शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के लिए 42 दिनों तक शिशु की करें विशेष देखभाल

Bettiah Bagha News - प्रसव के बाद नवजात के बेहतर देखभाल में संस्थागत प्रसव के मामलों में शुरूआती दो दिनों तक मां और नवजात का ख्याल...

Nov 18, 2019, 06:50 AM IST
प्रसव के बाद नवजात के बेहतर देखभाल में संस्थागत प्रसव के मामलों में शुरूआती दो दिनों तक मां और नवजात का ख्याल अस्पताल में रखा जाता है। लेकिन गृह प्रसव के मामलों में पहले दिन से ही नवजात को बेहतर देखभाल की जरूरत होती है। शिशु के जन्म के शुरूआती 42 दिन अधिक महत्वपूर्ण होते हैं। उस समय उसके अधिक देखभाल की आवश्यकता होती है। इसको ध्यान में रखते हुए होम बेस्ड न्यूज बर्न केयर यानि गृह आधारित नवजात देखभाल कार्यक्रम की शुरुआत की गयी है। इस कार्यक्रम के तहत संस्थागत प्रसव एवं गृह प्रसव दोनों स्थितियों में आशा घर जाकर 42 दिनों तक नवजात की देखभाल करती है। राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी बाल स्वास्थ्य डॉ. वीपी राय ने बताया नवजात देखभाल सप्ताह के दौरान आशाओं द्वारा किए जा रहे गृह आधारित नवजात देखभाल पर अधिक ज़ोर दिया गया है। इसके लिए आशाओं को निर्देशित भी किया गया है कि वह गृह भ्रमण के दौरान नवजातों में होने वाली समस्याओं की अच्छे से पहचान करें एवं जरुरत पड़ने पर उन्हें रेफर भी करें।

नवजात शिशु की देखभाल के लिए जागरूक करतीं आशा।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना