तफ्तीश / सामने आया एक और फुटेज, हथियार लहराते पैदल भागते दिखे 3 शूटर, एक ने पहना था कुर्ता



डीआईजी विकास वैभव से मिलने पहुंचे धूरी यादव के छोटे भाई शिशुपाल यादव। डीआईजी विकास वैभव से मिलने पहुंचे धूरी यादव के छोटे भाई शिशुपाल यादव।
X
डीआईजी विकास वैभव से मिलने पहुंचे धूरी यादव के छोटे भाई शिशुपाल यादव।डीआईजी विकास वैभव से मिलने पहुंचे धूरी यादव के छोटे भाई शिशुपाल यादव।

  • पहचान की कोशिश जारी, शूटरों का कद-काठी, पहनावा व चाल-ढाल नवगछिया इलाके के 3 दागियों से मिल रहा
  • 5.55 बजे धूरी की हत्या हुई थी और 5.58 में शूटर भागते कैमरे में कैद हैं

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2019, 09:42 AM IST

भागलपुर. धूरी यादव हत्याकांड में पुलिस को एक और सीसीटीवी कैमरे का फुटेज हाथ लगा है। इस फुटेज में धूरी की हत्या के बाद तीन शूटर पैदल सराय रोड की ओर हथियार लहराते हुए भागते दिखे हैं। तीन में एक शूटर कुर्ता पहना हुआ था। अंधेरा होने के कारण शूटरों का हुलिया स्पष्ट नहीं है। लेकिन तीनों शूटरों का कद-काठी, पहनावा और चाल-ढाल नवगछिया इलाके के तीन दागियों से मिलता-जुलता है। हालांकि पुलिस अभी पूरी तरह से स्पष्ट नहीं है। 

 

पुलिस इस फुटेज को और फिल्टर करने की कोशिश कर रही है, ताकि चेहरा पूरी तरह से स्पष्ट हो सके। फुटेज की जांच में आया है कि चार नवंबर की शाम 5.55 बजे धूरी यादव की गोली मार कर हत्या हुई थी और 5.58 में शूटर भागते हुए कैमरे में कैद हुए हैं। पुलिस आगे सराय रोड में दोनों ओर के सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाल रही है, ताकि नाईट विजन वाले कैमरे के फुटेज में शूटरों का और भी कुछ सुराग मिल सके।

 

पोल की लाइट जली तो युवक ने भागते हुए शूटर को देखा
वारदात के बाद स्थानीय एक युवक ने भी शूटर को भागते हुए देखा है। वह युवक गली के बिजली पोल का स्विच ऑन करने गया था। पोल की बत्ती जली तो उसने पास से एक युवक को गुजरते हुए देखा, जिसके हाथ में हथियार था। युवक ने पुलिस को बताया कि शाम हो जाने के कारण वह पोल की बत्ती जलाने गया था। अगर बत्ती नहीं जलती को अंधेरा का फायदा उठा कर शूटर आसानी से निकल जाते।

 

फुटेज और स्केच में एक शूटर का चेहरा एक जैसा
पुलिस ने दो चश्मदीद से मिली जानकारी के आधार पर तीन शूटरों का स्केच तैयार करवाया है। इसके अलावा सीसीटीवी कैमरे के फुटेज में कैद हुए शूटरों की भी तस्वीर निकाली गई है। स्केच और फुटेज में कैद एक शूटर का चेहरा मिलता-जुलता है। उस शूटर की ठुड्डी आगे की ओर से थोड़ी निकली हुई है और उसी ने कुर्ता भी पहना था।

 

अस्पताल के बदले धूरी को पुराना घर क्यों ले जाया गया?
गोली लगने के बाद धूरी को उन्हीं की बाइक पर बैठा कर अस्पताल ले जाने के बदले पुराना घर ले जाया गया और वहां से फिर अस्पताल। गोली लगने के बाद घटनास्थल पर धूरी यादव जीवित थे और इशारे में कुछ कह रहे थे। उधर, मृतक के भाई शिशुपाल बरारी इलाके में थे, तभी उन्हें वारदात की जानकारी मिली। वे सीधे बरारी से अस्पताल पहुंच गए। उनके पहुंचने के कुछ देर बाद धूरी को अस्पताल लाया गया। घटनास्थल से पुराना घर और फिर अस्पताल ले जाने में समय बर्बाद हुआ और खून अधिक बह गया। अगर घटनास्थल से सीधे धूरी यादव को अस्पताल ले जाया जाता तो शायद उनके बचने की कुछ उम्मीद थी।

 

डीआईजी से मिले शिशुपाल हत्यारे की गिरफ्तारी की मांग
धूरी यादव के छोटे भाई शिशुपाल यादव शुक्रवार को डीआईजी विकास वैभव से मिले और अपने भाई के हत्यारों को गिरफ्तार करने की मांग की। डीआईजी ने पूरी घटना की जानकारी ली और हर संभव मदद का भरोसा दिलाया। आश्वस्त किया कि पुलिस को कई अहम सुराग मिले हैं, जल्द ही हत्यारों की गिरफ्तारी हो जाएगी।

 

शूटरों के जरिए सुपारी देने वाले तक पहुंचेगी पुलिस  
धूरी यादव की हत्या किस कारण से हुई, अभी पुलिस इस बिंदु पर गंभीरता से जांच नहीं कर रही है। पुलिस का सारा फोकस शूटरों की पहचान और गिरफ्तारी पर है। पुलिस शूटरों के जरिए सुपारी देने वालों तक पहुंचने की फिराक में है। इनकी गिरफ्तारी के बाद हत्या का कारण खुद-ब-खुद पता चल जाएगा। पुलिस ऐसा इसलिए कर रही है कि क्योंकि धूरी की हत्या की कई वजह सामने आ रही है। जमीन विवाद, पुरानी दुश्मनी, वर्चस्व आदि कारणों से हत्या होने की आशंका जताई जा रही है। इसलिए पुलिस हत्या के कारण के बदले हत्यारों की गिरफ्तारी पर ज्यादा ध्यान दे रही है।

 

शूटरों का फुटेज और स्केच लेकर पहचान को जेल पहुंची पुलिस
धूरी यादव हत्याकांड की जांच के सिलसिले में एसआईटी शुक्रवार को कैंप जेल पहुंची। शूटरों का फुटेज और स्केच लेकर उनकी पहचान के लिए पुलिस ने कई कैदियों से जानकारी ली।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना