भाई की दीर्घायु जीवन की कामना के साथ मनाया गया भैया दूज

Banka News - कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि यानी मंगलवार को भाई दूज के पर्व को धूमधाम से मनाया गया। इसे पांच दिवसीय दिवाली...

Oct 30, 2019, 08:30 AM IST
कार्तिक शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि यानी मंगलवार को भाई दूज के पर्व को धूमधाम से मनाया गया। इसे पांच दिवसीय दिवाली पर्व की श्रृंखला में अंतिम पर्व के रूप में मनाया जाता है। बहनों ने अपने भाइयों को तिलक लगाकर उनकी दीर्घ आयु की कामना और देवता की तरह भाई की आरती उतार उसके खुशी जीवन कि कामना की। चावल के आटे से चौका बनाया गया। जिसपर बहनों ने भाई को बैठाकर पूजा किया। इसके अलावा भाई की हथेली पर चावल का घोल लगाते हुए हाथ पर जल गिरा कर आरती उतारा और भाई की खुशी जीवन की कामना की। हिंदू समाज में भाई-बहन के अटूट प्रेम में भैया दूज और रक्षाबंधन का विशेष महत्व होता है।

अपने छोटेे भाई के माथे पर तिलक लगाती बहन।

पूजा के साथ मनाते हैं पर्व, यमराज भी गए थे तिलक लगाने अपनी बहन के घर

भाई दूज भी रक्षाबंधन की तरह है। इस पर्व के मौके पर बहनों ने स्नान के बाद भगवान गोवर्धन को स्मरण किया। इस दौरान अपने भाई के दीर्घ आयु हाेने की मंगल कामना यमराज से की। इसके बाद एक जगह पर बनाए गए गोवर्धन भगवान के पास जाकर मंगल गीत गाते हुए अन्नकुट किया। भाई बहन के पवित्र गीत-संगीत से पूरा माहौल गुंजायमान हो उठा। शास्त्राें के अनुसार भाई दूज के लिए यमराज अपनी बहन यमुना के घर तिलक कराने गए थे। ऐसा कहा जाता है कि यमराज अपनी कार्यों के व्यस्तताओं के कारण बहन से मिलने नहीं जा पाते थे। जो इस दिन अपनी बहन के घर पहुंच गए थे। पूजन के समय बहन ने भी यमराज को देख कर भैया दूज पर्व मनाया था।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना