परीक्षा में लगाने के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

17 से हड़ताल पर जा रहे शिक्षक उसी दिन से मैट्रिक परीक्षा शुरू

जब आप में आत्मविश्वास जग जाएगा तो वह काम आपके लिए बहुत सरल हो जाएगा। मैट्रिक परीक्षा में वीक्षक की ड्यूटी में कोई बड़ी बात नहीं। आपको सावधानी के साथ एडमीट कार्ड को फोटो के साथ मिलान करना है। उत्तर पुस्तिका पर हस्ताक्षर करना है और परीक्षा के दौरान परीक्षार्थियों के गतिविधियों पर पैनी नजर रखना है। प्रशिक्षण के दौरान कई अन्य टिप्स भी टोला सेवकों को दिया गया। इधर टोला सेवक विकास कुमार, दिनेश कुमार, प्रभु बैठा, संतोष रजक, कमलेश प्रसाद रजक सहित अन्य ने कहा कि विभाग द्वारा जो जिम्मेवारी दी जा रही है। उसे पूरी जिम्मेवारी के साथ टोला सेवक व तालिमी मरकज निभाएंगे। पूरी तरह से कदाचार मुक्त परीक्षा लिया जाएगा।

शहर के शाहपुर स्थित टीचर ट्रेनिंग कॉलेज में प्रशिक्षण शिविर हुआ आयोजित

इधर डीईओ बोले-मैट्रिक परीक्षा पर नहीं पड़ेगा असर


प्रशिक्षण प्राप्त करते टोला सेवक व तालीमी मरकज।

X
Aurangabad(Bihar) News - due to the strike of the employed teacher tola servants will be considered in the matriculation examination

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना