--Advertisement--

भास्कर स्टिंग / सहरसा में खुलेआम हो रही है शराब की तस्करी, सरकार के तमाम दावे फेल



महिला से शराब को लेकर मोलभाव करता ग्राहक महिला से शराब को लेकर मोलभाव करता ग्राहक
X
महिला से शराब को लेकर मोलभाव करता ग्राहकमहिला से शराब को लेकर मोलभाव करता ग्राहक

  • गांवों की हाटों में खुलेआम बिकती है देसी शराब
  • शराबबंदी से तस्करों की पौ बारह

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2018, 01:25 PM IST

सहरसा. बिहार में शराबबंदी को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तमाम दावे भास्कर संवाददाता नवीन निशांत के स्टिंग में फेल दिखे। सहरसा जिले में अवैध रूप से शराब बेची जा रही है। गांवों में लगने वाली हाटों में महिलाएं खुलेआम फड़ लगाकर शराब बेचती हैं, जिन्हें लोग मोलभाव करके खरीदते हैं। कुछ लोग चोरी छिपे शराब बेच रहे हैं। शराबबंदी से तस्करों की पौ बारह हो रही है।

 

महिला खुलेआम बेच रही देसी शराब

ताजा मामला सहरसा जिले के सोनबर्षाराज प्रखंड का है जहां एक महिला खुलेआम देसी शराब बेच रही है। महिला कारोबारी ग्राहक से देसी शराब की मोल-भाव कर रही है और हाथ में एक झोला भी है। जिस झोले में रखे काले पॉलीथीन में शराब की पाउच को अपने ग्राहकों को देते हुए नजर आती है। बसनही थानाध्यक्ष से जब इसको लेकर सवाल किया गया तो तल्ख तेवर में उन्होंने जवाब देने से इनकार कर दिया।

 

जानिए कैसे होता है शराब का मोलभाव

 

स्टेप-1 
झिटकिया में पुलिया के पास एक महिला झोला में देसी देसी शराब लेकर पहुंचती है। महिला से शराब की दर पूछे जाने पर एक ग्राहक जो मोल-भाव कर रहे हैं वो कहते हैं कि 20-25 रुपए में मिल रहा है।

 

स्टेप-2 
महिला शराब की कीमत पूछे जाने को अनसुनी करते हुए ग्राहक को बेचने में मशगूल है। एक ग्राहक तब तक कीमत पूछता है और वहीं दूसरा आकर पॉलिथीन में रखी शराब खरीद रहा है।

 

स्टेप-3 
महिला उक्त ग्राहक को देसी शराब भरे काले पॉलिथीन में पैकेट देती है और ग्राहक से पैसे लेती है। पूछने पर महिला कहती है 60 रुपए में देती हूं।

 

बड़गांव मरिया संथाली की है महिला 
शराब बेच रही महिला की पहचान ग्राम पंचायत बड़गांव अंतर्गत मरिया संथाली निवासी ललिता के रूप में हुई। जबकि खरीदार महुआ उत्तरबाड़ी पंचायत के वार्ड एक बलेठा निवासी सुनील प्रसाद के रूप में पहचान की गई है। बसनही थाना क्षेत्र के गांवों में अवैध शराब का कारोबार इस कदर बढ़ गया है कि खुलेआम चाय, पान एवं किराने की दुकानों में शराब बेची जा रही है।

 

साप्ताहिक हाटों में ऐसे होती है शराब की बिक्री
बसनही थाना क्षेत्र के कई ऐसे गांव हैं जहां आदिवासियों की अच्छी आबादी है। इन गांवों में आदिवासी महिलाएं स्वयं निर्मित चुलाऊ महुआ शराब के साथ-साथ देसी शराब भी तस्करों से खरीदकर लोगों को उपलब्ध कराती है। लोगों ने बताया कि बड़गांव की मरिया सौतारी, रबना सौतारी, बसनही संथाली एवं छर्रापट्‌टी संथाली टोला की कुछ महिलाएं शराब के प्रतिबंध के बाद भी पुलिस की सांठ-गांठ से शराब की बिक्री करती है। ऐसी महिलाओं और परिवार के लिए कभी शराब जीवन यापन का महत्वपूर्ण साधन था। लेकिन प्रतिबंध के बाद छुप-छुपकर धंधा कर रही हैं।

 

एसडीपीओ ने कहा-कानूनी कार्रवाई होगी
एसडीपीओ मृदुला सिन्हा ने कहा कि अगर बसनही थाना क्षेत्र के हाट-बाजार में देसी शराब की खुलेआम बिक्री हो रही है तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी। बसनही के थानाध्यक्ष से स्पष्टीकरण मांगा जाएगा।

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..