सहरसा / बोगियों में जगह नहीं, इंजन पर खतरे से भी आगे का सफर



passenger ride on train engine in saharsa bihar
passenger ride on train engine in saharsa bihar
X
passenger ride on train engine in saharsa bihar
passenger ride on train engine in saharsa bihar

  • बोगियों में पैर रखने की जगह नहीं होने पर लोग इंजन पर बैठ जाते हैं
  • ट्रेन की खिड़की पर यात्री सूखे मक्के का बोझा बांध देते हैं

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2019, 10:54 AM IST

सहरसा (विक्रांत विक्की).  सहरसा-मानसी रेलखंड पर समस्तीपुर से सहरसा आने वाली पैसेंजर ट्रेन की ये तस्वीर रेल से सफर और रेल प्रशासन की हकीकत को बयान करने के लिए काफी है। 

 

बुलेट ट्रेन तो रेल यात्रियों को नहीं मिला पर बोगियों में पैर रखने की जगह नहीं होने पर यात्री ट्रेन को ही बुलेट बना लिए हैं और ट्रेन के इंजन पर बैठ यात्रा कर रहे हैं। यह स्थिति किसी एक दिन की नहीं, बल्कि हर दिन की है। इतना ही नहीं ट्रेन की खिड़की पर यात्री सूखे मक्के का बोझा बांध देते हैं, जिससे अगलगी की आशंका बनी रहती है। आग लगने की स्थिति में पूरा ट्रेन जल सकता है पर पुलिस और रेल दोनों लापरवाह बना है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना