मियादी व वायरल बुखार से हो सकती है कान बहने की समस्या

Begusarai News - कान के बाहर या भीतर पानी जैसे रंगहीन तरल पदार्थ या मवाद या खून के रिसाव को ही आम बोलचाल की भाषा में कान बहना कहते...

Bhaskar News Network

Aug 19, 2019, 06:30 AM IST
Begusarai News - periodic and viral fever can cause ear problems
कान के बाहर या भीतर पानी जैसे रंगहीन तरल पदार्थ या मवाद या खून के रिसाव को ही आम बोलचाल की भाषा में कान बहना कहते हैं। कान बहने का शिकार कोई भी व्यक्ति हो सकता है परंतु कुपोषित बच्चे, मियादी बुखार के रोगियों तथा तैराकों में इसके होने की संभावना ज्यादा होती है। वायु प्रदूषण, एलर्जी की समस्याएँ, गले में संक्रमण, चिकन पॉक्स, मक्स और रूबैला जैसे बुखार, कुपोषण तथा अस्वास्थ्यकर परिस्थितियां भी कान बहने में अहम भूमिकाएं निभाती हैं। कई बार दांतों का इंफेक्शन भी कान बहने का कारण बन सकता है। उक्त बातें खगेंद्र वैभव अस्पताल के नाक, कान, गला रोग विशेषज्ञ डा रौशन कुमार ने रविवार को पत्रकारों को संबोधित करते हुए कही।

कान का पर्दा फटने से हो सकता है दो प्रकार के संक्रमण

डा रो़शन कुमार ने बताया कि कान का पर्दा फटने पर दो प्रकार से संक्रमण हो सकता है। पहला कान के पर्दे में सुराख एवं दूसरा पर्दे के साथ-साथ मध्य कान की हड्डी का भी संक्रमित हो जाना। इससे मस्तिष्क की सूजन, चेहरे की मांसपेशियों में लकवा, चक्कर आने जैसी समस्याएँ पैदा हो जाती है। उन्होंने बताया कि रोगी एवं रोग की स्थिति को देखकर ही डॉक्टर इलाज के तरीके का निर्णय करते हैं। यदि ऐडीनायडस अथवा टांसिल्स के कारण इंफेक्शन हो तो उसे दवा देकर ठीक किया जा सकता है।

डॉ रोशन

छोटे शिशु को ठीक से लिटाकर दूध नहींं पिलाने के कारण भी मध्य कान में संक्रमण हो जाता है। अधिकांश महिलाएँ बच्चे को करवट लिटाकर दूध पिलाती हैं। इससे कई बार दूध मध्य कान में पहुंचकर संक्रमण पैदा कर देता है जिससे मवाद बनने लगता है। इसके साथ ही किसी भी प्रकार का वायरल, बैक्टीरियल या फंगल इंफेक्शन भी कान बहने का कारण हो सकता है। यह बीमारी जन्म से नहींं होती परंतु इसके अनेक कारण हो सकते हैं। बाहरी कान में चोट लगने, फोड़ा-फुन्सी होने या फफूँद लगने पर कान बहने की समस्या हो सकती है। मध्य कान एक नली द्वारा नाक के पिछले तथा गले के ऊपरी हिस्से से जुड़ा होता है। इस कारण नाक तथा गले में होने वाली साइनस तथा टान्सिल जैसी समस्याएँ मध्य कान को प्रभावित करती हैं। इस स्थिति में कान में सूजन हो जाती है और इसकी ट्यूब बंद हो जाती है जिसके फलस्वरूप कान के मध्य भाग में एक किस्म का तरल पदार्थ इकट्ठा होने लगता है। दबाव बढ़ने पर यह तरल पदार्थ कान के पर्दे को हानि पहुँचाता हुआ बाहर निकल आता है।

कान बहने के हैं ये हैं मुख्य कारण

X
Begusarai News - periodic and viral fever can cause ear problems
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना