बाबा इस्माइल शाह दरगाह गंगा यमुनी तहजीब का अनूठा व मजबूत उदाहरण

Begusarai News - कव्वाली पेश करती कव्वाला। सिटी रिपोर्टर| बखरी बाबा इस्माइल साह दरगाह गंगा यमुनी तहजीब का अनूठा और मजबूत...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 07:01 AM IST
Bkhri News - unique and strong example of baba ismail shah dargah ganga yamuni tehzeeb
कव्वाली पेश करती कव्वाला।

सिटी रिपोर्टर| बखरी

बाबा इस्माइल साह दरगाह गंगा यमुनी तहजीब का अनूठा और मजबूत उदाहरण है। इस दर पर सच्चे दिल से शीश नवाने वाले की झोली कभी खाली नहीं जाती। उक्त बातें क्षेत्रीय विधायक उपेंद्र पासवान ने कही। वे शुक्रवार की शाम प्रसिद्ध बाबा इस्माइल साह दरगाह पर आयोजित सलाना उर्स मेला में बतौर उद्घाटनकर्ता बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि बाबा इस्माइल साह दरगाह हर कौम और जाती के लिए तीर्थस्थल की तरह है। यहां हर कौम के लोग श्रद्धा और विश्वास के साथ शीश नवाते हैं। यही वजह है कि बाबा इस्माइल साह दरगाह हिन्दु मुस्लिम एकता की परंपरा को जीवंत रखे हुए है। वहीं उर्स कमेटी के अध्यक्ष इजहार आलम ने कहा कि बाबा का सलाना उर्स में जितना बढ़ चढ़कर मुस्लिम समुदाय के लोग हिस्सा लेते हैं, उसी उत्साह के साथ हिन्दु भाईयों का भी बराबर का सहयोग होता है। उन्होंने बाबा इस्माइल साह से सभी कौम के लोगों की सलामती की दुआ की। वहीं सामाजिक कार्यकर्ता रजनीकांत पाठक ने कहा बाबा इस्माइल साह दरगाह हमारी साझा संस्कृति को और अधिक निखारता है। यह संस्कृति हमारे सामाजिक उत्थान में मील का पत्थर साबित होगा। कार्यक्रम को पूर्व मुखिया अब्दुल हलीम, तुफैल अहमद खान, मनोहर केशरी, मो. फैयाज, उर्स कमिटी के सचिव मो. खलील आदि ने भी संबोधित किया।

विधायक ने चाहरदीवारी निर्माण की घोषणा की

अधिवक्ता मनोहर केशरी ने इस्माइल बाबा की खाली पड़ी जमीन के चाहरदिवारी निर्माण की मांग की। इस पर विधायक ने दरगाह के चारो तरफ चाहरदिवारी निर्माण की घोषणा की। लोगों ने तालियां बजाकर इस घोषणा का स्वागत किया। पूरे दरगाह को आकर्षक ढंग से सजाया गया था।

उर्स मेला के उद्घाटन के मौके पर उपस्थित विधायक व अन्य। कव्वाली पेश करती कव्वाला

उर्स के उद्घाटन के मौके पर उपस्थित विधायक व अन्य।

कव्वाली के जोरदार मुकाबले में सरोबाेर हुए लोग

कोलकता के मशहूर कव्वाल सब्बीर चिश्ती व मुजफ्फरपुर की महिला कव्वाल रौनक परवीन के बीच पूरी रात कव्वाली और गजल का जोरदार मुकाबला चला। ज्यों-ज्यों रात गुजर रही थी, मुकाबला जोरदार होता चला गया। सब्बीर चिश्ती द्वारा पेश भर दे झोली मेरी इस्माइल बाबा, बाबा तो हसनैन का सजदा ने लोगों को इस्माइल साह के प्रसिद्धि को बखूबी समझाया। जबकि रौनक परवीन की प्रस्तुति बखरी के राजा हैं बाबा तेरी चौखट पर आए हम, सब पर चिश्ती लुटाएंगे बाबा तथा नूर से रौशन कर दे कव्वाली ने लोगों की खूब तालियां बटोरी।

फातिया पढ़ी और मन्नतें मांगीं

बाबा इस्माइल साह दरगाह पर बड़ी संख्या में लोगों ने फातिया पढी और सलामती की दुआ मांगी। इस अवसर पर लोगों ने फूल और कपड़े से बने चादरपोशी भी की। लोगों की मानें तो इस दरगाह पर सच्चे मन से मांगी गई हर मुराद को बाबा इस्माइल पूरा करते हैं।

Bkhri News - unique and strong example of baba ismail shah dargah ganga yamuni tehzeeb
X
Bkhri News - unique and strong example of baba ismail shah dargah ganga yamuni tehzeeb
Bkhri News - unique and strong example of baba ismail shah dargah ganga yamuni tehzeeb
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना