नहीं रहे सैदपुर के स्वतंत्रता सेनानी दिनेश कुंवर, शोक

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

प्रखंड के सैदपुर गांव निवासी वयोवृद्ध स्वतंत्रता सेनानी दिनेश कुंवर (96 वर्ष) का निधन बुधवार की दोपहर उनके पैतृक आवास पर हो गया। वे कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। उनके निधन की सूचना पर क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई। उनके अंतिम दर्शन के लिए ग्रामीणों की भीड़ उमड़ पड़ी। दिनेश बाबू का जन्म सैदपुर के जमीनदार स्व. संतलाल कुंवर के घर 1924 में हुआ था। जमीनदार परिवार में जन्म लेने के बावजूद वे जीवन की आखिरी सांस तक गरीबों की लड़ाई लड़ते रहे। 1942 में महात्मा गांधी के भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान टीएनबी कॉलेजिएट स्कूल से दसवीं की पढाई छोड़कर आजादी की लड़ाई में शामिल हो गए। इस दौरान वे जेल भी गए। देश की आजादी के बाद सरकार द्वारा स्वतंत्रता सेनानी पेंशन लेने से उन्होंने इनकार कर दिया। 1979 में उन्होंने इलाको को बाढ़ से बचाने के लिए अपने निजी कोष से अभिया से बिंदटोली तक जमीनदारी बांध की मरम्मत कराई थी। तिनटंगा करारी-कहलगांव फेरी जहाज घाट को लंबी कानूनी लड़ाई के बाद पटना हाईकोर्ट से तिनटंगा करारी घाट को सरकारी घोषित करवाया था। वे अपने पीछे दो पुत्र, दो पुत्रवधू सहित भरापूरा परिवार छोड़ गए हैं। बड़े पुत्र अमरेंद्र कुंवर ने बताया कि उनका अंतिम संस्कार गुरुवार को बुद्धूचक श्मशान घाट पर किया जाएगा।

दिनेश कुंवर की फाइल फोटो।
खबरें और भी हैं...