• Hindi News
  • Bihar
  • Bhagalpur
  • Sultanganj News 17 will commence from the fair the coastal areas will be bathed on dangerous ghats and will reach from pathrile path

17 से मेला होगा शुरू, कांवरिए खतरनाक घाट पर नहाएंगेे और पथरीले पथ से पहुंचेेंगे बाबाधाम

Bhagalpur News - विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेले का उद्घाटन 16 जुलाई को होने के साथ ही अगले दिन 17 जुलाई से पूरे सावन माह तक एक माह का मेला...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 09:20 AM IST
Sultanganj News - 17 will commence from the fair the coastal areas will be bathed on dangerous ghats and will reach from pathrile path
विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेले का उद्घाटन 16 जुलाई को होने के साथ ही अगले दिन 17 जुलाई से पूरे सावन माह तक एक माह का मेला शुरू हो जाएगा। लेकिन मेला क्षेत्र में जिला प्रशासन की व्यवस्था शनिवार तक धरातल पर नहीं उतर पाई। मेले में आए कांवरियों के लिए दो महत्वपूर्ण व्यवस्था है, इसमें एक सुरक्षित गंगा घाट और दूसरा कांवरिया पथ। सीढ़ी और जहाज घाट दोनों की स्थिति खतरनाक बनी हुई है। कांवरिया पथ को सुदृढ नहीं बनाया जा सका है। नई सीढ़ी घाट और जहाज घाट दोनों अभी अव्यवस्थित है। गंगा का जलस्तर भी तेजी से बढ़ रहा है। पिछले दिनों कराए गए बैरिकेडिंग के डूब जाने से उसे पुनः उखाड़कर व्यवस्थित किया जा रहा है। बैरिकेडिंग व्यवस्थित करने में जुटे मजदूर कहते हैं कि फिलहाल सुरक्षित गंगा घाट बनाए रखने में काफी परेशानी हो रही है। इसलिए यह कहने में कतई गुरेज नहीं कि, जिला प्रशासन की आधी-अधूरी तैयारी के कारण इस बार कांवरिया बाबा भोले के भरोसे गंगा में स्नान करेंगे और अपनी-अपनी कांवर यात्रा पूरी कर बाबा के दरबार जलाभिषेक करने पहुंचेंगे।

मेला क्षेत्र में जिला प्रशासन की व्यवस्था अभी तक धरातल पर नहीं उतर पाई

नई सीढ़ी घाट पर जैसे-तैसे पड़े हैं चट्‌टान के टुकड़े, बनने की जगह बिगड़ चुका है घाट।

कांवरिया बोले- पैरों में चुभ रहे पत्थर : कांवरिया पथ पर बिछाए जाने के लिए गिराए गए बालू में छोटे-बड़े कंक्रीट विद्यमान हैं। कहीं-कहीं बड़े-बड़े पत्थर के टुकड़े साफ दिखाई दे रहे हैं। जिसे हटाया नहीं गया है। पूर्वी चंपारण से आए कांवरिया रतन लाल व इनकी प|ी रूमा शनिवार को गंगाजल लेकर पैदल बैद्यनाथ धाम के लिए निकले, नोनसर के समीप कांवरिया पथ पर कांवरिया पथ को ठीक-ठाक बनाया जाना चाहिए था। पांच किलोमीटर पैदल चलने में ही हजारों बार पैरों में कंक्रीट चुभ चुके हैं। पथ किनारे मिट्टी पर चलने को बाध्य हैं।

कांवरिया पथ पर बिछाए गए बालू में पत्थर के टुकड़े।

कांवरिया पथ पर बिछाए गए बालू में पत्थर के टुकड़े।

227 चापाकल में से 56 चापाकल अब भी बंद : सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में पीएचईडी का जगह-जगह कुल 227 चापाकल लगे हैं। इसमें शनिवार तक 56 चापाकल बाहर से चकाचक, लेकिन अंदर से पानी नहीं निकल रहा है। सबसे अधिक चापाकल कच्चा कांवरिया पथ किनारे के या तो खराब हैं, या फिर सही तरीके से मेंटेनेंस वर्क नहीं कराए जाने से वो बंद पड़े हैं।

नई सीढ़ी घाट किनारे बड़े-बड़े उबड़-खाबड़ पत्थर से हो सकती है परेशानी नई सीढ़ी घाट किनारे बड़े-बड़े पत्थर के रहने से नदी में स्नान करने आने-जाने वाले कांवरियों को खतरा पहुंच सकता है। कांवरियों की तादाद गंगा घाट बढ़ने के बाद रखा पत्थर किसी हादसे का गवाह बन सकता है। घाट किनारे के दुकानदारों ने बताया कि अजगैबीनाथधाम मंदिर तक आने-जाने वाले पीसीसी सड़क मार्ग पिछले साल डूब जाने से अंदर का मिट्टी कटकर निकल जाने से पीसीसी सड़क कई जगहों से टूट-फूट गया था। उसके बड़े-बड़े टूकड़े पड़े हुए हैं।

कर्मचारियों की छुट्टी रद्द, कांवरियों के लिए बनाए जा रहे हैं स्पेशल वार्ड

श्रावणी मेले को देखते हुए सेहत महकमे के हाईकमान ने सभी डाॅक्टर व कर्मचारियों की छुट्टी रद्द कर दी गई है। रेफरल अस्पताल में कांवरियों के लिए स्पेशल वार्ड बनाए जा रहे हैं, जहां अपरिहार्य परिस्थिति में कांवरियों का इलाज होगा। पिछले साल की तरह ही इस बार भी मेला क्षेत्र में 10 जगहों पर अस्थाई हेल्थ शिविर लगाए जाएंगे और इसमें 30 डाॅक्टर और 30 कर्मचारी लगाए जाएंगे। इस बार इसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है।

यहां-यहां लगाए जाएंगे हेल्थ शिविर

नगरीय क्षेत्र में जहाज घाट, सीढ़ी घाट, महिला अस्पताल, आदर्श मध्य विद्यालय और कृष्णगढ़ और कांवरिया पथ पर असियाचक नारदपुल के समीप, रामपुर कमराॅय, धांधी बेलारी, गायत्री मंदिर और तेघराफॉल।

स्पेशल वार्ड : रेफरल अस्पताल में इस बार कांवरियों के लिए 10 बेड का एक स्पेशल वार्ड बनाया जा रहा है। जहां इमरजेंसी की सभी सुविधाएं उपलब्ध रहेंगे। यहां सांप काटने की दवा, ऑक्सीजन, सभी तरह की जीवन रक्षक दवाएं मौजूद रहेगी और 24 घंटे पंखे की व्यवस्था रहेगी।

प्रबंधन ने मांगी 8 एंबुलेंस

अस्पताल प्रबंधन ने इस वर्ष 8 एंबुलेंस की मांग की है। जो घाट, धांधी बेलारी, असियाचक, कृष्णगढ़ आदि हेल्थ कैंपों के पास खड़ी रहेगी। इसमें एक 24 घंटे मेला क्षेत्र में भ्रमण करते रहेगी। सभी शिविर पर दवा आपूर्ति बहाल करने को लेकर सभी शिविरों की निगरानी करेगी।

रेफरल अस्पताल में हैं 2 डाॅक्टर

रेफरल अस्पताल महज दो डाॅक्टरों के भरोसे चल रहा है। इसमें एक अस्पताल प्रभारी कुंदन भाई पटेल, सर्जन और दूसरी एमबीबीएस महिला डाॅक्टर ऊषा कुमारी तैनात हैं। पूरे प्रखंड में 85 एएनएम कार्यरत हैं।

Sultanganj News - 17 will commence from the fair the coastal areas will be bathed on dangerous ghats and will reach from pathrile path
Sultanganj News - 17 will commence from the fair the coastal areas will be bathed on dangerous ghats and will reach from pathrile path
X
Sultanganj News - 17 will commence from the fair the coastal areas will be bathed on dangerous ghats and will reach from pathrile path
Sultanganj News - 17 will commence from the fair the coastal areas will be bathed on dangerous ghats and will reach from pathrile path
Sultanganj News - 17 will commence from the fair the coastal areas will be bathed on dangerous ghats and will reach from pathrile path
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना