पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कूरियर कंपनी को ‌10 रुपए का ऑनलाइन पेमेंट करते ही अकाउंट हो जा रहा है खाली

8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर।
  • कूरियर कंपनी का नंबर गूगल में सर्च करने पर साइबर ठग होते हैं एक्टिव और करते हैं ट्रैप
  • कस्टमर के मोबाइल पर एक लिंक आता है, उसे क्लिक करते ही खाते से पैसा निकल जाता है
  • बैंक अधिकारी बनकर या आधार लिंक के नाम पर ठगी कम हुई तो नए तरीके से लोग हो रहे परेशान
Advertisement
Advertisement

भागलपुर. साइबर ठगों ने ठगी का तरीका बदल लिया है। अब बैंक अधिकारी बनकर या आधार लिंक के नाम पर ठगी बंद हो गई है। क्योंकि यह तरीका पुराना होने के कारण हर किसी को पता चल गया है। अब ठग कूरियर कंपनी के नाम पर लोगों के खाते से पैसे उड़ा रहे हैं। घर-घर आनलाइन खरीदारी के बढ़ते प्रचलन के कारण कूरियर कंपनी की भूमिका अहम हो गई है।


समय पर पार्सल मिले, इसके लिए लोग गूगल में कूरियर कंपनी का नंबर सर्च कर उसपर फोन करते हैं। फोन करने पर दस रुपए का ऑन लाइन पेमेंट करने को कहा जाता है। इसके लिए कस्टमर के मोबाइल पर एक लिंक भी भेजा जाता है, जिसे क्लिक करते ही खाते में जमा पैसे निकल जाते हैं। हाल के कुछ दिनों में इस तरीके से ठगी के कई मामले भागलपुर पुलिस के पास पाए हैं।

ये भी पढ़े
ठगी में नाकाम हाेने पर फाेन पर दी गाली, पकड़े गए 5 साइबर अपराधी
करीब आधा दर्जन मामलों में पुलिस ने एफआईआर भी दर्ज की है। लेकिन जांच में अब तक पुलिस को कुछ विशेष सफलता नहीं मिल पाई है। साइबर एक्सपर्ट बताते हैं कि गुगल में कूरियर कंपनी का नंबर सर्च करने पर वह असली कूरियर कंपनी का नहीं होता है। इसका लोग ध्यान नहीं रखते हैं और उस नंबर पर फोन कर देते हैं। यह जरूरी है कि गुगल में सर्च करने के बाद जो नंबर निकलता है, उसकी जांच कर ले कि वह असली कंपनी का नंबर या साइबर ठगों का बिछाया गया जाल।

1) ठगी से बचने के लिए इन तरीकों को अपनाएं

एटीएम टू एटीएम कैश ट्रांसफर वैसे लोगों से करे, जिसे आप अच्छी तरह पहचानते हो। ग्राहकों के लिए पेटीएम भुगतान का सबके आसान तरीका है। यूपीआई तरीके से ट्रांजेक्शन करने से बचे या यूपीआई पिन कोड की गोपनीयता बनाए रखे।

मोबाइल रिचार्ज करने के दौरान हमेशा अधिकृत ई-वॉयलेट कंपनी का ही इस्तेमाल करे। ध्यान रखे, एटीएम का गोपनीय पिन, 16 अंकों का कार्ड नंबर, सीसीवी नंबर किसी को शेयर नहीं करे।

एटीएम से खरीदारी करते समय कभी भी कार्ड को ऐसे न रखें, जिससे उस अंकित नंबर कोई देख ले। खासकर वैसे स्थान में जहां सीसीटीवी कैमरा लगा हो, वहां कार्ड स्वाइप करते समय दूसरी हथेली से कार्ड को ढंक ले। कई बार एटीएम में अंकित नंबरों के आधार पर उसका क्लोन आसानी से तैयार हो जाता है।

कहलगांव के आनंद विहार कॉलोनी निवासी मारवाड़ी कॉलेज की एमए की छात्रा श्रेयसी के खाते से साइबर ठग ने 14 हजार 200 रुपए उड़ा लिया था। 12 अक्टूबर को छात्रा ने क्लब फैक्टरी से ऑनलाइन शॉपिंग की थी। लेकिन कैश ज्यादा कट गया था। इस कारण गुगल में सर्च कर उक्त बेवसाइट के कस्टमर केयर का नंबर निकाल कर छात्रा ने फोन किया। फोन करने वाले ने फोन पे का एकाउंट नंबर और यूपीआई पिन मांगा तो कुछ देर में छात्रा के एसबीआई बैंक के एकाउंट से 14 हजार 200 रुपए कट गए थे।

माणिक सरकार निवासी अंजनी कुमार ने जोगसर थाने में साइबर ठगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। अंजनी ने एक कूरियर कंपनी से कुछ सामान मंगवाया था। कूरियर कंपनी के मोबाइल नंबर पर फोन कर सामान के बारे में जानकारी ली तो दस रुपए का आनलाइन पेमेंट करने को कहा गया था। इसके बाद खाते से पहले पांच हजार और क्रेडिट कार्ड से तीन हजार की निकासी हो गई थी।

नवयुग विद्यालय की संगीत की शिक्षिका निवेदिता बनर्जी के खाते से साइबर ठगों ने 91 हजार रुपए उड़ा लिया था। 15 अक्टूबर शिक्षिका के पुत्र ने अपने मोबाइल से फोन कर कूरियर कंपनी से पार्सल के संबंध में जानकारी ली थी। फोन करने पर कूरियर कंपनी की ओर से दस रुपए का भुगतान यूपीआई तरीके से करने को कहा गया था। इसका ट्रांजेक्शन लिंक भी मोबाइल पर भेज दिया गया था। शिक्षिका के पुत्र ने दस रुपए का ट्रांजेक्शन किया तो दूसरे दिन खाते से 91 हजार रुपए अवैध तरीके से निकाल लिये गए थे।

रिपोर्ट-राकेश पुरोहितवार

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज आप अपनी रोजमर्रा की व्यस्त दिनचर्या में से कुछ समय सुकून और मौजमस्ती के लिए भी निकालेंगे। मित्रों व रिश्तेदारों के साथ समय व्यतीत होगा। घर की साज-सज्जा संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत हो...

और पढ़ें

Advertisement