गंगा में डूबे पटना के इंजीनियर का शव 30 घंटे बाद एसडीआरएफ ने निकाला

Bhagalpur News - अजगैबीनाथ मंदिर गंगा घाट पर स्नान के दाैरान साेमवार काे अपने दाेस्त विनित आनंद व उसके फुफेरे भाई अंकेश कुमार को...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 09:16 AM IST
Sultanganj News - the body of engineer patna immersed in the ganges was taken 30 hours later by sdrf
अजगैबीनाथ मंदिर गंगा घाट पर स्नान के दाैरान साेमवार काे अपने दाेस्त विनित आनंद व उसके फुफेरे भाई अंकेश कुमार को बचाने में नदी में डूबे पटना के साॅफ्टवेयर इंजीनियर सोमेन कुमार का शव 30 घंटे बाद मंगलवार को एसडीआरएफ ने नदी से निकाला। एसडीअारएफ के एसआई प्रह्लाद सिंह के नेतृत्व में रेस्क्यू के दौरान जहाज घाट व निर्माणाधीन पुल के बीच श्मशान घाट के समीप गंगा नदी में उपलाते सोमेन का शव मिला। मंगलवार की सुबह 6: 45 में रेस्क्यू शुरू की गई। जब लोहे का खंजर शाम पानी में डालकर एसडीआरएफ की टीम उसे ढूंढने एक बार फिर से नदी में उतरी। एसआई ने बताया कि इनके बदन पर कपड़ा नहीं होने के कारण ढूंढने में परेशानी हो रही थी। सोमेन का शव मिलते ही गंगा किनारे लोगों की काफी भीड़ इकट्ठा हो गई। शव काे देखते ही पटना से आए मृतक के परिजनों का रो रो कर बुरा हाल था। उनकी मां अंजलि रानी व बहन प्रो. मून को विश्वास नहीं हो रहा था कि उसके घर का इकलौता चिराग हमेशा के लिए बूझ गया। शव बरामद होने की सूचना पर थानाध्यक्ष अमर विश्वास मृतक के परिजनों से मिले। एंबुलेंस से शव को थाना लाया गया जहां पर कानूनी प्रक्रिया पूरी की गई। परिजन शव का पोस्टमार्टम नहीं कराना चाहते थे। मगर थानाध्यक्ष के समझाने पर परिजन पोस्टमार्टम कराने को तैयार हुए। इससे पूर्व सोमवार की देरशाम मृतक की मां ने थाना में आवेदन देकर सनहा दर्ज कराई थी। जिसमें शनिवार को पुत्र सोमेन के सुल्तानगंज आने अाैर सोमवार को स्नान के क्रम में डूबने की बात कहते हुए आवश्यक जांच-पड़ताल करने का अनुरोध किया गया था।

साेमवार काे अजगैबीनाथ घाट पर स्नान के दाैरान दाेस्ताें काे बचाने में नदी में डूब गए थे साेमेन

सोमेन का शव देख रोती-बिलखती मां व बहन। दोस्त की मौत के बाद रोता विनीत।

अखबार में खबर पढ़ने के बाद मंगलवार को सुल्तानगंज पहुंचे पिता

इंजीनियर सोमेन कुमार के सुल्तानगंज में डूबने की विभिन्न अखबार में पढ़ने के बाद उसके पिता सनहौला के गोविंदपुर निवासी रिटायर्ड रेल कर्मी प्रशांत कुमार दास अपने छोटे भाई सुशांत कुमार दास व दो भतीजे के साथ मंगलवार को सुल्तानगंज पहुंचे। पुत्र के शव को देखते ही गम में डूब गए। इधर चौबीस घंटे से सोमेन के गंगा नदी से शकुशल बाहर निकलने की उम्मीद लिए गंगा तट पर बैठी मां अंजलि रानी व बहन प्रो मून ने जब उसके शव को देखा तो दहाड़े कर रोने लगी। इससे पूर्व दोस्त विनित व उसके परिजनों के प्रति नाराजगी जता रही थीं। वहीं विनित व उसके परिजन शांत चित्त थे।

दाेस्त की दादी के अंतिम संस्कार में शामिल हाेने सुल्तानगंज आए थे

मुंबई के एक प्राइवेट कंपनी में बतौर इंजीनियर सोमेन आनंद पिछले एक महीने से पटना स्थित अपने घर पर ही था। मुंबई के घाट कोपर के आईसीआईसीआई बैंक शाखा में बतौर पीओ के पद पर कार्यरत विनित आनंद की दोस्ती पिछले कुछ वर्षों से सोमेन के साथ चली आ रही थी। 13 अप्रैल को विनित आनंद की दादी के अंतिम संस्कार में शामिल होने मुंबई से फ्लाइट पकड़ पटना आया। विनित को उसके घर पहुंचाने सोमेन अपने स्कार्पियो से लेकर उसे उसके घर पर आया था। सोमेन के डूब जाने से विनित अपने माता-पिता के साथ गंगा तट पर गुमसुम बैठा रहा।

Sultanganj News - the body of engineer patna immersed in the ganges was taken 30 hours later by sdrf
X
Sultanganj News - the body of engineer patna immersed in the ganges was taken 30 hours later by sdrf
Sultanganj News - the body of engineer patna immersed in the ganges was taken 30 hours later by sdrf
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना