मंदिर की दीवार फांदकर अंदर घुसे थे हत्यारेबगान में दबकर रह गई केयरटेकर की चीख

Bhagalpur News - बहादुरपुर के मंदिर के केयरटेकर रूपनारायण सिंह के हत्यारे दीवार फांदकर मंदिर के अंदर घुसे थे। पुलिस की जांच में...

Feb 29, 2020, 06:56 AM IST

बहादुरपुर के मंदिर के केयरटेकर रूपनारायण सिंह के हत्यारे दीवार फांदकर मंदिर के अंदर घुसे थे। पुलिस की जांच में यह बात सामने अायी है। चूंकि मंदिर अाम के बगान में सुनसान जगह पर है इसलिए किसी ने रूपनारायण की चीख नहीं सुनी। घटना काे लूट का स्वरूप देने के लिए मंदिर के सामानाें काे भी अस्तव्यस्त कर दिया। केयरटेकर की प|ी का अाराेप है कि जब से बहन के बेटे सचिन ने रामप्रसाद सिंह की बेटी से प्रेम विवाह किया था तभी से वह प्रतिशाेध की अाग में धधक रहा था। जीराेमाइल थाने में केस हाेने के बाद एक साल पहले पुलिस की पहल से दाेनाें का विवाह हुअा था। इस विवाह के बाद ही दाेनाें पड़ाेसियाें के बीच का सारा संबंध खत्म हाे गया था। ग्रामीणाें ने पुलिस काे उस दीवार काे भी दिखाया जिस पर मंदिर के अंदर घुसने के निशान अंकित थे। 2017 में बहादुरपुर के ग्रामीणाें ने चंदा कर करीब एक कराेड़ से अधिक की लागत से भव्य मंदिर का निर्माण करवाया था। तीन साल से रूपनारायण सिंह दाे हजार महीने के पगार पर वहां काम कर रहे थे। शाम में घर से खाना खाने के बाद अाकर मंदिर के स्टाेर रूम में साेते थे तथा सुबह हर दिन मंदिर की सफाई किया करते थे। रूपनारायण सिंह काे दाे बेटा साेनू व काेमल है तथा एक बेटी पल्लवी है। साेनू व काेमल मार्बल लगाने का काम करते हैं।

बरारी के स्कूल में एमडीएम बनाता है हत्या का अाराेपी

बहादुर में मंदिर वाली जगह सुनसान है। अासपास काेई घर नहीं है। केयरटेकर की हत्या के बाद वहां भीड़ जुट गयी। परिजनाें ने बताया कि अाराेपी रामप्रसाद बरारी स्थित एक स्कूल में एमडीएम बनाता है। उसकी प|ी व बेटे गांव में किराने की दुकान चलाते हैं। हत्या के बाद सभी घर छाेड़कर फरार हाे गए हैं। पुलिस अाराेपियाें की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है।

20 फरवरी काे भी अाराेपियाें ने की थी मारपीट

परिजनाें ने बताया, गुरुवार शाम 6 बजे वे घर से खाना खाकर मंदिर अाए। प|ी सरिता ने बताया, रात 8.30 बजे तक वे सलामत थे। बेटी पल्लवी ने बताया कि 20 फरवरी काे उसकी मां के माेबाइल पर रामप्रसाद की बेटी व उसके यहां रह रही रिश्तेदार ने मेरी मां काे किया। मां के फोन उठाते ही काट दिया। मां शिकायत करने रामप्रसाद के घर गई ताे उसकी भाभी व मां से मारपीट की। रामप्रसाद व उसके बेटे अमरज्याेति ने पिता काे मंदिर में धमकाया भी था।

परिजनाें का अाराेप-एक साल से प्रतिशाेध की अाग में जल रहा था रामप्रसाद


बहादुरपुर बगान में जांच करती डाॅग स्क्वायड की टीम।

पति की हत्या के बाद मंदिर के बाहर रोतीं सरिता व उसे संभालती महिलाएं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना