जज्बा / दक्षिण अमेरिका की सबसे ऊंची चाेटी अकांकागुआ फतह करना चाहती हैं बिहार की बेटी मिताली

Bihar's daughter Mithali wants to conquer South America's Aconcagua
X
Bihar's daughter Mithali wants to conquer South America's Aconcagua

  • छह लाख रु. आएगा खर्च, स्टूंडेंट फंड से पैसा जुटाने टीएमबीयू पहुंची पटना विवि की छात्रा
  • नालंदा की हैं रहने वाली मिताली अफ्रीका की सबसे ऊंची चाेटी किलिमंजाराे को फतह कर चुकी हैं

दैनिक भास्कर

Aug 27, 2019, 04:02 AM IST

भागलपुर. अफ्रीका की सबसे ऊंची चाेटी किलिमंजाराे फतह कर चुकीं बिहार की बेटी मिताली प्रसाद का सपना सभी महाद्वीपाें की ऊंची चाेटियाें की चढ़ाई करना और माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई काे नापना है। लेकिन तीसरी कक्षा में दाखिले से लेकर किलिमंजाराे के सफर तक इस साहसी पर्वताराेही की राह में तंगहाली राेड़ा बनती रही है।

 

मिताली का लक्ष्य दक्षिण अमेरिका की सबसे ऊंची चाेटी एकांकागुआ की चढ़ाई करना है, लेकिन खराब आर्थिक स्थिति फिर सामने आ खड़ी हुई है। पटना विवि की छात्रा अाैर मूल रूप से नालंदा की रहने वाली मिताली अार्थिक मदद के लिए साेमवार काे टीएमबीयू के कुलपति डाॅ. विभाष चंद्र झा से मिलने पहुंचीं। कुलपति ने कहा कि विवि में इस तरह का काेई फंड नहीं है। लेकिन वह मिताली की व्यक्तिगत रूप से मदद करेंगे। उन्हाेंने मिताली का अकाउंट नंबर लिया है। मिताली काे छात्र संगठन सीवाईएसएस के प्रदेश उपाध्यक्ष अासिफ अली भी सहयाेग कर रहे हैं। 


सभी महाद्वीपाें की सर्वाधिक ऊंची चाेटियाें पर चाहती हैं 
मिताली ने बताया कि वह सभी महाद्वीपाें की सर्वाधिक ऊंची चाेटियाें की चढ़ाई करना चाहती है। किलिमंजाराे की चढ़ाई इस वर्ष 31 मार्च काे की थी। इस पर 3.30 लाख रुपए खर्च आए थे। तब पटना विवि, मित्राें और दूसरी संस्थाओं ने आर्थिक मदद की थी। अब एंकाकागुआ की चढ़ाई का लक्ष्य है। इस पर लगभग 6 लाख रुपए खर्च का अनुमान है। पटना विवि ने 50 हजार रुपए की मदद दी है। मगध विवि से भी सहयाेग मिला है। आर्थिक मदद के लिए वह राज्य के दूसरे विवि में भी जा रही हैं।


मां सिलाई कर जुटाती हैं खर्च 
मिताली का बचपन बेहद तंगी में बीता। अब भी अच्छी स्थिति नहीं है। तीसरी कक्षा में पटना आई मिताली के पिता का व्यापार नहीं चला ताे गांव लाैटना पड़ा। चाैथी व 5वीं की पढ़ाई गांव में की। 2008 में फिर पूरा परिवार पटना आ गया। मां सिलाई कर खर्च चलाने लगीं। अब भी आय का यही मुख्य जरिया है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना