बिहार / बुधवार को निकले तीन दूल्हे जाम में फंसे; तैयारियां रह गईं धरी, गुरुवार सुबह पहुंचे तब हुई शादी



शाहपुर के उपेंद्र मंडल की पुत्री अरुणा की शादी गुरुवार सुबह 9 बजे हुई। शाहपुर के उपेंद्र मंडल की पुत्री अरुणा की शादी गुरुवार सुबह 9 बजे हुई।
X
शाहपुर के उपेंद्र मंडल की पुत्री अरुणा की शादी गुरुवार सुबह 9 बजे हुई।शाहपुर के उपेंद्र मंडल की पुत्री अरुणा की शादी गुरुवार सुबह 9 बजे हुई।

  • एनएच-80 पर जाम से निजात दिलाने का जिला प्रशासन का दावा फेल, जाम बना नासूर, अफसरों को काेसते रहे लोग
  • रातभर बारातियों का इंतजार करते रहे परिजन व ग्रामीण, घोघा की तीन लड़कियों की शादी मुहूर्त में नहीं हो सकी

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2019, 05:42 AM IST

घोघा (संजीव कुमार). एनएच-80 पर लगने वाला जाम नासूर बन चुका है। अब तक जाम में एम्बुलेंस में सवार मरीज, भूख और प्यास से बिलबिलाते स्कूली बच्चों को देखा और सुना। अब गुरुवार को इस जाम ने घोघा में एक-दो नहीं, तीन-तीन लड़कियों की शादी मुहूर्त बीतने के बाद करने को विवश कर दिया।

 

शादी के लिए बारात बुधवार को आनी थी। बराती दुल्हन को लेने चले भी, लेकिन दुल्हन के दरवाजे तक पहुंचने में उनका पसीना निकल गया। वे मुहूर्त बीतने के बाद गुरुवार को बारात लेकर पहुंचे। घरवालों को बिना मुहूर्त ही गुरुवार सुबह 9 बजे शादी करनी पड़ी। शादी तो जैसे-तैसे हुई, लेकिन अधिकांश रस्म-रिवाज प्रभावित हो गए। जाम के घोघा शाहपुर निवासी उपेंद्र मंडल की बेटी अरुणा कुमारी, शाहपुर निवासी गुलचंद मंडल की बेटी मनीषा कुमारी व पक्कीसराय निवासी चुनचुन मंडल की बेटी डोली कुमारी की शादी के लिए बरात बुधवार रात आनी थी, पर एनएच-80 जाम होने से तीनों लड़कियाें के घरवाले पूरी रात बारात की राह देखते रहे। दूल्हे गुरुवार सुबह बारात लेकर पहुंचे। तब शादी हुई।   

 

फीकी पड़ गई समारोह की तैयारी
एनएच-80 जाम रहने से घोघा शाहपुर के उपेंद्र मंडल, शाहपुर के गुलचंद मंडल व पक्कीसराय के चुनचुन मंडल के घर शादी की तैयारियां महीनों से चल रही थीं। दुल्हन को सजाए घर वाले, सगे संबंधी, पास-पड़ोस और गांव के लोग सब इंतजार करते रहे। दरवाजे पर बारात लगने की तैयारी धरी की धरी रह गई। शाम से रात हो गई और फिर सुबह हो गई, लेकिन बारात नहीं पहुंची। बच्चे सो गए, बारातियों के लिए तैयार खाना गर्मी में खराब हो गया और लोगों को इसे फेंकना पड़ा। 

 

सबाैर से कहलगांव तक जाना हाे रहा मुश्किल
एनएच-80 पर लगने वाले जाम से निपटने को लेकर जिले से लेकर स्थानीय प्रशासन लाख दावा करे, पर वह दावा जमीन पर कहीं नहीं दिखता। एनएच-80 की सड़क जाम वाली सड़क बन चुकी है। जाम ऐसा है कि बीमार अस्पताल नहीं पहुंच सकता, शादी करने वाला दूल्हा शादी के मंडप तक नहीं पहुंच सकता। इससे यहां के प्रशासन को कोई लेना देना नहीं है। इस जाम का सबसे खराब स्थिति सबौर से कहलगांव तक हर दिन देखने को मिल रही है। पुलिस जानकर भी अनजान बन जाती है। जल्दी निकलने की होड़ में सड़क पर लोगों को जिधर से जगह मिली, उधर ही घुस गए, भले ही आगे निकलने का कोई रास्ता न हो। इन दिनों सबौर के मसाढू से लेकर घोघा-कहलगांव तक पहुंचाना आसान नहीं है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना