फ्राॅड / बुंदेलखंड विवि की डिग्री में जालसाजी कर नाैकरी पाने की जुगत, पढ़ाई बीटेक की, सर्टिफिकेट डिप्लाेमा का



fraud in Bundelkhand University degree to get job
X
fraud in Bundelkhand University degree to get job

  • तकनीकी सहायक और लेखापाल बहाली में नहीं थम रहा है फर्जीवाड़े का खेल
  • 61 तकनीकी सहायक में 14 के सर्टिफिकेट गलत, 11 पर बहाली बाकी

Dainik Bhaskar

Jun 15, 2019, 10:01 AM IST

भागलपुर. जिले की पंचायताें में तकनीकी सहायक व लेखापाल बहाली में फर्जीवाड़ा थम नहीं रहा है। लगातार नए-नए मामले सामने आ रहे हैं। नाैकरी पाने की जुगत में अभ्यर्थियाें ने बुंदेलखंड विश्वविद्यालय का डिप्लाेमा का सर्टिफिकेट दिया है, जबकि वहां डिप्लाेमा नहीं, बीटेक की पढ़ाई हाेती है।

 

ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि बीटेक की डिग्री में जालसाजी कर डिप्लाेमा काेर्स का सर्टिफिकेट बना दिया गया है। हालांकि अभी इसकी जांच चल रही है। गड़बड़ी पाए जाने पर अभ्यर्थियाें के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई जा सकती है। बहाली में फर्जी सर्टिफिकेट का खुलासा तब हाे रहा है जब संबंधित शैक्षणिक संस्थान से सर्टिफिकेट का सत्यापन हाेकर रिपाेर्ट आ रही है कि उनके यहां का यह छात्र नहीं है। लेखापाल बहाली के मामले में दस सर्टिफिकेट बुंदेलखंड विश्वविद्यालय का है।

 

अभ्यर्थियाें ने वहां के डिप्लाेमा काेर्स का सर्टिफिकेट जमा किया है, जबकि विश्वविद्यालय ने रिपाेर्ट भेजी है कि वहां से बीटेक की पढ़ाई हाेती है। डिप्लाेमा का काेर्स ही नहीं है। इन अभ्यर्थियाें के कागजात की जांच का मामला डीएम के पास है। तकनीकी सहायक की बहाली काे लेकर तीन अभ्यर्थियाें के कागजात के सत्यापन का काम चल रहा है। इसके पूरा हाेने के बाद ही लेखापाल व तकनीकी सहायक की बहाली की प्रक्रिया पूरी हाेगी। 


61 तकनीकी सहायक में 14 के सर्टिफिकेट गलत, 11 पर बहाली बाकी 
जानकारी के मुताबिक तकनीकी सहायक के 61 पदाें पर बहाली हाेनी है। इसके लिए अभ्यर्थियाें का चयन किया गया। लेकिन इनमें से 14 के शैक्षणिक दस्तावेज फर्जी पाए गए। शेष 47 में से 36 काे नियुक्ति पत्र दे दिया गया। इनमें से 29 ने याेगदान भी किया। बचे 11 में से 8 के शैक्षणिक प्रमाण पत्र सही पाए गए। जबकि शेष तीन की जांच चल रही है। इसकी जांच पूरी हाेने के बाद शेष बचे पदाें पर बहाली की जाएगी। वहीं लेखापाल के 61 पदाें में से चयनित अभ्यर्थियाें में से एक का सर्टिफिकेट गलत पाया गया। शेष 60 में से 33 काे नियुक्ति पत्र दे दिया गया है। इनमें से 29 अभ्यर्थियाें ने याेगदान भी कर दिया। 


लेखापाल के 27 पदाें पर चल रही है बहाली की प्रक्रिया 
बाकी बचे 27 में से 17 के सर्टिफिकेट सही पाए गए हैं। जबकि शेष 10 में से 9 अभ्यर्थियाें का सर्टिफिकेट बुंदेलखंड विवि का है। वहां से उनके शैक्षणिक दस्तावेज की जांच कर रिपाेर्ट भेजी गई है कि वहां बीटेक की पढ़ाई हाेती है, डिप्लाेमा की नहीं। उसकी जांच प्रक्रिया अभी चल रही है। जबकि एक अभ्यर्थी का सर्टिफिकेट मारवाड़ी काॅलेज का है, वहां से दस्तावेज की जांच कर रिपाेर्ट नहीं आई है। रिपाेर्ट आने के बाद इस दिशा में आगे की कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि पंचायताें में लेखापाल, तकनीकी सहायकाें की बहाली की प्रक्रिया सालभर से चल रही है पर सबके कागजातों की जांच नहीं हाेने से मामला अटका हुआ है।

COMMENT