पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महिला वार्ड सदस्य ने करायी हत्या, शव के पास मिले सिम से खुला राज

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मुखिया की हत्या में गिरफ्तार महिला वार्ड पार्षद। - Dainik Bhaskar
मुखिया की हत्या में गिरफ्तार महिला वार्ड पार्षद।
  • दिल्ली जाने के बहाने भागलपुर स्टेशन पर बुलाया और गाड़ी में गला रेत डाला

भागलपुर. अमरपुर के फतेहपुर पंचायत के मुखिया रविंद्र दास की हत्या में सबौर पुलिस ने बांका जिले के एक गांव की महिला वार्ड सदस्य को गिरफ्तार किया है। उक्त महिला वार्ड सदस्य से मुखिया का अवैध संबंध था। मुखिया महिला पर शादी और साथ रहने का दबाव बना रहा था। लेकिन महिला तैयार नहीं थी। इस कारण अपने ननदोई व अन्य लोगों के साथ मिलकर महिला ने मुखिया की हत्या करा दी। 
 
गिरफ्तार महिला वार्ड सदस्य ने पुलिस की पूछताछ में हत्या में अपनी और अन्य लोगों की संलिप्तता का खुलासा किया है। इस वारदात में पुलिस को महिला के ननदोई रंजीत दास की तलाश है, जो अमरपुर के कल्याणपुर गांव का रहने वाला है। रंजीत भागलपुर में रिक्शा चलाता है। दो अन्य आरोपियों की भी पुलिस ने पहचान की है। जिसमें एक सबौर के जिच्छो गांव का रहने वाला है। पुलिस अभी उन दोनों के नाम का खुलासा नहीं कर रही है। मुखिया की हत्या की साजिश जिच्छो गांव में ही रची गई थी। 
 

चाकू से गोद व रस्सी से गला दबा कर हत्या
एसएसपी आशीष भारती ने बताया कि मुखिया की हत्या के 24 घंटे के भीतर ही मुख्य आरोपी महिला को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इसके लिए डीएसपी नेसार अहमद शाह के नेतृत्व में एक एसआईटी का गठन किया गया था। महिला के खिलाफ पुलिस को तकनीकी सबूत मिले हैं। एसएसपी के मुताबिक, हत्या की मुख्य वजह अवैध संबंध है। मुखिया, महिला के साथ रहने का दबाव बना रहा था। जबकि महिला को यह मंजूर नहीं था। उसके सहयोगियों ने चाकू से गोद कर और रस्सी से गला दबा कर मुखिया की हत्या कर दी। वारदात में फरार तीन आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है। 
 

घटनास्थल पर मिले सिम की जांच से खुला कत्ल का राज
उधर, सूत्रों ने बताया कि पुलिस को घटनास्थल से एक सिम मिला है। पुलिस ने जब उस सिम का डिटेल निकाला तो वह महिला वार्ड सदस्य का निकाला। यहीं से पुलिस ने अपनी जांच शुरू की और महिला को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में महिला ने बताया कि मुखिया की हत्या के बाद सरधो बरियार में लाश फेंकने के दौरान उसका मोबाइल गिर गया था। इस कारण सिम खुल कर बाहर निकल गया। हड़बड़ी से उसने मोबाइल तो उठा लिया, लेकिन सिम पर उसकी नजर नहीं पड़ी और वह वहीं छूट गया था।
 

चलती गाड़ी में ही गले में लगाया फंदा फिर चाकू से रेत डाला
महिला ने बताया कि सोमवार शाम को मुखिया को फोन कर भागलपुर स्टेशन बुलाया गया। मुखिया से महिला ने कहा कि वे दोनों भाग कर दिल्ली चले जाएंगे और वहीं साथ में पति-पत्नी की तरह रहेंगे। महिला के बुलावे पर मुखिया सोमवार रात भागलपुर स्टेशन पहुंच गया। वहां पहले से महिला, उसका ननदोई रंजीत दास व दो अन्य लोग खड़े थे। 
मुखिया को चारों झांसा देकर जिच्छो गांव ले जाने के लिए चार पहिया गाड़ी पर बैठा लिया। इसके बाद गाड़ी में ही गले में रस्सी डालकर रंजीत और उसके दो दोस्तों ने मुखिया की गला दबा दी और चाकू से गला काट दिया। इसके बाद लाश को ले जाकर सरधो बहियार में फेंक दिया। पुलिस उस गाड़ी की भी तलाश कर रही है, जिसमें हत्या की गई थी। 
 

महिला के पूर्व के दो पति की हो चुकी है मौत 
पुलिस की जांच में आया है कि महिला वार्ड सदस्य का मुखिया के साथ-साथ ननदोई से भी अवैध संबंध है। महिला के पहले पति की मौत 1994 में हुई थी। पहली शादी सबौर प्रखंड के एक गांव में हुई थी। जबकि दूसरी शादी बांका के एक गांव में हुई थी। दूसरे पति की भी दस वर्ष पहले मौत हो चुकी है। दोनों पति की मौत के बाद महिला का मुखिया रविंद्र दास से अवैध संबंध हो गया। 
 
महिला ने बताया कि अवैध संबंध तक उसे एतराज नहीं था, लेकिन वह मुखिया की पत्नी बन कर साथ रहना नहीं चाहती थी। मुखिया से हुए संबंध को सार्वजनिक करना नहीं चाहती थी। यहीं नहीं, महिला का उसके ननदोई रंजीत दास से भी अवैध संबंध है। महिला ने मुखिया के बारे में अपने ननदोई को बताया और वहीं से हत्या की साजिश रची गई। महिला ने बताया कि मुखिया ने उसे जमीन देने का वादा किया था। इसके अलावा कई बार उसे पैसे भी दिये थे। मुखिया की हत्या कराने पर उसे कोई मलाल नहीं है।
 


 

खबरें और भी हैं...