पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पुलिस मुखबिरी में नक्सलियों ने दो लोगों को गोलियों से भून डाला

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मंगल कोड़ा की हत्या के बाद रोते-बिलखते परिजन। - Dainik Bhaskar
मंगल कोड़ा की हत्या के बाद रोते-बिलखते परिजन।
  • लखीसराय की दो पंचायत में नक्सलियों की करतूत, पर्चा भी फेंका
  • नक्सलियों के दो गुटों ने योजनाबद्ध तरीके से दोनों घटना को एक ही रात में दिया अंजाम

चानन (लखीसराय). पुलिस मुखबिरी के आरोप में नक्सलियों ने शनिवार की देर रात दो पंचायत में दो लोगों को गोलियों से भून डाला। दोनों को घर से खींच कर कुछ दूरी पर ले गए और गोली मारी दी। हत्या करने के बाद धमकी भरा पर्चा भी फेंका। साथ ही, दहशत फैलाने के लिए कई राउंड गोली भी चलाई। मरने वाले की पहचान भलुई पंचायत के अंतर्गत वासकुंड कोड़ासी के रहने वाले मोगल कोड़ा (60 वर्ष) व लक्ष्मीपुर प्रखंड के नौडीहा के रहने वाले संजय कोड़ा (40 वर्ष) के रूप में हुई है। 


वह कुंदर पंचायत के गोबरदाहा कोड़ासी के रहने वाले यमुना कोड़ा का दामाद था। नक्सलियों ने उसे ससुराल में ही मारा जहां वह दस वर्षों से रह रहा था। नक्सलियों ने मोगल कोड़ा को 8 जबकि संजय कोड़ा को 2 गोलियां मारीं। नक्सलियों ने दोनों जगहों पर एक जैसा ही पर्चा फेंका है जिसमें लिखा है कि मदन यादव गिरोह के पुलिस एसपीओ के मुखबिरों को मृत्युदंड दिया गया है। जो भी पुलिस की मुखबिरी करेगा उसे मृत्यु दंड दिया जाएगा। दोनों गांव पांच किमी. की दूरी पर है। हत्या के 16 घंटे बाद रविवार को पुलिस पहुंची और शवों को कब्जे में लेकर छानबीन कर रही है। बताया जाता है कि नक्सलियों के दो गुटों ने योजनाबद्ध तरीके से दोनों वारदात को अंजाम दिया है। एसपी सुशील कुमार ने बताया कि पुलिस मुखबिरी के आरोप में नक्सलियों ने दो लोगों की हत्या की है। उनकी गिरफ्तारी के लिए जंगलों में सर्च अभियान चलाया जा रहा है।

परिजन गिड़गिड़ाते रहे, नकाबपोश नक्सली घर से खींच दूर ले जाकर गोलियों से कर दिया छलनी
परिजन नक्सलियों के आगे गिड़गिड़ाते रहे, लेकिन नकाबपोश नक्सलियों ने वासकुंड एवं गोबरदाहा कोड़ासी में घर से खींच कर दूर ले जाकर मोगल कोड़ा एवं संजय कोड़ा की हत्या कर दी। शनिवार की देर रात हुई घटना में अपनों को बचाने के लिए परिजनों की चीख पुकार अंधेरों में गुम होकर रह गई। चानन थाना क्षेत्र के वासकुंड एवं गोबरदाहा कोड़ासी में दोनों की हत्या के बाद नक्सली दहशत फैलाने के लिए अत्याधुनिक हथियारों से गोलियां चलाते हुए चले गए। गांव के लोग नक्सलियों के भय से अपने घरों में दुबके रहे। नक्सलियों ने पुलिस का मुखबिरी करने का आरोप लगाते हुए दोनों को मौत के घाट उतार दिया। नक्सलियों ने दोनों जगहों पर एक ही जैसा पर्चा फेंकते हुए कहा कि जो पुलिस की मुखबिरी करेगा उसे मृत्यु दंड दिया जाएगा, भाकपा माओवादी।


इससे क्षेत्र में दहशत का माहौल है। ग्रामीण कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं। मृतक मोगल कोड़ा कृषि कार्य करता था। वहीं संजय कोड़ा करीब दस वर्षो से अपने ससुराल गोबरदाहा कोड़ासी रह कर मजदूरी कर अपने परिवार का पालन पोषण कर रहा था। नक्सलियों ने मोगल कोड़ा को आठ गोली जबकि संजय कोड़ा को दो गोली मारी है। विदित हो की 19 अगस्त को पुलिस मुखबिरी के आरोप में थाना क्षेत्र के भलुई पंचायत के मननपुर बस्ती निवासी मदन यादव तथा छोटू साव की हत्या नक्सलियों ने दिनदहाड़े गोली मारकर कर दी थी।


नक्सलियों के फेंके पर्चा में इसकी भी चर्चा है। पुलिस मुखबिरी के आरोप में ही इन दोनों की भी हत्या कर नक्सलियों ने क्षेत्र में दबदबा कायम करने एवं पुलिस को सहयोग नहीं करने का प्रयास किया है। नक्सलियों की यह कार्रवाई पुलिस को खुली चुनौती है।

पिता के जीवन की भीख मांग रहे थे बच्चे
ससुराल गोबरदाहा कोड़ासी में रह रहे संजय कोड़ा मजदूरी कर बच्चे का पालन पोषण कर रहा था। संजय कोड़ा की मौत के बाद उसके सभी बच्चे और पत्नी सड़क पर आ गए है। संजय कोड़ा अपने पत्नी व 3 बेटी और 3 छोटे छोटे पुत्र को पीछे छोड़ गया है। स्थानीय लोगों ने बताया की संजय कोड़ा अगले साल अपनी बड़ी बेटी ममता की शादी करने के बारे में चर्चा किया करता था। लेकिन ऐसा नहीं हो सका। वहीं घटना की जानकारी मिलने के बाद उसके गांव नौडीहा कोड़ासी से परिजन पहुंचे। घटना के बाद परिजनों का रो रो कर बुरा हाल है।

परिजन साथ जाने लगे तो की पिटाई धमका कर नक्सलियों ने लौटाया
मृतक मोगल कोड़ा का बेटा दशरथ कोड़ा ने बताया रात करीब 08 बजे घर के लोग खाना खाकर सोये थे। तभी तीन नकाबपोश नक्सलियों ने घर में सोये पिता मोगल कोड़ा को घर से खींचकर बाहर निकाला और कुछ दूर ले जाकर गोलियों से भून दिया तथा ग्रामीणों में दहशत फैलने के उद्देश्य से कई राउंड हवाई फायरिंग भी किया। 


वहीं दूसरी ओर कुंदर पंचायत के गोबरदाहा कोड़ासी निवासी यमुना कोड़ा के दामाद संजय कोड़ा को भी शनिवार की रात्रि लगभग 08 बजे जब घर के सभी लोग खाना खाकर सो रहे थे तभी दो की संख्या में आये नक्सलियों ने उसे भी घर से खींचकर घर से 200 मीटर दूर नोनिया टॉड़ पर ले गया तथा उसे दो गोली मारकर हत्या कर दिया। संजय कोड़ा की पत्नी ने बताया की जब वे लोग घर पर आने के बाद संजय कोड़ा को बुलाया और कहा की चलो तुमसे कोई मिलने के लिए बुलाया है। उसको घर से ले जाने हमलोगों ने काफी रोया गिड़गिड़ाया लेकिन कुछ नहीं सुना। उसके सभी बच्चे नक्सलियों के समक्ष रो-रो कर अपने पिता के जीवन दान के लिए गिड़गिड़ा रहे थे। लेकिन नक्सलियों ने उन मासूमों की एक न सुनी। घर के सदस्य भी साथ जाने लगे। जिससे नक्सलियों ने उनलोगों को मारपीट कर वापस लौटा दिया और उसे अकेले साथ ले गए। उसके साथ भी मारपीट की तथा इसके शरीर के नीचे दो गोली मार कर हत्या कर दी। घटना के बाद पूरी रात उन दोनों का शव पड़ा रहा।

लोगों ने कहा-पुलिस की नाकामी आई सामने
नक्सलियों के द्वारा किए गए दो लोगों की हत्या से इलाके में एक बार फिर भय का माहौल उत्पन्न हो गया है। स्थानीय लोगों ने कहा कि पुलिस की नाकामियों का कारण है की नक्सली जब चाहे जहां चाहे और जैसे चाहे घटना को अंजाम देकर चले जाते है। पुलिस घटना के बाद सिर्फ औपचारिक भूमिका निभाती है। हालात यह है कि रात में घटना की सूचना के बाद भी पुलिस घटना स्थल पर नहीं पहुंचती है। ऐसे में क्षेत्र के लोग असुरक्षित महसूस कर रहे है। स्थानीय लोग दोनों ओर से प्रताड़ित व परेशानी हो अपनी जान गंवा रहे है। नक्सलियों के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान में पुलिस निर्दोष लोगों को अपना शिकार बनाती है। वहीं नक्सली पुलिस मुखबिरी का आरोप लगाकर हत्या कर रही है। नक्सलियों के खिलाफ चलाये जा रहे ऑपरेशन सिर्फ खानापूर्ति बनकर रह गई है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आसपास का वातावरण सुखद बना रहेगा। प्रियजनों के साथ मिल-बैठकर अपने अनुभव साझा करेंगे। कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा बनाने से बेहतर परिणाम हासिल होंगे। नेगेटिव- परंतु इस बात का भी ध...

    और पढ़ें