• Hindi News
  • Bihar
  • Begusarai
  • Begusarai News there is a great vibe between faith and devotion only vinay karahi chee food kumar kumar yo huge crowd gathered on the day of ramkaleva

आस्था और भक्ति के बीच राममय हुआ बीहट, केवल विनय करै छी, भोजन करियो कुमार यो... रामकलेवा के दिन उमड़ी भारी भीड़

Begusarai News - बीहट स्थित श्रीसिय निवास में आयोजित जानकी विवाह महोत्सव के चौथे दिन राम कलेवा के तहत विश्वनाथ मंदिर के मंडप पर 56...

Dec 03, 2019, 06:36 AM IST
Begusarai News - there is a great vibe between faith and devotion only vinay karahi chee food kumar kumar yo huge crowd gathered on the day of ramkaleva
बीहट स्थित श्रीसिय निवास में आयोजित जानकी विवाह महोत्सव के चौथे दिन राम कलेवा के तहत विश्वनाथ मंदिर के मंडप पर 56 प्रकार के व्यंजनों से दूल्हा श्रीराम और उनके भाइयों को रस पान कराया गया। राम कलेवा की यह निराली छवि देखते ही बन रही थी संपूर्ण बीहट वासी और सिय रनिवास की संखिया उमंग, लावण्य, प्रेम, माधुर्य, आनंद के साथ आमोद प्रमोद में गोते लगा रहे थे। मौके पर मिथिला की सखियां स्वरूप जुटी सहेलियां उन्हें अपने गीतों से रिझा रही थी। मानो आज स्वयं श्रीराम अपने भाइयों के साथ पधारे हों। इसको लेकर मिथिला के लोग अपने पाहुन को भोजन पान करा रहे थे। इसे देखने के लिए ना केवल बीहट बल्कि बेगूसराय सहित देश के अलग-अलग हिस्सों से आये सिय रनिवास से जुड़े समाज के लोग अपनी अनन्य भक्ति के साथ उमड़ रहे थे। राम कलेवा के दिन प्रिय पाहुन के रूप में परमब्रह्म राम को पाकर साख्य भाव में मिथिला की सहेलियां आज आनंद से अभिभूत हैं। साख्य भाव में रसगुल्ला, पेड़ा, लड्डू, जलेबी कचरी, पूरी, सब्जी सहित 56 प्रकार के व्यंजन का पान करवाते हुए मिथिला की सखियों ने अपने परम ब्रह्म राम का आतिथ्य सत्कार किया। अपने पाहुन को गाली देते हुए सखियां कहती हैं गायर नै पढै छी, केवल विनय करै छी, भोजन करियो कुमार यो सहित अन्य भाव और उनकी सुंदरता में सिय रनिवास के मुख्य मंडप पर परमब्रह्म राम सहित चारों भाइयों के साथ विनोद भाव से स्वागत करती हैं। फिर सखियां कहती हैं कि एक सखी कह सुन छियो जी, यह स्वरूप कहां पायो, कानन सुनियो काम अति सुंदर कि तुम खुश होये। वहीं पीठासीन आचार्य राजकिशोर महाराज कहते हैं प्रीतम बल अपनी जनम विधाता दे ही तह तह रसिक राज रघुनंदन, तुम्हारो लगन लालजी, कौनो जन्म ना छूटेही और यही भाव मिथलानी भी रखती है। 56 प्रकार के व्यंजनों का मधुर पान करते परमब्रह्म और उनके हाथों प्रसाद पान की होड़ में लगे भक्त शामिल होने की तमन्ना रखते हैं।

श्रीराम व उनके भाइयों को 56 भोग खिलाते लोग।

X
Begusarai News - there is a great vibe between faith and devotion only vinay karahi chee food kumar kumar yo huge crowd gathered on the day of ramkaleva

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना