बिहार / किशनगंज में 19वीं सदी के चांदी के सिक्के मिले, क्वीन विक्टोरिया की तस्वीर और 1840 व 1877 ईस्वी दर्ज



18th century silver coins found in Kishanganj
18th century silver coins found in Kishanganj
X
18th century silver coins found in Kishanganj
18th century silver coins found in Kishanganj

  • किसान काे ट्रैक्टर से खेत जाेतने के दाैरान मिले सिक्के, दूसरे ग्रामीणों में भी मची खोजने की होड़
  • किसी को दो, तो किसी काे कई सिक्के मिले, यह इलाका कभी दो राजवंशी जमींदार भाइयों का आवास हुआ करता था

Dainik Bhaskar

Sep 21, 2019, 07:15 AM IST

दिघलबैंक (किशनगंज). दिघलबैंक प्रखंड के सिंघिमारी पंचायत के डाकूपाड़ा गांव के समीप एक खेत में जुताई के दौरान 19वीं सदी के सैकड़ों चांदी के सिक्के मिले हैं। जिस गांव में सिक्के मिले हैं वो भारतीय गांव डाकूपाड़ा से सटा है एवं इसका नाम भी डाकूपाड़ा ही है जो नेपाल के झापा जिले के पूंजीबाड़ी बाजार के समीप है।

 

सिक्के ढूंढ़ने की मची होड़

स्थानीय किसान ड्राम ताजपुरिया पांच दिन पहले ट्रैक्टर से अपने खेत की जुताई कर रहा था। इसी क्रम में उसे कुछ मिट्टी से सने सिक्के मिले। उसने सिक्के चुन लिए और घर चला गया। जांच में पता चला कि सिक्के चांदी के हैं। सिंघीमारी पंचायत के मुखिया राजेन्द्र प्रसाद सिंह ने बताया कि सिक्के मिलने बाद से दो तीन दिन तक आसपड़ोस के गांवों के लोगों का खेत में भीड़ जमी रही। किसी को दो, किसी को पांच, किसी को दस तो किसी को दर्जनों सिक्के मिले। सभी सिक्के 19वीं सदी के बताए जा रहे हैं। सन् 1840 ईस्ट इंडिया कंपनी के विक्टोरिया क्वीन एवं सन् 1877 के सिक्कों में विक्टोरिया एम्प्रेस के फोटो के निशान छपे हुए हैं।

 

दो राजवंशी जमींदार भाइयों का था आवास

गांव व क्षेत्र के बुजुर्ग बताते हैं कि जिस खेत में चांदी के सिक्के मिले हैं, वहां कभी दो राजवंशी जमींदार भाइयों का आवास हुआ करता था। इनके नाम चखु खुंदा और धुम्मा कृतनिया था। दोनों भाइयों का कोई भी वंशज नहीं है। बुजुर्ग ग्रामीण यह भी बताते हैं कि पुराने जमाने में जमींदार चोर व डाकुओं से बचाव के लिए अपने कीमती आभूषण व सिक्के वगैरह जमीन में दबा कर रखते थे। घटना क्षेत्र नेपाल में है और सिक्के 18वीं सदी के ही हैं, इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना