अब उपभोक्ताओं को उपयोग करने से पहले देना होगा बिजली के लिए शुल्क

Begusarai News - अब जिले के बिजली उपभोक्ता को मोबाइल की तरह ही मीटर को भी रीचार्ज कराना होगा, तभी वे बिजली का उपयोग कर पाएंगे। जितने...

Oct 22, 2019, 06:35 AM IST
अब जिले के बिजली उपभोक्ता को मोबाइल की तरह ही मीटर को भी रीचार्ज कराना होगा, तभी वे बिजली का उपयोग कर पाएंगे। जितने रुपए का रीचार्ज करेंगे उतनी यूनिट ही बिजली की खपत कर सकेंगे। रीचार्ज खत्म होते ही स्वतः आपके घर की बिजली कट जाएगी तथा रीचार्ज करने के बाद खुद-बृखुद बिजली आ जाएगी। प्रीपेड बिजली मीटर के लिए सर्वे का काम शुरु कर दिया गया है। सभी पुराने बिजली मीटर को प्रीपेड मीटर में बदलने के लिए सर्वे का काम 2 सिंतबर से शुरू किया जा चुका है। प्रीपेड मीटर लगने के बाद उपभोक्ताओं को बिना मीटर रीचार्ज कराए बिजली की आपूर्ति नहीं की जाएंगी।

तेघड़ा और बलिया में सर्वे जारी है

मीटर सर्वे का काम कर रही पंजाब की महाशक्ति एनर्जी कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर प्रवीण कुमार सिंह ने बताया कि तेघड़ा और बलिया अनुमंडल में अभी सर्वे का काम किया जा रहा है, सर्वे में उपभोक्ता से संबंधित सारी जानकारी ली जा रही है। तेघड़ा में कुल 14 हजार 960 उपभोक्ता है, जिसमें 9 हजार का सर्वे कार्य पूरा कर लिया गया है, वहीं बलिया में 5 हजार उपभोक्ता है, जिसमें 1 हजार उपभोक्ता का सर्वे हुआ है, लोगों का सहयोग नहीं मिलने के कारण सर्वे में दिक्कत आ रही है। साथ ही बताया कि अभी केवल डीएस-टू और एनडीएस-टू श्रेणी के उपभोक्ता का मीटर सर्वे किया जा रहा है। डीएस-वन, एनडीएस-वन और एजे श्रेणी के उपभोक्ता का मीटर सर्वे नहीं हो रहा है।

जिले के घरों में लगाए जाएंगे प्रीपेड बिजली के मीटर, पहले कराना होगा रीचार्ज

12 माह में जिले के 4 लाख पुराने मीटर को प्रीपेड मीटर में बदलने का रखा गया है लक्ष्य

कार्यपालक अभियंता किशोर कुमार सिंह ने बताया कि जिले में बिजली कंपनी के 4 लाख उपभोक्ता है। सभी मीटर का फेज वाइज सर्वे किया जाएगा, जिसके बाद प्रीपेड मीटर इंस्टॉलेशन किया जाएगा। इन सभी ग्राहकों का बिजली मीटर अगस्त 2020 तक प्रीपेड मीटर में बदल दिया जाएगा। साथ ही बताया कि केवल बेगूसराय डीवीजन में 2 लाख 32 हजार उपभोक्ता है। जिनमें 8 सौ औधोगिक कनेक्शन, 18 हजार कॉमर्शियल कनेक्शन, 12 सौ कृषि कनेक्शन और दो लाख 15 हजार घरेलू कनेक्शन है। उन्होंने बताया कि सबसे पहले शहरी क्षेत्र के 40 हजार उपभोक्ताओं का मीटर प्रीपेड मीटर में बदला जाएगा। जिसमें 10 हजार कॉमर्शियल और 30 हजार घरेलू कनेक्शन है।

तय की जा रही टैरिफ, यूनिट खपत होते ही कट जाएगी बिजली

प्रीपेड मीटर का टैरिफ तय किया जा रहा है, यूनिट के अनुसार टैरिफ तय होगा और हर टैरिफ में यूनिट निर्धारित रहेगा। इस टैरिफ में समय सीमा निर्धारित नहीं होगी, अधिकारी ने बताया कि टैरिफ की वैधता नहीं होगी बल्कि जितनी यूनिट का टैरिफ रीचार्ज करेंगे उतने ही बिजली, उपभोक्ता उपयोग कर सकेंगें। यूनिट जबतक खत्म नहीं होगी उपभोक्ता बिजली जला सकते हैं। टैरिफ के अनुसार यूनिट खत्म होते ही बिजली कट जाएगी। यह कनेक्शन मीटर से ही कटेगा। रीचार्ज कराने के बाद फिर आपूर्ति चालू हो जाएगी।

पुराने मीटर को बदलने की तैयारी करते कर्मी।

शहर में कवर वायर से किया जा रहा है कनेक्शन

प्रीपेड मीटर लगने के बाद बिजली चोरी रोकने के लिए कंपनी ने खुले तार को कवर तार में तब्दील करना शुरू कर दिया है। ताकि लोग टोका फंसाकर अवैध तरीके से डायरेक्ट बिजली का उपयोग नहीं कर सके। दरअसल अभी कुछ लोग मीटर वायपास कर बिजली की चोरी करते है। ऐसे लोगों के खिलाफ बिजली कंपनी समय-समय पर अभियान चलाकर कार्रवाई भी करती है। कार्यपालक अभियंता ने बताया कि शहर में तार बदलने का काम चल रहा है, जिसे तय समय तक पूरा कर लिया जाएगा।

प्रीपेड मीटर को कहां और कैसे रीचार्ज करेंगे

बिजली कंपनी के कार्यपालक अभियंता ने बताया कि उपभोक्ता अपने प्रीपेड मीटर का रीचार्ज कार्यालय आकर या फ्रेंचाईजी केन्द्र पर जाकर करवा सकते है। साथ ही ऑनलाइन और पेटीएम के माध्यम से भी मीटर रीचार्ज कर सकते है।

गड़बड़ बिल से मिलेगी लोगों को मुक्ति

उपभोक्ताओं की लगातार यह शिकायत रहती है कि जितने का बिल आना चाहिए उससे कई गुना अधिक बिजली बिल आता है। उपभोक्ता इसे सुधार करवाने के लिए बिजली विभाग का चक्कर लगाते रहते हैं और काफी समय बर्बाद करते हैं।

स्मार्ट मीटर के साथ नहीं हो सकती छेड़छाड़

स्मार्ट प्रीपेड मीटर के साथ किसी तरह की छेड़छाड़ नहीं हो सकती। इसे छेडने का कोई प्रयास करेगा तो मीटर स्वतः बंद हो जाएगा और साथ ही साथ इससे बिजली आपूर्ति भी प्रभावित हो सकती है। इसकी टेस्टिंग केंद्रीय संस्थान से कराकर भेजी जाएगी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना